The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi

The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi:

नमस्ते देवियों और सज्जनों, आप सभी का नॉलेज ग्रो हिन्दी ब्लॉग पर स्वागत है। दोस्तों आज का यह आर्टिकल आप सभी केलिए बहुत ही स्पेशल और शानदार होने वाला है। क्योंकि दोस्तो आज के इस आर्टिकल में हम आपके साथ शेयर करने वाले हैं, किसी भी इंसान को सफल और कामयाब बनाने वाली बुक The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi मैं।

The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi
The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi
अनुक्रम दिखाएँ

The Magic of Thinking Big Book किन लोगों केलिए हैं?

  • वे लोग जो आत्मविश्वास की ताकत के बारे मैं जानकर उसे बढ़ाना चाहते हैं।
  • वे लोग जो अपने डर पर काबू पाना चाहते हैं।
  • वे लोग जो कामयाबी हासिल करने के तरीको के बारे में जानना चाहते हैं।

The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi – बड़ी सोच का बड़ा जादू

दोस्तो the magic of thinking Big Book में बताया गया है की, बड़ा सोचने से और खुद पर भरोसा करने से आप किस तरह से दूसरो का भरोसा जीत सकते हैं और खुद कामयाब हो सकते हैं। इस किताब के मदद से आप अपने डर पर काबू करके उस पर जीत हासिल कर सकते हैं। और उसीके साथ साथ अपनी गलतियों से सबक लेना सिखकर कामयाबी हासिल कर सकते हैं। तो चलिए दोस्तो इस किताब की समरी को शुरू करते हैं।

किसी भी काम को शुरू करने से पहले आपको खुद पर भरोसा करना होगा।

दोस्तो हम सभी के पास एक लक्ष होता हैं और कुछ लोग उस लक्ष को पाने के लिए घर से बाहर निकल चुके हैं, तो कुछ लोग अभी यह सोच रहे हैं की उन्हें कब शुरू करना चाहिए। जो लोग शुरू करने के बारे मे सोच रहे हैं, उनके मन में यह सवाल जरूर आया होगा की – शुरवात कहा से की जाए? तो आइए इस सवाल का जवाब देने की कोशिश करते हैं।

दोस्तो शुरवात करने से पहले आपको खुद पर भरोसा करना होगा की आप वह काम कर सकते हैं। अगर आप खुद पर भरोसा नहीं करते हैं, तो आप वह काम कभी नही कर पाएंगे। क्योंकि खुद पर भरोसा करने से आपका दिमाग एक क्रिएटिव पावर को पैदा करता है, जो आपको आपके मंजिल तक जाने का रास्ता दिखाता है। इस क्रिएटिव पावर की मदद से आप मुश्किल से मुश्किल हालात से निकलने का रास्ता खोज कर बड़े से बड़े काम को पूरा कर सकते हैं।

दोस्तो खुद पर भरोसा करने के और भी बहुत से फायदे हैं। McKinsey Foundation for management research ने अपने एक स्टडी में बिसनेस, गवरमेंट, साइंस और धर्म के लीडर्स और लोगों से यह पूछा की वे किस तरह के लोगों के साथ काम करना पसंद करते हैं? उन में ज्यादा तर लोगों ने यह कहा की वे उनके साथ काम करना चाहेंगे जिसके अंदर आगे बढ़ने की और सब को आगे ले जाने की ख्वाइश हो।

जो इंसान खुद पर जितना ज्यादा विश्वास करेगा वो उतना ज्यादा आगे जायेगा। दोस्तो इसका मतलब है ज्यादातर लोग उसके साथ काम करना चाहते हैं जो खुद पर भरोसा करता हो। खुद पर भरोसा करने वाले लोग जल्दी हार नही मानते हैं और समय के साथ वे लोगो का भरोसा भी जीत लेते हैं।

अपने दिमाग को कामयाब लोगों की तरह सोचने पर मजबूर कीजिए।

दोस्तो कामयाब और नाकामयाब लोगों में सिर्फ सोचने का फर्क होता हैं। इसीलिए अगर आपको कामयाब इंसान बनना है, तो आपको अपना सोचने का तरीका बदलना होगा।

दोस्तो दिमाग की कसरत दो तरह से होती है।

किसी भी चीज को याद करना और किसी समस्या से निकलने केलिए एक अलग और नया रास्ता खोजना। दोनो ही चीजे बहुत जरूरी है, लेकिन कामयाब लोग कुछ अलग  और कुछ नया सोचने की कोशिश करते हैं। वे किसी भी समस्या के हल को याद करने के बजाय खुद के हल बनाते हैं और उन्हें इस्तमाल करते हैं।

