Dr. Vivek Bindra Biography in Hindi | डॉ. विवेक बिंद्रा की जीवनी

नमस्ते, देविओ और सज्जनों आप सभी का स्वागत है हमारे हिन्दी ब्लॉग में जिसका नाम नॉलेज ग्रो है। दोस्तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए बहुत ही शानदार और स्पेशल होने वाला है। क्युकी दोस्तो आज में आपके साथ Dr. Vivek Bindra Biography in Hindi में शेअर करने वाला हूं।

Dr. Vivek Bindra Biography in Hindi | डॉ. विवेक बिंद्रा की जीवनी

दोस्तो Dr. Vivek Bindra जी को आप में से कई लोग जानते होंगे और जो लोग Dr. Vivek Bindra जी को जानते नहीं है और उन्होंने लोगों के लिए क्या क्या किया है यह जानते नहीं हैं, उन लोगों को में आज इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाला हूं।

डॉक्टर विवेक बिंद्रा कौन है ?

दोस्तो सक्सेस उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, और ऐसा ही कुछ साबित करके दिखाया है, आज के समय के Motivational Speaker, एक बिजनेस कोच और एक बिजनेस ट्रेनर डॉ. विवेक बिंद्रा जी ने। जिनके ऊपर से यूं तो माता और पिता का साया बहुत ही छोटी उमर से उठ गया लेकिन इसके बावजूद भी उन्हों ने अपने आप को इस काबिल बनाया की वह लाखो लोगो को अपने स्पीच और बिजनेस ट्रेनिंग से इंस्पायर कर चुके हैं।

दोस्तो आज के इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले है कि Dr. Vivek Bindra जी के संघर्ष और सक्सेस की पूरी कहानी, की किस तरह से एक  संन्यासी ने पूरी दुनिया के लोगों को सफलता की एक नई दिशा दिखाई।

Dr. Vivek Bindra Biography in Hindi | डॉ. विवेक बिंद्रा की जीवनी

तो दोस्तो इस कहानी की शुरुआत होती है 5 अप्रैल 1978 से जब विवेक बिंद्रा का जन्म उत्तर प्रदेश के लखनउ शहर मे हुआ था। जब विवेक बिंद्रा जी ढाय साल के थे तब उनके पिता की मृत्यु हो गई और उनके पिता के बाद उनकी माता ने दूसरी शादी करली और इस तरह से Dr. Vivek Bindra जी के सिर से उनके पिता का साया उठ चुका था।

हाला कि उसके बाद Dr. Vivek Bindra जी उनके माता के साथ ना रहैके उनके दादा और चाची जी के साथ रहने लगें। दोस्तो विवेक बिंद्रा जी पहले से ही पढ़ाई लिखाई में काफी अच्छे थे, और इसीलिए उन्हों ने अपनी शुर्वाती पढ़ाई ख़त्म करने बाद दिल्ली में नोयेडा में स्थित mat कॉलेज से एमबीए की डिग्री ली।

दोस्तो साथ ही विवेक बिंद्रा जी ने कही सारे interview के माध्यम से लोगों यह बताया है कि उनको खेलो का शौक भी शुरू से ही है। क्युकी अगर उनके लाइफ में खेल नहीं होते तो जिस तरह से उनका समय काफी सारे संघर्षों से गुजरा है वह आसानी से आगे नहीं बढ़ता। दोस्तो अगर अपने विवेक बिंद्रा जी के सेमिनार और विडियोज देखे होंगे तो अपने उनके द्वारा बाउंस बैक शब्द का इस्तमाल करते हुए जरूर सुना होगा।

दोस्तो दरअसल यह शब्द भी खेलो से ही प्रेरित होकर लिया हुआ है, और दोस्तो Dr. Vivek Bindra जी के संघर्ष का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि अपने कॉलेज के fee भरने तक के पैसे उनके पास नहीं हुआ करते थे और दोस्तो इसी वजह से उन्होंने 16 साल की उम्र में ही बच्चो को टिवशन पढ़ना शुरू कर दिया था। हालां कि विवेक जी चाहते तो टीवशन को ही अपना फूल टाइम कैरियर बना सकते थे लेकिन उन्होंने कुछ अलग करने की ठान ली थी।

और एक समय ऐसा भी आया था कि जब विवेक बिंद्रा जी ने आसपास किसी सगे को नहीं पाया तब Dr. Vivek Bindra जी वृंदावन में एक सन्यासी के तौर पर रहे। दोस्तो Dr. Vivek Bindra जी वृंदावन में एक साधु कि तरह ही लोगों की सेवा करते और धोती कुर्ता पहनते थे और जमीन पर ही सोते थे। हालांकि मानसिक तौर पे वो काफी सारे प्रोब्लेम्स से गुजर रहे थे और इसीलिए उनके गुरु ने उनको गीता पढ़ने को सलाह दी।

