Secrets of Millionaire Mind Book Summary in Hindi

नमस्ते मेरे प्यारे भाईयो और बहनों आप सभी का हमारे नॉलेज ग्रो हिन्दी ब्लॉग पर स्वागत है। दोस्तो आज कि यह पोस्ट आप सभी के लिए बहुत ही स्पेशल और उपयोगी साबित होने वाली है। क्योंकि दोस्तो में आज आपके साथ Secrets of Millionaire Mind Book Summary in Hindi में शेयर करने वाला हूं।

Secret of millionaire mind book summary in Hindi

दोस्तो बिजनेस मैन, ऑथर, Welth Coach, Motivational Speaker T. Harv Eker जी कहते हैं कि आप मुझे आपके साथ सिर्फ ५ मिनिट दीजिए में आपको प्रेडिक्ट करके बता दूंगा कि जिन्दगी भर आपका फाइनेंशियल future कैसा और क्या होगा? और आप अमीर बन पाओगे या नहीं?

और वो यह बात को इतने दावे के साथ इसीलिए बोल पाते हैं क्युकी उन्होंने सालो तक मिलेनियर, बिलिनियर और सक्सेसफुल लोगों कि साइकोलॉजी, माइंडसेट, हैबिट्स और लाइफ को स्टडी किया है, जिसे उन्होंने अपनी किताब Secrets of millionaire mind Book के जरिए हमे समझाने की कोशिश कि है।

जो कि दुनिया कि सबसे Money Management और Personal Finance Books में से एक मानी जाती है। क्योंकि ऑथर T. Harv Eker जी इस बुक में हमे Money 💰 ब्ल्यूप्रिंट और 17 वेल्थ फाइल्स के बारे में बताते हैं। ताकि हम भी रिच लोगों के माइंडसेट और उनकी साइकोलॉजी को सीख के हम भी हमारे रिच और सक्सेसफुल बनने के सपने को सच में पूरा कर सके। जिसे वो खुद फॉलो करके मिलीनियर बने है।

तो चलिए दोस्तो जानते है, वो वेल्थ ब्लू प्रिंट्स और 17 वेल्थ फाइल्स के बारे में जो हमे अमीर और सक्सेसफुल आदमी बनाती है।

Secrets of Millionaire Mind Book Summary in Hindi

दोस्तो T. Harv Eker शुरवात करते हैं, एक वेल्थ प्रिंसिपल के साथ जो T F A R हैं। दोस्तो T का मतलब है Thoughts, F का मतलब है Feelings, A का मतलब है actions और R का मतलब है results। यानी की दोस्तो हमारे थॉट्स हमारे फीलिंग्स को जन्म देते हैं, हमारी फीलिग्स हमारे actions को जन्म देते हैं और हमारे actions deside करते हैं हमारे end results को…

दोस्तो इसे ठीक से समझते है कि कैसे हमारे थॉट्स और फीलिंग्स हमारे actions और results को एफ्फेट्स करते हैं। अगर आप पैसा सेव और इन्वेस्ट सिर्फ इस थॉट्स के साथ कर रहे हों कि यह पैसा मेरे बुरे वक्त में काम आयेगा तो आप उसी के हिसाब से actions लोगे। और आप पैसा भी उतना ही कमाओगे और सेव भी उतना ही करोगे। सिर्फ एक डर के feelings के साथ। और दोस्तों आखिर में क्या होंगा ? वो बुरा वक्त जरूर आएगा।

लेकिन वही आप रिच और सक्सेसफुल आदमी बनने के थॉट्स के साथ actions लेते हो तो, तो आप छोटा नहीं सोचते और आपके actions भी उतने बड़े होते हैं और आप उतने ही बड़े लेवल पे पैसे कमाते हो। और results में आपको सक्सेस और फाइनेंशियल फ्रीडम ही मिलेगी। असल मै अमीर लोग उन चीजों पर फोकस करते हैं जो वो चाहते हैं। वहीं पे गरीब लोग उन चीजों पर फोकस करते हैं जो वो नहीं होना चाहते हैं।