दूसरी तरफ अगर आप सिर्फ चीजों को याद करते रहेंगे तो समय के साथ उसे भूल जायेंगे। चीजों को याद करना कभी कभी हमारे लिए बहुत जरूरी हो सकता हैं। लेकिन इसमें आपको अपना ध्यान नहीं लगाना चाहिए, जब भी आपका सामना किसी समस्या से हो तो आप किसी किताब में उससे निकलने का तरीका खोजने के बजाय खुद से उसका हल निकालिए। इससे आपका दिमाग भी तेज होगा और आप किसी भी चुनौती का सामना कर के उसका हल निकालने में माहिर बन जायेंगे।

आप अपने सोचने की क्षमता को तीन तरीको से बढा सकते है।

  1. नए आईडियाज को हमेशा खोजते रहिए।
  2. नए काम करने के मौको को मत गवाएं।
  3. रोज सुबह 10 मिनिट इस सवाल का जवाब देने में बिताए की – आप किस तरह से खुद को अपने काम में बेहतर बना सकते है?

इसके अलावा आप ऐसे लोगों के साथ अपना समय बिताइए जो आपसे अलग सोचते हो या जिनका काम करने का तरीका आपसे ना मिलता हो। ऐसा करने से आपको नई जानकारी मिलती रहेंगी, जिसका इस्तमाल कर आप अपने काम करने के तरीके को पहले से बेहतर बना सकते हो।

अपने दिमाग से नेगेटिव बातो को निकाल दीजिए।

दोस्तो negative बाते करने और सुनने से हमारा हौसला कम होता हैं। ये नेगेटिव बाते हमे अंदर ही अंदर कमजोर बना देती है, और समय के साथ ये हमारे अंदर कुछ इस तरह से बैठ जाती है की जिससे इनके होने का हमे पता भी नहीं चलता। लेकिन अगर आप सफल इंसान बनना चाहते हैं, तो आपको अपने अंदर से इन सभी बातों को निकालना होगा।

इसकी शुरवात करने के लिए सबसे पहले आपको उन चीजों से दूर रहना है, जहा से नेगेटिव बातें आपके कानों में जाती है। आप हर उस व्यक्ति या चीजों से दूर रहिए जिससे आपके अंदर नेगेटिवीटी आती हो। बहुत सारे पैदाइशी कामयाब लोगों के सपनो को नेगेटिव लोगो ने यह कहकर मार दिया की वे अपने सपने को पूरा नहीं कर सकते। दोस्तो नेगेटिव लोगो के पास किसी समस्या का समाधान नहीं होता हैं। उनके लिए समाधान ही समस्या होती हैं।

इससे बाहर निकलने केलिए रोज सुबह कुछ अच्छा बोलकर या कुछ अच्छा पढ़कर अपने दिन की शुरवात कीजिए। आप खुद के बारे में अच्छा सोचिए और यह देखिए की आपके अंदर क्या खुबिया है, जो बाकी लोगों में नही है। इन खूबियों को एक कागज पर लिखिए और हर रोज इसे जोर जोर से पढ़िए। इससे आप खुद पर भरोसा करना सीख जायेंगे और नकारात्मकता को अपने अंदर से निकाल सकेंगे।

जब आपको अपने अंदर के खूबियों के बारे में पता चले तब आप उन खूबियों पर ध्यान दीजिए। इन पर काम करके आप खुद को पहले से ज्यादा बेहतर और दूसरो से अलग बना सकते हो। आप हमेशा अच्छा सोचिए और कभी भी किसी नेगेटिव चीजों को अपने रास्ते में मत आने दीजिए।

दुसरो की मदद से आप जल्दी कामयाब बन सकते हैं।

दोस्तो अगर आपको उपर उठना है तो सबसे पहले आपको लोगो के साथ रिश्ते अच्छे बनाने होंगे। रिश्ते बनाना कामयाबी केलिए बहुत जरूरी है क्योंकि इसके बिना आप जल्दी कामयाब को हासिल नही कर सकते है। इसीलिए इस बात का ध्यान रखिए कि हर किसी से अच्छे से बात कीजिए।

