Think and Grow Rich Book summary in Hindi By Napoleon Hill

नमस्ते मेरे भाइयों और बहनों आप सभी का स्वागत है हमारे नॉलेज ग्रो हिन्दी ब्लॉग में, दोस्तों आज का यह आर्टिकल आपके लिए बहुत ही स्पेशल और लाइफ चेंजिंग होने वाला है। क्युकी दोस्तों आज के इस आर्टिकल में आपको Think and grow rich book summary in Hindi में शेयर करने वाला हूं। दोस्तो think and grow rich बुक को अमेरिकन राईटर नेपोलियन हिल ने लिखा है।

दोस्तो think and grow rich book हिन्दी,अंग्रेजी और मराठी जैसे बहुत से भाषाओं में उपलब्ध है। दोस्तो यह बुक १९३७ में पब्लिश हुई थी और थिंक एंड ग्रो रिच बुक, All Time बेस्ट सेलिंग बुक में से एक है।

Think and grow rich book summary in Hindi By Nepolian hill

दोस्तो इसीलिए इस लाईफ चेंजिग बुक समरी को आखिर तक जरूर पढ़े। दोस्तो में ऐसी उम्मीद करता हूं कि आप लोगो को यह hindi book summary जरूर पसंद आएगी। तो बिना देर किए शुरू करते हैं...

Think and Grow Rich Book summary in Hindi By Napoleon Hill


दोस्तों नेपोलियन हिल एक अमेरिकन ऑथर है, जिन्होंने नई सोच के मूमेंट पर लिखा, इने सक्सेस के उपर लिखने वाले महान ऑथर में से एक माना जाता है। दोस्तो इस बुक को लिखने से पहले उन्होंने 500 से भी जादा लोगों के इंटरव्यू लिए थे ,तब जाकर उनको सफल होने का सीक्रेट मिला। 

दोस्तो लेखक Nepolian hill जी ने इस बुक में रिच बनने केलिए 13 चैप्टर्स बताए हुए हैं। अमीर बनने का मतलब लेखक का यह नहीं है
की सिर्फ पैसा कमाना ,उनका अमीर बनने का यह मतलब है की आप जो भी काम करे उसमे आपको सफलता मिले। दोस्तो आज हम इन 13 chapters कि चर्चा इस पोस्ट में करेंगे।

🔸Chapter: - १  विचार ही वस्तु है 


दोस्तो किताब की शुरवात होती है विचार से क्युकी विचार ही सबकुछ है ,अगर आपके पास दमदार विचार है तो आप कुछ भी कर सकते है, और सोच कर कुछ भी किया जा सकता है। दोस्तो इंसान का मस्तिक्ष जो सोच सकता है वो वह कर सकता है, लेखक यहां उदाहरण दे रहे है बार्णस का जो विश्व विख्यात वैज्ञानिक थॉमस एडीसन का बिजनेस पार्टनर बनना चाहता था।

दोस्तो हाला कि उनके चाह में दो बाधाए थी , एक की वह एडीसन को जानता ही नहीं था और दूसरी कि ऑरेंज न्यू जर्सी को जाने केलिए उसके पास पैसे भी नहीं थे जहां थॉमस एडीसन रहते थे। दोस्तो जादातर लोग ऐसी परिस्थिति में गुठने टेक देते है। लेकिन दोस्तो बार्णस ने ऐसा नहीं किया क्युकी बार्णस जी उन लोगो में से नहीं थे, लेखक यहां बात करते है कि असफला का जो आम कारण होता है वह यह कि अस्थाही पराजय के साथ मैदान छोड़ देना। 

दोस्तो अगर आप डटे रहते है तो आपको सफलता जरुर मिलेगी। बार्णस जी उनके प्रयोग शाला में गए भी और सीधे उन्होंने घोषणा की वे उनके बिजनेस पार्टनर बनना चाहते है और उन्होंने मोका आने पर आपना टैलेंट बताते हुए उनका बिजनेस पार्टनर भी बन गए।

तो दोस्तो, अमीर बनने के दिशा में जो तेरा स्टेप्स बताए हुए है उनमें से पहली स्टेप्स है।

१. इच्छा (Desire)


दोस्तों सभी उपलब्धियो का शुरुवाती कदम होता है सफल होने की इच्छा, और यही पहला कदम है। यहां पर लेखक नेपोलियन हिल कहते है कि इच्छा ही सबकुछ है और दौलत निश्चित रूप से आती है।