दोस्तों इस बुक के ऑथर केहते है कि ये दो अलग तरह कि सोच हमारे money blueprints से इन्फ्लुएंस होती है यानी कि प्रभावित होती है। मनी ब्लूप्रिंट आपके लगाए गए फाइनेंशियल पेड़ की जड़ो कि तरह है, जो डिसाइड करती है कि इसमें कैसे और क्या फल (results) आएंगे।

दोस्तो ऑथर के अकॉर्डिंग हमारा फाइनेंशियल माइंडसेट और ब्ल्यूप्रिंट इन तीन एरियाओ से इन्फ्लुएंस होता है।

1. Verbal Programing

दोस्तो Verbal Programing यानी कि पैसे और रिच लोगों के बारे मे जैसा अपने आसपास के लोगों, एन्वायरमेंट और फ़ैमिली से सुनते हैं वो आपके माइंडसेट को कंडीशन करता है। जैसा कि गरीब parents का अपने बच्चो से बोलना। ज्यादा पैसा सभी प्रोब्लेम्स की जड़ है, और कम समय में बिना गलत काम किए अमीर नहीं बन सकते या अमीर लोग सिर्फ लालची और सेलफिश होते है।

दोस्तो यह सब विचार हमारे पैरेंट्स हमारे दिमाग में अपने शब्दो और अपने बातो से अनकॉन्शसली डालते है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि Poor पैरेंट्स बुरे होते हैं या वो हमारा बुरा सोचते हैं। बल्कि वो इसीलिए ऐसा बोलते हैं क्योंकि यही थॉट्स एक वक्त पे उनके आस पास के लोगों और उनके parents ने उनके माइंड मै डाले थे।

दोस्तों वहीं रिच पैरेंट्स अपने बच्चो को पैसों और लाइफ के बारे मे इससे बिल्कुल अलग बातें बताते हैं। दोस्तो आपकी बाहर कि दुनिया आपकी अंदर चलनी वाली सोच और आदतों का रिजल्ट है।

2. मॉडलिंग

जिस तरह से हम अपने पैरेंट्स और आस पास के लोगों से सीखते हैं कि वो कैसे पैसे खर्च करते हैं और कैसी लाइफ स्टाइल जीते हैं। वहीं कंडिशनिंग और संस्कार हमारी मनी 💰 को लेके हैबिट्स और शॉक्स, लाइफ स्टाइल और एक्शन को बचपन से लेकर बड़े होने तक कंडीशन करते हैं।

लेकिन दोस्तो अच्छी बात यह है कि अगर कोई अपनी पूअर कंडिशनिंग को बदलना चाहता है, तो वो अपनी सोच और माइंडसेट को चेंज करके बदल सकता है। 

3. स्पेसिफिक इंसीडेंस

दोस्तो कोई पोजिटिव या नेगेटिव घटना, सिचवेशन या इंसीडेंस जैसे कि आपके फ़ैमिली का फाइनेंशियली बुरे वक्त और गरीबी जैसी कठिनाईयों से गुजरना यह सब देख के आपको पैसों के इंपोर्टेंस का पता चला और आपने ठान लिया कि में खूप पैसे कमाऊंगा ताकि मुझे और मेरी फैमिली को फिर ऐसी सिचवेषण दुबारा ना दिखनी पड़े।

खैर, दोस्तो देखा जाए तो असल में ऑल मोस्ट सभी लोग ज्यादा पैसा कमाना चाहते हैं और पैसा किसी को पसंद नहीं। लेकिन सेल्फ मैड मिलेनियर वहीं बन जाते हैं जो नीचे बताए जाने वाले सभी 17 Welth फाइल्स को फॉलो करते है, और यही 17 Welth Files शो करती है कि, रिच और पूअर माइंडसेट लोगों कि साइकोलॉजी और actions में कितने बड़े डिफरेंसेस होते है।