किसी भी बिसनेस में कामयाब होने केलिए यह बहुत जरूरी है की उसके कर्मचारियों के बीच संबंध अच्छे हो। इसके अलावा मैनेजर और कर्मचारियों में भी अच्छे संबंध होने चाहिएं। ग्राहक और कंपनी के बीच में अगर संबंध अच्छे नहीं हैं, तो कंपनी कभी भी कामयाब नही होगी। इसीलिए हर एक इंसान का हर एक व्यक्ति से अच्छा संबध होना चाहिए।

अगर कोई व्यक्ति आप पर गुस्सा कर रहा है तो समझ जाइए की वो व्यक्ति आपकी इज्जत नहीं करता है। वो आपकी इज्जत इसीलिए नही करता है क्योंकि आप उसकी इज्जत नहीं करते हैं। अगर आप चाहते हैं की हर कोई आपकी इज्जत करे तो आपको हर किसी को सम्मान देना होंगा, और ये लोग ही आपको उपर उठने का काम करेंगे। आप कभी भी अकेले कामयाबी हासिल नहीं कर सकते हैं। ज्यादातर सफल लोग ऐसे ही सफल हो गए हैं।

दोस्तो वे अपने आसपास के लोगों के साथ अच्छे संबंध स्थापित करते हैं और समय आने पर वही लोग उनकी मदद करते हैं, जिससे उनकी रफ्तार और ज्यादा बढ़ जाती है। इसीलिए दोस्तो आप भी हर रोज जिस व्यक्ति से भी मिले आप उसका नाम याद कीजिए और आप उनकी हर कामयाबी केलिए उनको मुबारकबाद दीजिए और उनके साथ अच्छा व्यवहार कीजिए, जैसे वे ही आपको कामयाबी तक ले जाने का काम करने वाले हैं।

अपनी संगति को अच्छी रखकर आप खुद को हर वक्त मोटिवेट कर सकते है।

दोस्तो कामयाब लोग हमेशा अपने सपनों की और कामयाबी की बाते करते हैं। वे दिन रात अपने काम के बारे में सोचते रहते हैं, और उसे करने केलिए नए और आसान तरीको के बारे में सोचते हैं। वे अपने आप को पहले से बेहतर बनाने की कोशिश करते हैं और दूसरी तरफ नाकामयाब लोग हमेशा टीवी देखते रहते हैं और एक साथ बैठकर गप्पे मार रहे होते है।

अगर आप एक साल तक 5 कामयाब लोगों के साथ कनेक्ट रहते हैं, तो एक साल बाद 6 वे कामयाब व्यक्ति आप ही होंगे। दूसरी तरफ 2 या 3 महीनों केलिए अगर आप 2 चार शराबियो के साथ अपना समय व्यतीत करते हैं, तो 5 वे शराबी आप ही बनेंगे। इसीलिए आप जैसा बनना चाहते हैं वैसे लोगों के साथ ही रहिए।

अपने आस पास कामयाबी का माहौल तैयार करके आप एक कामयाब सोच विकसित कर सकते है। आप जिनके साथ उठते बैठते हैं आप उनके जैसे ही बन जाते हैं। इसलिए अपने काम पर, अपने घर पर, और समाज में सिर्फ उन्ही लोगों के साथ संबंध स्थापित कीजिए जो आपकी तरह कामयाब होना चाहते हैं और आप पर भरोसा करते हैं। ऐसे लोग आपको हमेशा मोटिवेट करेंगे और आपके कामयाबी के रास्तों को आसान बनाएंगे।

इसके अलावा आप सफल लोगों द्वारा लिखित किताबो को और उनकी जीवनी को हमेशा पढ़ते रहिए। अगर आप एक कामयाब बिसनेस मैन बनना चाहते हैं तो आप बिल गेट्स, स्टीव जॉब्स और एलोन मस्क जी के बारे में पढ़िए, अगर आप इन्वेस्टर बनाना चाहते है तो आप वारेन बफेट जी के बारे में पढ़िए। आप अपने माहौल को बेहतर बनाकर आप खुद को पहले से ज्यादा बेहतर बना सकते हो।

आपका एटीट्यूड ही आपकी सोच का आइना है।

दोस्तो हमारा एटीट्यूड हमारी बारे में बहुत सी बाते बताता है। हमारी बात करने के तरीके की आवाज हमारे शब्दों से ज्यादा ऊंची होती है। बोलना सीखने केलिए हमे शुरवाती के दो साल लग जाते हैं, लेकिन कैसे बोलना है यह सीखने केलिए हमे कई साल लग जाते है। पुराने समय के लोगो को बोलना या लिखना नहीं आता था, वे लोग एक दूसरे के हाव भाव से ही उनके मुड़ का पता पता लगाते थे।