दोस्तों लेखक नेपोलियन हिल कहते है की अगर उसे हासिल करने की इच्छा हो तो यही इच्छा हमारे दिल और दिमाग पर हावी हो जाती है और एक स्थायी मानसिक अवस्था बन जाती है और फिर इसके पीछे लगन से जुटकर इसे हासिल किया जा सकता है।

दोस्तो इंसान की जो प्रबल इच्छा होती है ना ओ अपनी मूर्त रूप लेने का रास्ता अपने आप खोज लेती है। यहां लेखक आपने छोटे बेटे की कहानी सुना रहा होता है जों जन्म से ही बेहरा होता है , डॉक्टर ने उन्हें कहा होता है कि वह कभी बोल या सुन नहीं सकता।

लेकिन दोस्तो लेखक और उनकी पत्नी की प्रबल इच्छा होती है कि वह बोले और कई सालो बाद ऐसा हुआ भी, यहां लेखक अपने प्रभल इच्छा की ताकद बता रहा होता है और यह असाधारण उदाहरण से यह बता रहा होता है की मस्तीक्ष की कोई सीमा नहीं होती है। 

२. आस्था : -


दोस्तो सफलता कि और दूसरा कदम है आस्था, जो इच्छा को हासिल करने का विश्वास देता है। लेखक यहां बताते हैं की सकारात्मक भावनाओं में सबसे सशक्त भाव होते है और वो तीन तरह के वह है... प्रेम, इच्छा और सेक्स।

आस्था का मतलब यह है कि बार बार आपने अवचेतन मन को निर्देशित करना, अपने इच्छा के बारे में, अपने लक्ष्य के बारे में और अगर आपके अवचेतन मन में आस्था ने घर बना लिया है तो उसे सच साबित करने में देर नहीं लगती है। दोस्तों अगर आप आपने अवचेतन मन में नकारात्मक विचार भरेंगे तो उसके नकारात्मक रिजल्ट आएंगे और अगर आप अपने अवचेतन मन में सकारात्मक विचार देंगे तो उसके सकारात्मक परिणाम आएंगे।

दोस्तो आपका जो भी लक्ष है उसे आप एक कागद पर लिखे और उसे आप बार बार दोहराएं, ताकि उसका स्पष्ट चित्र आपके अवचेतन मन में बन जाएं। दोस्तो मे आपको एक उदाहरण से समझाता हूं.... दोस्तो अगर आपको अपना एक घर बनाना है तो आपके दिमाग में उसका स्पष्ट चित्र होना चाहिए की यह घर कैसा होगा। 

४. आत्मसूजाव: - 


दोस्तो सफलता कि और तीसरा कदम है आत्मसूजाव, दोस्तो आत्मसूजाव का मतलब यह है कि खुदके दिमाग को समझाना। यहां पर लेखक का केहना यह है कि जो भी लक्ष को आप पाना चाहते है उसको आपने अवचेतन मन घुसाए।

दोस्तो अब आपका सवाल होगा की अपने लक्ष को आपने अवचेतन मन में केसे घुसाए ? उसके लिए लेखक ने तीन सुझाव दिए है। दोस्तो इन 3 सज्जेशन से आप आपने लक्ष को हासिल कर सकते है। 

दोस्तो पहले आप अपने लक्ष को एक पेपर पर लिखे और उस लक्ष को कितने दिन में हासिल करेंगे यह भी लिखें, दूसरा यह कि फिर एक शांत जगह पर जाकर बैठे और अपना लक्ष बार बार दोहराएं और तीसरा यह है कि इस लक्ष्य को सुबह और शाम दो टाइम दोहराए। दोस्तो अगर आप सुबह उठने के बाद और रात्रि को सोने से पहले जरूर करेंगे तो आपके लिए better रहेगा।

दोस्तों ध्यान रहें कि, आप जो भी शब्द बोलेंगे वो भाव पूर्ण होने चाहिए। बिना भाव के आपका अवचेतन मन उन बातों को कभी नहीं मानेगा। लेखक का केहना कि हर मुश्किल हर असफलता हर दुःख इसके बराबर या इससे भी बड़ा लाभ छुपा हुआ होता हैं।

5. विशेष ज्ञान : -


दोस्तो सफलता कि और 4 चौथा कदम है विशेष ज्ञान या व्यक्तिगत अनुभव। दोस्तो आपने जो भी लक्ष चुना है उसका ज्ञान आपके पास होना चाहिए, अगर आपके पास उस क्षेत्र का ज्ञान नहीं है तो आपको उस क्षेत्र ज्ञान हासिल करना होगा, नहीं तो बिना ज्ञान के कोरी कल्पना का कोई फायदा नहीं होता है। दोस्तो मे आपको एक उदहारण देकर समझाता हूं...