Welth File No 1 : – 

दोस्तो रिच लोग अपनी लाइफ खुद क्रिएट करने और कंट्रोल करने में विश्वास रखते हैं, वहीं गरीब लोग उस हिसाब से चलते हैं जहा उनकी लाइफ उन्हे ले जाती है।

Welth File No 2 : –

रिच लोग पैसे का खेल जितने के लिए खेलते है, वहीं गरीब और असफल लोग पैसे का खेल हार ना सके इस डर से खेलते हैं। यानिं कि अमीर लोग ज्यादा तर फोकस और ज्यादा पैसा कमाने मै लगाते हैं। वहीं गरीब लोग सिर्फ पैसा बचाने में और कौन सी भी रिस्क ना लेने में ज्यादा फोकस लगाते हैं।

Welth File No 3 : – 

अमीर लोग रिच और सक्सेसफुल आदमी बनने के लिए कमिटेड होते है, वही गरीब और मिडल क्लास लोग सिर्फ अमीर बनाना चाहते हैं। दोस्तो इसका मतलब यह है कि अमीर लोग खुद से यह वादा करके रखते है कि कुछ भी हो जाए मै रिच और सक्सेसफुल आदमी बनकर ही रहूंगा।

तभी वो दोस्तो के साथ पार्टी करने के बजाय दिन रात अपने बिजनेस पे काम करते हैं, और वो हर मुमकिन कोशिश करते हैं जो उन्हें अमीर बना सके। वहीं गरीब लोग सिर्फ अमीर बनाना चाहते हैं। लेकिन कभी भी उसके लिए काम या कोशिश नहीं करते, वो अमीरों कि तरह जीना तो चाहते हैं लेकिन वैसे एक्शन्स नहीं लेते।

Welth File No 4 : –

दोस्तो रिच लोग दूर का और बड़ा सोचते है और साथ ही अपने कम्फर्ट जोन से बाहर जीते हैं। लेकिन पूअर मेंटेलिटी वाले लोग छोटा सोचते है, तभी उनकी सोच लिमिटेड होती है, और वो अपनी लिमिटेड और कम्फर्ट जोन में ही जीते हैं। दोस्तो अगर आपका लक्ष्य कम्फर्ट मै जीना है तो बहुत चांसेज है कि आप कभी भी अमीर नहीं बन पाओगे।

लेकिन अगर आपका लक्ष्य रिच और सक्सेसफुल बनना है, तो आप जरूर आगे चलकर कंफर्टेबल लाइफ जी पाओगे। आज अगर आप आसान काम करना चाहोगे तो जिंदगी मुश्किल रहेगी, लेकिन अगर आप आज मुश्किल काम करते हैं तो आगे कि जिंदगी आसान रहेगी।

Welth File No 5 : –

रिच लोग ओपर्चुनिटिस और सॉल्युशंस पर फोकस करते हैं, बजाय गरीब लोगों कि तरह मुश्किलों और कठिनाई पर फोकस करने के….

Welth File No 6 : –

रिच लोग दूसरे अमीर और सक्सेसफुल लोगों को एडमायर और पसंद करते है। वहीं गरीब लोग अमीरों के लिए गलत सोच और भावना रखते हैं। दोस्तो तभी बहुत लोग यह बोलते हुए आपको मिल जाएंगे कि, ये अमीर लोग सिर्फ पैसे के सगे होते हैं, ये गलत काम करके पैसा कमाते है, अरे पैसा ही सारे मुसीबतों का जड़ है।

Welth File No 7 : –

रिच लोग सिर्फ दूसरे रिच और पोजिटिव लोगों के साथ ही संगत में रहते हैं, जिनके लाइफ मै कुछ गोल्स और एंबिशंस हो, ताकि वो अपनी नॉलेज और अपने आप को ग्रो कर सके। वहीं गरीब लोग लूजर लोगों के साथ रहना और उनकी बुरी आदतों को पसंद करते हैं, क्योंकि उनके साथ उनकी सोच मिलती है।

