Sundar Pichai Biography in Hindi | सुंदर पिचाई की जीवनी

Sundar Pichai Biography in Hindi: नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका हमारे knowledgegrow.in ब्लॉग में। दोस्तो आज में आप लोगो के साथ एक ऐसे सफल और कामयाब इंसान के बारे में बताने वाला हूं। जो एक बिलियनर हैं वो भी जॉब करके, और उस सफ़ल और कामयाब व्यक्ति का नाम Sundar Pichai है।

Sundar Pichai Biography in Hindi | सुंदर पिचाई की जीवनी

दोस्तो इस आर्टिकल को आखिर तक जरूर पढ़िए, क्योंकि दोस्तो इस आर्टिकल के जरिए आप लोगों को बहुत ही यूजफुल जानकारी मिलने वाली है। दोस्तो में आप सभी से उम्मीद करता हूं कि आप लोगो को यह आर्टिकल जरूर पसंद आएगा। तो बिना देर किए चलिए शुरू करते है…

Sundar Pichai Biography in Hindi | सुंदर पिचाई की जीवनी

दोस्तो 18 अक्टूबर 2006 यह वो दिन था, जब माइक्रोसॉफ्ट ने Google को almost रातोरात बर्बाद कर दिया था। दोस्तो हुआ यह था कि सन 2006 के दौरान Internet Explorer दुनिया का सबसे ज्यादा इस्तमाल करने वाला Browser हुआ करता था। तब Microsoft ने रातो रात Internet Explorer से Google को हटाकर Bing को Default Search Ingine बना दिया था। दोस्तो इसी के वजह से Google ने रातोरात Allmost 300 मिलियन कस्टमर लूज कर दिए थे

दोस्तों आज हमे यह केहना सही रहेगा कि शायद आज हम Google को जानते भी नहीं होते अगर Sundar Pichai जी Google में ना होते तो। दोस्तों एक मिडल क्लास परिवार का लड़का जिसके घर में ना तो टीवी होता था और नाही कोई कार थी और आज वो ना सिर्फ मल्टी बिलियनेयर कंपनी Google के Ceo है बल्की इनकी दुसरी और company अल्फाबेट के भी Ceo हैं।

दोस्तो पिचाई सुन्दर राजन जिनको आज हम Sundar Pichai नाम से जानते है। इनका जन्म 1972 में तमिलनाडु का शहर मधुराई में एक लोवर मिडिल क्लास परिवार में हुआ था। दोस्तों इनके पिता रघुनाथ पिचाई जी एक इलेक्ट्रिकल इंजिीनीयर थे और उनकी माता लक्ष्मी
स्टेनोग्राफर का काम किया करती थी।

दोस्तो एक आम मिडल क्लास परिवार की तरह इनका परिवार भी 2 अपार्टमेंट में रहा करता था। उस टाइम पर इनके परिवार की financial situation का अंदाजा इस बात से लगा सकते हो कि इनके पिता को अपने लिए एक स्कूटर खरीद ने के लिए उनको 3 साल तक Savings और Wait करना पड़ा था।

दोस्तों सुन्दर पिचाई जी शुरवात से ही काफी inteligent और होशियार Student हुआ करते थे। इन्होंने 1993 में IIT खडकपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की और इंजीनियरिंग पढाई कंप्लीट करने के Just बाद इन्होंने Stand ford University से स्कॉलरशिप हासिल करली थी। दोस्तों उसके बाद सुंदर पिचाई जी Material & Semiconductor Physics में MS करने केलिए अमेरिका चले गए।

दोस्तो में आप लोगों को बताना चाहूंगा कि जब सुन्दर पिचाई जी अमेरिका चले गए थे तब उनके फ्लाईट का खर्चा उनके फादर के एक साल के सैलरी के बराबर था, फिर भी उनके परिवार ने उनको Support किया और Sundar Pichai जी अमेरिका चले गए।