दोस्तो अगर आप एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हो, तो आपको कंप्यूटर और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का ज्ञान होना बहुत ही आवश्यक है। यदि आपके पास नॉलेज नहीं है तो आप उस काम को कभी नहीं कर पाएंगे। 

एक और रास्ता है और वह यह है कि मास्टर माइंड समूह अगर आप आपने पास मास्टर माइंड समूह रखते है यानी कि ऐसे लोगो का ग्रुप जो उस काम में उनको मास्ट्री मिली हो इसका मतलब यह है कि उस ग्रुप के लोंग उस काम में मास्टर हुए हो ऐसा ग्रुप...

फिर उस मास्टर माइंड के सहारे आप कुछ भी कर सकते हो। इसका सबसे बेस्ट उदाहरण है हेनरी फोर्ड , दोस्तों हेनरी फोर्ड और उनके टीम के सहारे उन्होंने 1 billion डॉलर की कंपनी खड़ी कि थीं।

6. कल्पना : -


सफलता की दिशा में पाचवा कदम है कल्पना, लेखक ने इसे मस्तीक्ष की वर्कशॉप कहा है। दोस्तो इंसान जिस भी चीज की कल्पना कर सकता है तो उस चीज की रचना भी कर सकता है। जब एक आदमी यह कल्पना कर सकता है कि में एक BMW गाड़ी खरीद सकता हूं तो वह आदमी इस किताब में बताए हुए 13 स्टेप्स के सहारे वह आदमी BMW गाड़ी को खरीद सकता है। 

दोस्तो यहां लेखक बता रहे है कि एक युवा कि विश्व प्रतिसद ब्रैंड कोकोकोला कंपनी की जो खरबोकी मार्केट वैल्यू में ड्रिंक इंडस्ट्री में पहले स्थर पर है। जिसने कोकाेकोला का फार्मूला बनाया था उसको यह पता नहीं था कि यह पदार्थ इतना बड़ा रूप धारण कर सकता है, पर उस फार्मूला को जिस युवा को बेचा उसके मन यह था कि में इसे सारी दुनिया को बेचूंगा और पैसे कमाऊंगा और उसने ऐसा किया भी।

७. सुव्यवस्था : -


दोस्तो सफलता कि और छटा कदम है सुव्यवस्था, यानी कि जो चीज आप हासिल करना चाहते है उसकी सुव्यवस्था प्लानिग हो तो उसको हासिल करने में सहायता मिलती है। आप जिस चीज को हासिल करना चाहते है उसकी निश्चित योजना बनाए। आपको इसकी प्लानिंग करनी होगी कि यह चीज मुझे कैसी मिलेगी। दोस्तो यहां लेखक नेपोलियन हिल कहते हैं किं अगर आप एक योजना में असफल हो जाए तो डरना नहीं लक्ष को निर्धारित करते हुऐ उस प्लानिंग को चेंज करे और आगे बढ़ते रहिए।

८. निर्णय: -


दोस्तो सफलता कि और 7 वा कदम है निर्णय,  the ability of decession making इसका मतलब यह है की टालम टोल करने की आदत पर विजय पाना। यह गुण हेनरी फोर्ड के गुणों में से उत्कुष्ट गुण था। हेनरी फोर्ड तत्काल निर्णय लेते थे और उसपर अडिग रहते थे। 

लेखक यहां पर केहते है कि राय दुनिया की सबसे सस्ती वस्तु है, इसीलिए अपने निर्णय खुद ले। जिन लोगों में निर्णय लेने की ताकद होती है ,उन्हें पता होता है कि उन्हें क्या चाहिए? अनिर्णय की क्षमता बहुत लोगों में बचपन से ही शुरू ही जाती है। निर्णय लेने की क्षमता में सुधार करना आवश्यक है। दोस्तो निर्णय लेने केलिए ताकद की जरूरत होती है, जो बहुत ही कम लोगों में देखने को मिलती है।