आज के समय में हमे बोलना और लिखना दोनो आता है। लेकिन हम फिर भी एक दुसरो के हाव भाव से उनके मुड़ का पता लगा सकते है। हमारे पूर्वजों की यह खूबी आज भी हमारे अंदर है, इसीलिए इस पर खास ध्यान देने की जरूरत है। एक अच्छा एटीट्यूड बनाने केलिए आपको अपने काम पर भरोसा होना चाहिए। अगर आपको पता है की आप जो भी काम कर रहे हैं, वो सही है तो आपका आत्मविश्वास बढ़ जायेगा और आप एक अच्छे एटीट्यूड को अपने अंदर जगह दे पाएंगे।

दूसरी तरफ अगर आप ऐसा काम कर रहे हैं, जो आपको पसंद नहीं है या वो काम गलत है तो आपका आत्मविश्वास कम हो जायेगा। इससे आपका मूड खराब रहने लगेगा और इससे आपके अंदर नेगेटिव एटीट्यूड बनने लगेगा। इसलिए आप वही काम कीजिए जो सही है और आप हमेशा अच्छे और साफ सुधरे कपड़े पहनिए इससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ जायेगा।

जब आपको लगेगा कि आपके आस पास के लोग आपके बारे में अच्छा सोच रहे हैं, तो आप भी अपने बारे में अच्छा सोचने लग जायेंगे।

अपने डर को आत्मविश्वास से खत्म किया जा सकता है।

दोस्तो हम में से हर किसी को एक ना एक बार किसी काम को करने से डर लगा है। कभी कभी हमे किसी काम को करने में हिचकिचाहट होती हैं, जिससे हम वो काम नही कर पाते हैं। ये डर और हिचकिचाहट आपको कामयाब होने से रोकती हैं। इसीलिए इसे अपने अंदर से निकालना बहुत जरूरी है।

सबसे पहले आपको यह जानना होंगा की यहां पर हर किसी को डर लगता है। अगर आपको डर लग रहा है तो इसमें कोई नई बात नहीं है। दोस्तो बहादुर से बहादुर लोगों को भी डर लगता है लेकिन उस पर वो काबू पा लेते है, जिसकी वजह से ही उन्हें बहादुर कहा जाता हैं। इसीलिए आपको भी अपने डर पर काबू पाना सीखना होगा।

दोस्तो अपने अंदर के डर को खत्म करने की दवा का नाम है – आत्मविश्वास यानी की सेल्फ कॉन्फिडेंस। दोस्तो ये आपके अंदर के डर को खत्म भी कर देगा और आपके अंदर नए डर को पैदा होने से भी रोकेगा। लेकिन अपने अंदर के सेल्फ कॉन्फिडेंस को बढ़ाने केलिए आपको मेहनत करनी होगी। दोस्तो अपने सेल्फ कॉन्फिडेंस को बढ़ाने के कुछ तरीके नीचे दिए हुए है।

आप सदा आत्मविश्वास से भरे होने का नाटक कीजिए। आप यह दिखाए की आप पूरी तरह से खुद पर भरोसा करते हैं और इससे आप अपनी भावनाओं पर काबू पा सकते हैं। समय के साथ आपको इसकी आदत पड़ जाएगी।

अपने चलने के स्पीड को थोड़ा सा बढ़ा दीजिए।

Presentation के वक्त हमेशा आगे बैठिए।

लोगों से ज्यादा आंखे मिलाइए।

ऐसा करने से आप लोगों से अपना मिलना जुलना बढ़ा सकते हैं, जिससे आपका सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ेगा। आपको हमेशा अपने सेल्फ कॉन्फिडेंस पर काम करते रहना होंगा।

कामयाब लोग फिर से कोशिश करते हैं, जब की नाकामयाब लोग बहाने बनाते हैं।

दोस्तो हर कामयाब व्यक्ति पहले नाकामयाब व्यक्ती था लेकिन उसने तब तक हार नही मानी जब तक की वो कामयाब नही बन गया। कामयाब लोग 100 बार गिरने पर भी हार नही मानते हैं और उठ खड़े होते है। क्योंकि वे जानते हैं की ठोकरें जहर नही है की जिन्हे खाकर वे मर जायेंगे। इसीलिए वे हर पल कोशिश करते रहते हैं, और वक्त के साथ कामयाब और सफल आदमी बन जाते हैं।