Welth File No 8 : –

दोस्तो अमीर लोग खुद को प्रमोट करने में कॉन्फिडेंट होते हैं, तभी वो बिजनेस, सेल्स और मार्केटिंग में अच्छे होते हैं। वहीं गरीब माइंडसेट वाले लोग खुद को प्रमोट करना, सेल्स, मार्केटिंग को गलत नजरिये से देखते हैं, तभी वो उनसे ज्यादा ज्ञान वाला व्यक्ति भी अगर उन्हें किसी प्रोडक्ट के बारे में बता रहा है या सेलिंग कर रहा है, तो उसे भी ग़लत नज़र से देखते हैं और सोचते है कि ये सिर्फ पैसा चाहता है।

जब कि सामने वाला व्यक्ति वैल्यू देने के रिटर्न में वैल्यू मांग रहा है और वो अपने सर्विस के लिए कॉन्फिडेंट है।

Welth File No 9 : –

दोस्तो रिच लोग अपने प्रोब्लेम्स से ज्यादा खुद को बड़ा मानते हैं। तभी वो किसी भी प्रोब्लेम्स को छोटा समझकर सॉल्व करते हैं। वहीं गरीब लोग अपने प्रोब्लेम्स को खुद से बड़ा मानते हैं और उन प्रोब्लेम्स के डर और बोझ से हमेशा खुद को कमजोर समझते हैं।

Welth File No 10 : –

रिच लोग इस बात पे विश्वास करते हैं कि, उन्हें जो मिलना चाहिए वो डीजव करते हैं। चाहे वो कॉम्प्लीमेंट हो, बिजनेस प्रॉफिट हो या रेस्पेक्ट। वहीं गरीब लोग bad रिसिवर्स होते हैं, यानी कि लो सेल्फ एस्टीम के वजह से उन्हें लगता है कि वो कुछ बड़ा दिजव नहीं करते। इवन अगर कोई उनकी तारीफ करदे तो वो कॉम्प्लीमेंट कैसे हैंडल करना है यह उनको पता ही नहीं होता है। सिर्फ लो सेल्फ एस्टीम के वजह से..

Welth File No 11 : –

दोस्तो रिच लोग रिजल्ट के बेस पर काम करते हैं, लेकिन पूअर लोग अपने टाइम के हिसाब से काम choose करते हैं।

Welth File No 12 : –

गरीब लोग सोचते हैं कि हम सब कुछ पा नहीं सकते है और या हम अपनें काम और फैमिली को एक साथ मैनेज नहीं कर सकते हैं। या सिर्फ हम अपने काम पर फोकस कर सकते हैं या सिर्फ फ़ैमिली पे, वहीं रिच लोग डिफरेंस चीजे और options पे try और मैनेज करना पसंद करते हैं।

मतलब वो अपनी फैमिली लाइफ और professional life को मैनेज करने मै अच्छे होते हैं। साथ ही डिफरेंस ऑप्शन्स try करने से डरते नहीं है।

Welth File No 13 : –

रिच लोग अपने net worth पे फोकस करते हैं, यनिं कि वो यह देखते हैं कि ओवरऑल एसेट्स और सेविंग्स और इनवेस्टिंग को मिला के उनकि मौजूदा वक्त में क्या net worth है। वहीं गरीब और मिडल क्लास लोग अपनी सैलरी और इनकम पे फोकस करते हैं।

Welth File No 14 : –

रिच लोग अपने पैसे को अच्छे से मैनेज करना जानते हैं और वो ये स्किल्स फाइनेंशियल बुक्स और इंटरनेट के हेल्प से सीखते हैं। वहीं गरीब लोग पैसों को खर्च और वेस्ट करने मै अच्छे होते हैं। वो ये अपने आसपास के लोगों और सेलिब्रिटीज और टीवी को देखकर सीखते हैं।

Welth File No 15 : –

रिच लोग अपने पैसे का एक ऐसा सिस्टम बना देते हैं, जिससे उनका पैसा उनके लिए हार्डवर्क करके और पैसा बनाता है। वहीं गरीब और मिडल क्लास लोग पैसा कमाने के लिए हार्डवर्क करते हैं।