9. लगन : -


दोस्तो सफलता कि और ७ वा कदम है लगन कि शक्ति, दोस्तो लगन के पीछे कोई बड़ा हात छुपा हुआ नहीं है। फिर भी यह गुण इंसान केलिए उतना ही जरूरी जितना स्टील केलिए कार्बन। 

दोस्तो आज के युग की बात करे तो जो जों लोग सफल और कामयाब हुए हैं, उन लोगो का एक कॉमन गुण है कि उनको अपने काम मै लगन थीं। नेपोलियन हिल इस अध्याय में केह रहे है कि अगर हमारे अंदर लगन कि कमी है तो लगन को केसे विकसित किया जाएं, इसलिेए लेखक ने 4 रास्ते बताए हुए हैं।

🔸 निश्चित लक्ष और उसके पीछे प्रबल इच्छा

🔸 आपके पास निश्चित योजना होनी चाहिए जिसपर लगातार काम किया जाए।

🔸 एक दिमाग जो नकारात्मक विचारों को कोसो दूर रखे।

🔸चौथी चीज आपके पास होनी चाहिए वह यह है कि एक या अधिक लोगों का गठबंधन जो आपको प्रोत्साहित करता रहे। 

यहा पर लेखक का मतलब यह है कि मास्टर माइंड ग्रुप

१०. स्वयंम की शक्ति को बढ़ाना 


सफलता कि और 10 वा कदम है, स्वयंम की शक्ति को बढ़ाना। दोस्तो स्वयंम की शक्ति को केसे बढ़ाया जाए इसके लिए लेखक केह रहे हैं कि अगर आपके पास स्वयंम शक्ति है तो आप सबकुछ कर सकते है।

अगर आपके पास स्वयंम शक्ति नहीं है तो आप कुछ भी नहीं कर सकते। दोस्तों सफलता के लिए स्वयंम की शक्ति का होना बहुत ही जरुरी है। दोस्तो मस्तिष्क की शक्ति को कई गुना बढ़ाने के लिए लेखक नेपोलियन हिल बैटरी का उदाहरण देते है।

दोस्तो अगर एक बैटरी की जगह बैटरियों का समूह बनाया जाए तो वह जादा पॉवर देगी। एक से ज्यादा दिमाग को एकत्रित किया जाए तो अपने शक्ति में बढ़ोतरी होगी। यहा पर ऑथर (लेखक) मास्टर माइंड ग्रुप कि बात कर रहे है। 

११. Sex Transmutation: -


सफलता कि और 10 कदम है Sex Transmutation है। दोस्तो इसका मतलब यह है कि एक ऊर्जा को दूसरे रूप में बदलना। बहुत लोग सेक्स को सिर्फ शारीरिक सुख के रूप में लेते है, पर लेखक इसके पीछे तीन संभावना देते हैं।

1. मानव जाती का अस्थाईकरण

2. स्वास्थ्य को बढ़ाना

3. सामान्य से असामान्य कि और बढ़ना 

दोस्तो बहुत लोग कामवासना के कारण अपने आप को उपर उठाने के बजाय नीचे गिरा देते है। यहां पर लेखक नेपोलियन हिल कहते है कि पुरुश की सबसे बड़ी प्रेरक शक्ति होती है महिला को प्रसन करने की इच्छा जो कि प्रिहिस्टरी से चली आ रही है। अगर महिलाओं को हटा देते हैं तो यह काम नीरस और बेजान हो जाएगा।

लेकिन दोस्तों कामवासना का रूपांतरण जिसे Sex Transmutation भी कहा जाता है उसका होना बहुत जरूरी है। इस एनर्जी को दूसरे रचनात्मक कामों में लगाया जाएं तो बड़े से बड़े असंभव कामो को भी संभव कर सकती है, लेकिन कामवासना से लिपटा हुआ इंसान कभी भी सफल नहीं हो सकता।


12. अवचेतन मन का कंट्रोल : -


सफलता कि और 11 वा कदम है आपने अवचेतन मन का कंट्रोल, दोस्तो अवचेतन मन वह क्षेत्र है जिसे अपने चेतन मन के द्वारा जो बाते पोहचाही जाती है उसका रिकॉर्ड वहां रहता है। यह विचार और तस्वीरो का ग्रहण कर लेता है, चाहे वे कैसी भी हो, अच्छी या बुरी। दोस्तो अगर हम अपने अवचेतन मन तक सकारात्मक विचार पोहचाएंगे तो उसके परिणाम अच्छे और सकारात्मक होंगे और नकारात्मक विचार पोहचाएंगे तो उसके परिणाम नकारात्मक आएंगे। 

लेखक द्वारा कुछ सकारात्मक भाव बताए गए है जो है... इच्छा, प्रेम ,आस्था, आशा आदि... 
लेखक द्वारा कुछ नकारात्मक भाव बताए गए है उनसे आपको दूर रहना है और वह है... डर, प्रतिशोध, घृणा, लालच, कपट, अंधविश्वास और क्रोध आदि...