दोस्तों उस टाइम उनका यह प्लान था कि MS की डिग्री पूरी करते ही बाद में पीएचडी कि पढ़ाई शुरू करेंगे और फिर उन्होंने बीच में ही इस आईडिया ड्रॉप कर दिया, और 1995 में स्टैंड फोर्ड से MS की डिग्री हासिल करने के बाद एप्लाइड मटेरियल नाम कि कंपनी में इंजीनियर और प्रोडक्ट मैनेजर के तौर पर काम करने लगे।

लेकीन इस company में उन्होंने ज्यादा टाइम तक काम नहीं किया और फिर MBA की पढ़ाई करने केलिए उस जॉब को छोड़ दिया और व्हार्टन स्कूल यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिल्वेनिया में MBA केलिए एडमिशन ले लिया। 2002 में इन्होंने यहां से MBA की पढ़ाई पूरी की ओर MBA के जस्ट बाद इन्होंने MCKINSEY में मैनेजमेंट कंसल्टेंट में जॉब join किया।

दोस्तो उसके कुछ ही दिनों के बाद अपनी IIT Batchmates अंजली से शादी करली और सन 2006 वो साल था जब उन्होंने फायनेली प्रेसिडेंट ऑफ प्रोडक्ट के पोस्ट पर Google में जॉब जॉइन करली। और उसी साल Google ने अपना फ्री ईमेल सर्विस Gmail को शुरू किया था। दोस्तों अब में आपको बताऊंगा कि इनकी रियल सक्सेस जर्नी कैसे शुरु हुई और कैसे ये Google के Founder के नजरो में अच्छे, होशियार और काबिल इंप्लॉयर और Ceo साबित हुए।

Google CEO Sunder Pichai Success Story in Hindi

Google को जॉइन करने के बाद इनका पहला शुरवाती प्रोजेक्ट Google Toolbar का था और यह प्रोजेक्ट गूगल केलिए काफी इंपोर्टेंट था। क्योंकि इस टूलबार से लोगों के पास Internet Explorer में गूगल सर्च इंजिन को Default Search Ingine बनाने का ऑप्शन आ जाता था।

दोस्तों तब अरिक्स मेथ Google के CEO थे और उस टाइम पर पिचाई ने अरिक्स मेथ और ल्यारी पेज से बोला कि गूगल टूलबार प्रोजेक्ट तो ठीक है पर हमें खुद का भी एक Browser बनाना चाहिए। तब वो दोनो इस बात से ज्यादा खुश नहीं हुए और सुन्दर पिचाई जी का प्रप्रोजल ठुकरा दिया।

दोस्तों और उन्होंने कहा कि internet explorer ऑलरेडी मार्केट में बहुत ही अच्छे से काम कर रहा है और हम हमारा ब्राउज़र बनाकर ज्यादा कुछ नहीं कर पाएंगे, और उन्होंने कहा की तुम सिर्फ तुम्हारे गूगल टूलबार प्रोजेक्ट को पुरा करो।

तब सुंदर पिचाई जी ने कहा कि एक दिन Microsoft अपना खुद का एक Search Engine बना लेगा और शायद हमें उसके पहले ही खुदका एक ब्राउज़र बना लेना चाहिए और इस बात पर भी उन्होंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया। और सुन्दर पिचाई जी को सिर्फ गूगल टूलबार प्रोजेक्ट पर ही फोकस करने के लिए कहा गया।

दोस्तों उसके बाद सुन्दर पिचाई जी ने इस टॉपिक को फिर कभी नहीं निकाला और गूगल टूलबार प्रोजेक्ट पर ही काम करते रहे। और एक दिन वही हुआ जो सुन्दर पिचाई जी ने पहले ही कहा था। Microsoft ने अपना Search Ingine बना लिया और Internet Explorer Browser से गूगल सर्च इंजिन को हटाकर Bing Search Ingine को डिफॉल्ट सर्च इंजिन बना दिया।