Welth File No 16 : –

अमीर और सक्सेसफुल लोग डर के बावजूद काम करते हैं, यानी कि दोस्तो ऐसा नहीं है कि रिच माइंडसेट वाले लोगों को डर ही नहीं लगता। उन्हे भी कोई ऐक्शन और रिस्क लेने के पीछे का डर महसूस होता है। लेकिन उस डर को अपने ऊपर हावी नहीं होने नहीं देते और नाही अपने अमीर बनने के जर्नी में बाधा बनने देते हैं।

दोस्तो वहीं गरीब लोग डर के कारण कोई एक्शन्स ही नहीं लेते हैं और उनका यही डर उनके ख्वाइशों और सपनों और उमीदो से ज्यादा ताकदवर होता है।

Welth File No 17 : –

दोस्तो रिच लोग हमेशा कुछ ना कुछ सीखते रहते हैं, वहीं पूअर माइंडसेट वाले लोगों को लगता है कि, उन्हें सबकुछ पता है। दोस्तो जों इंसान ये सोचता है कि उसे सबकुछ पता है, तो वह इंसान जिंदगी में कभी भी ग्रो नही कर सकता।

क्योंकि उसने कुछ नया सीखना या जानना ही बंद कर दिया है और उसने ज्ञान के दरवाजों को अपने ही हाथों से बंद कर दिया है। इसीलिए वे अपने लिमिटेड beliefs के सहारे जी रहे हैं।

Conclusion of Secrets of Millionaire Mind Book Summary in Hindi :

दोस्तो यह तो Secrets of millionaire mind book का छोटा सा सारांश था। दोस्तों अगर आपको इस लाइफ चेंजिंग बुक को पूरी तरह से समझना है और सफल और कामयाब आदमी बनना है। तो आपको इस किताब को खरीदना चाहिए या इस बुक कि पीडीएफ फाइल डाउनलोड करके पढ़ना चाहिए।

Secrets of millionaire mind book in hindi pdf free download

दोस्तों अगर आपको Secrets of millionaire mind book कि हिन्दी pdf file फ्री में डाउनलोड करना चाहते हैं, तो आप नीचे 👇दिए हुए लिंक पर क्लिक करके आप Secrets of millionaire mind book को फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं। और अगर आपको यह किताब खरीदना हैं तो खरीदने कि लिंक भी निचे👇 दी हुई है।

🔹English Pdf : Download
🔹Hindi PDF : Download

🔹Hindi Book : – अभी खरीदे
🔹Marathi Book : – अभी खरीदे

Releted Articles : –

  1. रिच डैड पुअर डैड कंप्लीट बुक समरी हिन्दी में
  2. The Science of Getting Rich Book Summary in Hindi
  3. Financial Freedom Book Summary in Hindi
  4. The Secret Book Summary in Hindi
  5. 4-Hour Work Week Book Summary in Hindi
  6. The Power of Habit Book Summary in Hindi
  7. 7 हैबिट्स ऑफ हाईली इफेक्टिव पीपल कंप्लीट हिन्दी बुक समरी
  8. बेबीलॉन का सबसे अमीर आदमी कंप्लीट बुक समरी हिन्दी में
  9. the alchemist Book summary in Hindi

दोस्तो हमारे द्वारा किया हुआ प्रयास और Secrets of Millionaire Mind Book Summary in Hindi ब्लॉग पोस्ट अगर आपको अच्छी लगी हो और आपके लिए उपयोगी साबित हुई हो, तो हमे नीचे कमेंट करके ज़रूर बताएं।

दोस्तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तो के साथ फेसबुक और टेलीग्राम पर जरूर शेअर किजिए और हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे Knowledge Grow Telegram Channel को भी जरूर subscribe कीजिए।

दोस्तो फिर मिलेंगे ऐसे ही एक इंटरेस्टिंग और लाइफ चेंजिंग आर्टिकल के साथ तब तक केलिए जहा भी रहिए खुश रहिए…

धन्यवाद !!!

Leave a Comment