दूसरी तरफ असफल लोग एक बार हारने के बाद बहाने बनाने लगते है और फिर से कोशिश नही करते हैं, और दूसरो को समझाने लगते है की मैं क्यों हार गया। उन्हें इस बात का जरा भी एहसास नहीं होता हैं की जीन हालात के सामने वे घुटने टेक रहे हैं, उनसे भी खराब हालात में किसी ने कामयाबी हासिल कर ली थी। उन्हें नही पता होता की समस्याएं सभी को झेलनी पड़ती है।

दोस्तो कामयाबी के रास्ते पर निकलने से पहले यह बात अपने दिमाग में बैठा लीजिए की आपका सामना असफलता से होने वाला है। एक बार सफलता हासिल करने केलिए आपको कई बार असफलता का सामना करना होगा। इसीलिए अपने हौसलो को मजबूत बनाइए और सफलता हासिल करने केलिए आगे बढ़ने का फैसला किजिए।

चुनौतियों का सामना करके आप सफलता के लायक बन जायेंगे। इस दुनिया में हर एक चीज की कीमत होती हैं। अगर आपको वह चीज चाहिए तो आपको उस चीज की कीमत चुकानी पड़ेगी।

अपनी मंजिल को हासिल करने केलिए आप एक प्लान बनाएं और अपनी गलतियों से सीख लीजिए।

अपनी मंजिल तय करना कामयाबी के रास्ते का सबसे पहला और सबसे आसान कदम है। अपने सपनों को सच करने के लिए आपको बहुत से मुश्किल रास्तों से हो कर गुजरना होगा। इसके लिए आपको एक प्लैन की जरूरत पड़ेगी। इसके लिए सबसे पहले आपको यह देखना होगा कि कामयाब लोगों ने वो रास्ता कैसे तय किया था।

इसमें आपको यह लिखना होगा कि कब आपको क्या काम करना है और उस काम का नतीजा आपको कब देखने को मिल सकता है। आप चाहे कितना भी अच्छा प्लैन क्यों न बना लें, आपको नाकामयाबी का सामना करना ही होगा। कामयाबी के रास्ते सीधे नहीं होते हैं और इसमें आपको हारना होगा, गिरना होगा, लेकिन हर बार आपको फिर से कोशिश करने के लिए उठना भी होगा।

अपनी हर नाकामयाबी के बाद आप उससे सीख लीजिए। आप खुद को दोष मत दीजिए और ना ही किसी और को। आप खुद से यह सवाल कीजिए की – आपने क्या किया होता जिससे आप नाकामयाब ना हुए होते? दूसरे शब्दों में आप यह सोचिए कि आप से कहाँ गलती हुई है। आप अपनी गलतियों से सीखने की कोशिश कीजिए।

दोस्तो अपनी मंजिल को पाने के लिए आपको लगातार कोशिश करनी होगी। इसके लिए आपको अपनी गलतियों से और दूसरों की गलतियों से सीखने की जरूरत पड़ेगी। आप जितना ज्यादा सीखेंगे उतने मजबूत बनेंगे और कामयाबी के उतने नजदीक पहुंच जाएंगे।

हमारे लोकप्रिय आर्टिकल्स

  1. The Compound Effect Book Summary in Hindi
  2. कौन रोएगा आपकी मृत्यु पर कंप्लीट हिंदी बुक समरी
  3. Secrets of Millionaire Mind Book Summary in Hindi
  4. The Miracle Morning Book Summary in Hindi
  5. Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi
  6. The Alchemist Book Summary in Hindi
  7. Financial Freedom Book Summary in Hindi
  8. Richest Man in Babylon Book Summary in Hindi
  9. Chanakya Niti Book Summary in Hindi

Conclusion of The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi :

दोस्तो आज आपने The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi आर्टिकल को पढ़कर यह सीखा की खुद पर भरोसा करने से आपके अंदर हर मुश्किल हालात से लड़ने की ताकत आती है। इससे आप अपने डर पर काबू पा कर अपने आप को मजबूत बना सकते हैं और दूसरों का भरोसा जीत सकते हैं।