दोस्तो इसी के वजह से Google ने रातो रात 300 मिलियन कस्टमर लूज कर दिए, और तब तक Google ने गूगल टूलबार प्रोजेक्ट को ऑलमोस्ट Complete कर दिया था और बचा हुआ काम पिचाई और उनकी टीम ने जी जान लगाकर बहुत हि जल्दी पूरा कर दिया और गूगल ने Google Toolbar प्रोजेक्ट को मार्केट में लॉन्च कर दिया।

दोस्तों इससे लोगों के पास गूगल को फिर से डिफॉल्ट सर्च इंजिन बनाने ऑप्शन आ जाता था। दोस्तों इस टूलबार से Google को काफी हेल्प मिली और खोए हुए 80% परसेंट कस्टमर भी Google के पास वापस आ गए, और तब तक ल्यारी पेज और आरिक्स मेथ को सुन्दर पिचाई जी की वैल्यू समझ आ गई थी।

दोस्तों इस घटना ने ल्यारी पेज और आरिक्स मेथ को सुन्दर पिचाई जी का प्रपोजल मानने केलिए मजबुर कर दिया और उसके बाद 2008 में Sundar Pichai जी के मैनेजमेंट के अंदर उनके टीम ने Chrome को लॉन्च कर किया। दोस्तों यह अपने आप में Grand Success रहा, क्योंकि कुछ ही दिन के अंदर Chrome Browser दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तमाल करने वाला Browser बन गया था।

Google के इस Project से Sundar Pichai जी को internationally बहुत ही ज्यादा रिकगनेशन मिल गई और 2008 में उनका Voice President of Development पोस्ट पर Pramotion करवा दिया। दोस्तों उसके बाद से Sundar Pichai जी Google को रिप्रेजेंट करते हुए हर प्रोडक्ट को लॉन्च करते वक्त स्टेज पर नजर आने लगे।

दोस्तो 2012 में उन्हें सीनियर Voice President of Chrome and Apps पर भी प्रमोट करवा और बस एक ही साल बाद उन्हें एंड्रॉयड के प्रोजेक्ट को लीड करने कि जिम्मेदारी भी दे दियी गई। तब उन्होंने Android One की शुरवात कियी और पिचाई जी ने इसे 5 बिलियन लोगों तक इसे पोहचाया और बहुत ही कम समय में सुन्दर पिचाई जी को 2014 में उन्हें Head of Product पोस्ट पर प्रमोट करवा दिया।

दोस्तों इस टाइम पर उन्हें हर बड़ी कंपनी से ऑफर आने लगे, यहां तक कि उन्हें Twitter के Ceo और Microsoft के Ceo की भी Offer आ गई थी, लेकिन उन्होंने Google के साथ अपनी लॉयल्टी नहीं छोड़ी और उसके बाद सुंदर पिचाई जी को 2015 में Google के Ceo की पोस्ट Pramote करवा दिया।

दोस्तों कहीं बार इन्हें ल्यारी पेज से भी Better CEO बताया गया है और यू ही नहीं, बल्कि 2019 में इन्हें अल्फाबेट का भी CEO बना दिया गया। दोस्तों अब सुन्दर पिचाई जी को दुनियां के Powerful लोगों में से एक माना जाता है, और हमारे लिए ये गर्व की बात है, कि सुन्दर पिचाई जी एक भारतीय एक Top Company Google के Ceo है।

दोस्तों यह थी Sundar Pichai Biography in Hindi आप सभी को कैसी लगी कृपया कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके हमे ज़रूर बताएं। दोस्तों अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होंगा तो Sundar Pichai Biography in Hindi आर्टिकल को अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर कीजिए।

हमारे अन्य आर्टिकल्स :

दोस्तो फिर मिलेंगे एसे हि एक Intresting आर्टिकल के साथ तब तक केलिए जहा भी रहिए खुश रहिए और खुशियां बांटते रहिए।

धन्यवाद

Leave a Comment