दोस्तो इसीलिए उनके हर एक विडियोज में गीता का ज्ञान होता है। हाला कि उनका कहना है की गीता कोई धार्मिक ग्रंथ नहीं है बल्कि वो जीवन को किस तरह से जीना है इस बात को सिखाती है, और विवेक बिंद्रा जी का मानना है कि वो जितना भी कामयाब है उसमे गीता ज्ञान का भी काफी महत्व है। हाला कि आगे चल कर गुरु के आदेश को मानते हुए विवेक बिंद्रा जी ने बिजनेसमैन बनने का फैसला लिया।

साथ ही उन्होंने यह निर्णय लिया की जो भी लोग पैसों के अभाव के वजह से एक सफल बिजनेसमैन नहीं बन पाते वो उनकी सहायता करेंगे और दोस्तो उपर के पिक्चर में दिया हुआ यही वो आदमी है, जिसे कि हम सफल मोटिवेशनल स्पीकर, बिजनेस ट्रेनर और बिजनेस कोच के रूप में हम सब देखते हैं। हाला कि उन्होंने बिजनेस कोच के रूप में आगे बढ़ने का सोचा था तब शुरवती के समय में उनके पास इतने पैसे हुआ नहीं करते थे, की वह अपना एक अच्छा सा ऑफिस खोल सके।

लेकिन दोस्तो किसी तरह उन्होंने पैसे जुटाकर एक कमरा किराए पर ले लिया और सभी कामों को विवेक बिंद्रा जी अकेले ही करने लगे। हाल की समय के साथ साथ उन्होंने कई सारे लोगों को जॉब्स भी देदी ,लेकिन जब उनके पास सैलरी के पैसे देने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे तब उन्होंने अपना खुद का घर तक बेचने का  फैसला किया था।

और दोस्तो कई सारे संघर्ष और परिशानियो का सामना करते हुए डॉ. विवेक बिंद्रा जी ने उस मुकाम को छुआ है कि लाखो लोग और कंपनियां उनको आइडल मानते हैं। और उनके द्वारा बनाया गया YouTube channel के जरिए करोड़ों लोग अच्छी बाते सीखते हैं। दोस्तो अगर आपको Dr. Vivek Bindra जी के YouTube channel के विडियोज देखने है तो आप यहां से उनके चैनल को subscribe कर सकते हैं। साथ ही साथ हमारे telegram channel को भी subscribe करें।

Join Vivek Bindra YouTube channel

Join Our Knowledge Grow Telegram Channel

दोस्तों हाल ही में विवेक बिंद्रा जी को इकोनॉमिक्स टाईम्स ने Game Changer of India, टाईम्स ऑफ इंडिया ने बेस्ट सीईओ कोच इन इंडिया कि तरह और कही अवॉर्ड्स से सम्मानित किया है। और दोस्तो जिस तरह से हमे Dr.Vivek Bindra जी मोटिवेट करते है, और इसीलिए सच में Dr. Vivek Bindra जी इन सभी अवॉर्ड्स के हकदार हैं।

Dr. Vivek Bindra Wikipedia

दोस्तों अगर आप Dr. Vivek Bindra के बारे में विकिपीडिया पर सर्च करेंगे तो आपको विकिपीडिया पर इनकी जानकारी नहीं मिलेगी। लेकिन एक वेबसाइट है जहा पर आपको विवेक बिंद्रा जी के बारे में विकिपीडिया कि तरह जानकारी मिलेगी।

जानकारी के लिए : – क्लिक कीजिए

दोस्तो आप भी नीचे कॉमेंट करके हमे बताए कि क्या आप Dr. Vivek Bindra जी के विडियोज  देखते हैं या नहीं और अगर हा तो कोनसि बाते है जो आपको उनकी अच्छी लगती है ? दोस्तो यह थी Dr. Vivek Bindra Biography in Hindi उम्मीद है आपको पसंद आयी होगी।

Releted Articles :

  1. Anjali Tendulkar Biography in Hindi
  2. Captain Vikram Batra Biography in Hindi
  3. Indian Hacker Manan Shah Biography in Hindi
  4. Think and Grow Rich Book Summary in Hindi
  5. Bill Gets Biography in Hindi

Conclusion : – 

दोस्तों हमारे द्वारा किया हुआ प्रयास और Dr. Vivek Bindra Biography in Hindi अगर आपको अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तो के साथ फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर जरूर शेअर करिए।

दोस्तो हमारे नॉलेज ग्रो ब्लॉग को ईमेल subscription से जरूर subscribe करें। क्युकी जब हमारे ब्लॉग पर नया आर्टिकल पब्लिश होते ही पहले आपको नोटिफिकेशन चली जाएगी और हमारे knowledge Grow टेलीग्राम चैनल को जरूर subscribe करिए।

दोस्तो फिर मिलेंगे ऐसे ही एक इंस्प्रिनेशनल आर्टिकल के साथ तब तक केलिए जहा भी रहो खुश रहो।

धन्यवाद….

Leave a Comment