कामयाबी के लिए खुद पर भरोसा करना बहुत जरूरी है। इसके अलावा अच्छे संबंध बना कर, प्लैन बना कर और अपनी गलतियों से सीख लेकर हम खुद को पहले से बेहतर बना सकते हैं और कामयाबी हासिल कर सकते हैं।

लोगों की बातों को ध्यान से सुनें।

जब हम बोलते हैं तो हमें जो पहले से पता होता है उसे ही दोहराते हैं लेकिन जब हम सुनते हैं, तब हमें कुछ नया सीखने को मिलता है। इसलिए अगर आप अपने किसी पुराने दोस्त से मिलें तो उनकी बातों को ध्यान से सुनें। आप उनसे सवाल कीजिए जिससे उन्हें लगे कि आप उनकी बात सुन रहे हैं और ज्यादा जानने के बारे में उत्सुक हैं।

जानकारी बढ़ाने के लिए खुद में इंवेस्ट कीजिए।

दोस्तो किताबें पढ़ने से या किसी सेमिनार में जाकर आप अपने ज्ञान को बढ़ा सकते हैं। इससे आप अपने दिमाग की ताकत को बढ़ा कर पहले से ज्यादा काबिल और कामयाब बनते हैं। आपकी जानकारी के बढ़ने से आपका सेल्फ कॉन्फिडेंस भी बढ़ेगा और आप मुश्किलों से आसानी से लड़ सकेंगे।

अपने काम से अपना ध्यान मत हटाइए।

दोस्तों कभी कभी जब हम अपने काम से ऊबने लगते हैं, तो हम बहाने बना कर उससे दूर भागने की कोशिश करते हैं। हम सैर करने , खाना खाने या सोने का बहाना कर के अपने काम से छुटकारा पाने की कोशिश करते हैं। ऐसा करते वक्त हम यह भूल जाते हैं कि काम से पीछा छुड़ा कर हम कामयाबी से पीछा छुड़ा रहे हैं।

जब भी आप दिमाग में अपने काम को कल के लिए टालने का खयाल आए, तो आप खुद से कहिए की अभी यह काम करने का बहुत अच्छा समय है और इससे अच्छा समय मुझे कभी नहीं मिलने वाला। इस लाइन को तब तक दोहराते रहिए जब तक आपका काम करने का मन ना करने लगे।

The Magic of Thinking Big Pdf Free Download in Hindi | बड़ी सोच का बड़ा जादू बुक पीडीएफ डाउनलोड इन हिंदी

दोस्तो अगर आप the magic of thinking big pdf in hindi में डाउनलोड करना चाहते हैं, तो नीचे the magic of thinking big hindi pdf free download करने की लिंक नीचे दी हुई है और साथ ही अगर आप इस बुक को Amozon से खरीदना चाहते हैं, तो खरीदने की लिंक भी नीचे दी हुई है।

बड़ी सोच का बड़ा जादू बुक पीडीएफ डाउनलोड इन हिंदी : फ्री डाऊनलोड

हिंदी बुक : Amozon से खरीदे
मराठी बुक : Amozon से खरीदे
इंग्लिश बुक : Amozon से खरीदे

दोस्तो आज के इस The Magic of Thinking Big Book Summary in Hindi में सिर्फ इतना ही, आपको यह बुक सम्मरी कैसी लगी कृपया हमे कॉमेंट करके ज़रूर बताएं। और अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे फेसबुक और व्हाट्सएप पर जरुर शेअर किजिए।

दोस्तो अगर आप इस ब्लॉग पर पहली बार आए हुए हैं, तो आपको बताना चाहूंगा की में इस ब्लॉग पर आप सब के लिए सफल और कामयाब लोगों की जीवनी और उनके द्वारा लिखित किताबो की समरी हिन्दी में आर्टिकल के माध्यम से लेकर आता रहता हूं। इसीलिए आप हमारे नॉलेज ग्रो ब्लॉग को Subscribe जरूर किजिए। ब्लॉग को सब्सक्राइब करने के लिए नीचे बाए साइड में दिए हुए घंटी के आइकॉन पर क्लिक कीजिए और हमारे ब्लॉग को Subscribe किजिए।

दोस्तो फिर मिलेंगे एसे हि एक इंट्रेस्टिंग और शानदार आर्टिकल के साथ तब तक केलिए जहा भी रहिए खुश रहिए और मुस्कुराते रहिएं।

आपका बहुमुल्य समय देने केलिए धन्यवाद…

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Leave a Comment