१३. Brain ( दिमाग )


सफलता कि और 12 वा कदम है अपने दिमाग की देखभाल करना, दोस्तो हमारा दिमाग दो तरह से काम करता है और हमारे दिमाग के दो भाग होते है, एक ब्रॉडकास्ट सिस्टम और रिसीविंग सिस्टम। मस्तिष्क की शक्ति असीम होती है इसका इतिहास गवाह है। इसीलिए हमारे दिमाग के सिस्टम को हमेशा अपडेट रखे और दिमाग को हमेशा फ्रेश रखे।

14. छटि इन्द्रिय का प्रयोग : - 

दोस्तों सफलता कि और 13 वा कदम है, अपनी छटि इन्द्रिय का प्रयोग करना। दोस्तो यहां लेखक हमे महत्वपर्ण बात याद दिलाते है कि सफलता के सीढ़ी के उपर की तरफ कभी भी ज्यादा भीड़ नहीं होती। दोस्तो आप इस बुक के 12 सिधांतो को पूरी तरह अपनाकर ही आप 13 वे सिद्धांत को अपना सकते हो।

विज्ञान अब तक इसकी खोज नहीं कर पाए है, की छटी इन्द्रिय नेमकी है क्या ? और छटी इन्द्रिय वह रचनात्मक कल्पना शीलता है, जिसके द्वारा विचार और अपने दिमाग में गिनती है और यह सब बहुत कम लोगों को पता है। 

दोस्तो यह तो think and grow rich book का छोटा सा सारांश था, दोस्तों अगर आपको इस बुक को पूरी तरह से समझना है और सफल आदमी बनना है तो आपको इस किताब को खरीदना चाहिए या इस बुक कि पीडीएफ फाइल डाउनलोड करके पढ़ना चाहिए। 

Think and grow rich book hindi pdf free download


दोस्तों अगर आपको थिंक एंड ग्रो रिच किताब कि हिन्दी पीडीएफ फ़ाइल फ्री में डाउनलोड करना चाहते हैं तो आप नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करके आप थिंक एंड ग्रो रिच किताब को फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं। और अगर आपको यह किताब खरीदना हैं तो खरीदने कि लिंक भी निचे दी हुई है.

🔹Hindi Book pdf:

Wait For 3 Sec pdf Download: - क्लिक कीजिए


🔹Marathi book Pdf :

Wait For 3 Sec Pdf Download: - क्लिक कीजिए

Direct Download : - क्लिक कीजिए

🔹English Book Pdf

Wait For 3 Sec pdf Download: - क्लिक कीजिए

Direct Download : - क्लिक कीजिए

🔹Hindi Book : - buy now

🔹Marathi Book : - buy now

🔹English Book : - buy now


जरूर पढ़े : - the alchemist Book summary in HindI


Conclusion: -

दोस्तो किताब की समरी खत्म होने के बाद,अपने यह गौर किया होगा कि जब आप यह किताब कि समरी पढ़ते वक्त आप अपने मानसिक स्तर के उचे स्तर में उठ गए है यही इस बुक का लक्ष्य है। आप इस आर्टिकल से समझ गए होंगे कि सोचकर अमीर बन सकते हैं।

दोस्तो हमारे द्वारा किया हुआ प्रयास और think and grow rich book summary in Hindi अगर आपको अच्छी लगी हो और आपके लिए उपयोगी साबित हुई हो तो हमे नीचे कमेंट करके ज़रूर बताएं और इस आर्टिकल को आपके दोस्तो के साथ फेसबुक और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया साइट्स पर जरूर शेअर करिए...


दोस्तों हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे नॉलेज ग्रो टेलीग्राम चैनल को जरूर subscribe करिए। दोस्तो फिर मिलेंगे ऐसे ही एक इंटरेस्टिंग और शानदार आर्टिकल के साथ तब तक केलिए जहा भी रहिए खुश रहिए...

धन्यवाद !!!!

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां