Bill Gates Biography in Hindi | बिल गेट्स की जीवनी हिंदी में…

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का स्वागत है हमारे नॉलेज ग्रो ब्लॉग में। दोस्तो आज के इस ब्लॉग पोस्ट मैं हम आपके साथ शेयर करने वाले हैं Bill Gates Biography in Hindi, दोस्तो इसीलिए इस लाइफ चेंजिंग आर्टिकल को आखिर तक जरूर पढिए..

Bill Gates Biography in Hindi | बिल गेट्स की जीवनी

Bill Gates Biography in Hindi | बिल गेट्स की जीवनी

दोस्तो बिल गेट्स का जन्म 28 अक्टूबर 1955 सीऐटल, वाशिंगटन शहर में हुआ था। बिल गेट्स जी का पूरा नाम विलियम हेनरी गेट्स है और उनके पिता का नाम विलियम एच. गेट्स और उनकी माता का नाम मैरी मैक्सवेल गेट्स है। दोस्तो उनके पिता एक वकील थे और उनकी माता एक प्रमुख बैंक में सेवारत थीं।

Bill Gates का बचपन

दोस्तो जब बिल गेट्स जी बड़े हुए तब उनके माता पिता ने उनका दाखिला लेकसाइड स्कूल में करवाया,  कि एक सीऐटल शहर में मौजूद सबसे अच्छा स्कूल था और स्कूल में बिल गेट्स पढ़ाई लिखाई में intelligent student साबित हुए। दोस्तो बिल गेट्स जी मे बचपन से ही पढ़ने लिखने कि अलग ही बुख थी और बिल गेट्स जी घंटो तक अपने स्कूल के संदर्भ के किताबो के साथ उन्होंने एंस्लाइकोपेडिया को भी पढ़ा करते थे।

सन 1969 में बिल गेट्स जी ने अपना High school शुरू किया। दोस्तो वह वो दौर था जब पहली बार इंसान चांद पर गया था और यह मिशन computers के वजह से सफल हुआ था और उसी दौरान शियाटल नाम के कम्पनी ने लेकसाइड स्कूल को अपने कंप्यूटर विद्यार्थियों को सीखने और उसे जानने केलिए दिए गए थे, और bill Gates तो पहले से ही किसी भी चीज को ज्यादा जानने केलिए उत्सुक रहा करते थे।

दोस्तो इसीलिए उन्होंने अपना दाखिला Computer class में करवाया, और जल्द ही बिल गेट्स की computer में रुचि बढ़ने लगी। उनको हमेशा यह जानने की इच्छा रहती कि आखिर यह computer काम कैसे करता है? बिल गेट्स जी ज्यादा से ज्यादा समय कंप्यूटर क्लास में बिताते थे। और एक दिन कंप्यूटर क्लास में बिल गेट्स की मुलाक़ात पाउल एलेन से हुई, जो उनसे दो साल बड़े थे।,

दोस्तो बिल गेट्स जी और पाउल एलेन जी के विचार और ख्याल एक दूसरे से मेल नहीं खाते थे। दोस्तो पाउल एलेन जी एक बहुत शांत और शर्मीले स्वभाव के थे और बिल गेट्स जी का स्वभाव उनसे विपरित था। लेकिन दोस्तो कंप्यूटर के प्रति मिलते जुलते विचार और धारणाओ के वजह से वो दोनो अच्छे दोस्त बन गए।

दोस्तो सन 1970 में बिल गेट्स जी सिर्फ पंधरा साल के थे, तब उन्होंने और उनके दोस्त के साथ मिलकर उन्होंने traf o data नाम का एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्रामर बनाया था, जो की सीऐटल शहर में होने वाले traffic के प्रवाह को मापता था उसके लिए उनको $20000 डॉलर मिले थे, जो कि बिल गेट्स जी की पहली कमाई थी।

दोस्तो इसी के वजह से बिल गेट्स जी ने टेक्नोलॉजी के दुनिया में प्रवेश कर लिया था। सन १९७२ में जब वे सिर्फ 17 साल के थे तब उन्होने उनके दोस्त पाउल एलेन के साथ अपनी कंपनी खोलने के बारे में विचार शुरू किया, लेकिन उनके माता पिता ने उनको पहले हाई स्कूल और कॉलेज की पढ़ाई ख़तम करने केलिए जोर दिया। क्युकी उनके पिता एक वकील थे, इसीलिए उनके पिता चाहते थे कि वे कानून कि शिक्षा ले और एक अच्छा लॉयर बने।

Bill Gates Collage Education

दोस्तो सन १९७३ में बिल गेट्स ने अपना हाई स्कूल ख़तम किया और exam में 1600 में 1590 मार्क्स को हासिल करके अपनी बुद्धिमता का परिचय दिया और उस समय उनके माता पिता भी बहुत खुश हुए। और उसके बाद बिल गेट्स जी का एडमिशन हॉयर युनिवर्सिटी में किया और उनको बोला कि तुम कानून की शिक्षा लो, लेकिन bill gates जी का सपना कुछ और ही था।

लेकिन फिर भी उन्होंने ध्यान पूर्वक लॉ यानी कानून की शिक्षा में अपना करियर बनाने का विचार किया।  लेकिन उसमें उन्हें एक भी ऐसा विषय नहीं मिला जिसमे उन्हें computer जितनी रुचि हो। इसीलिए वो अपना ज्यादा से ज्यादा समय कंप्यूटर में ही बिताते थे।

दोस्तो डिसेंबर 1974 में उनके दोस्त पाउल एलेन को पॉपुलर इलेक्ट्रॉनिक नाम की मैगज़ीन मिली, जिसके कवर पेज पर दुनिया के सबसे मिनी कंप्यूटर किट the Altair 8800 की घोषणा की गई थी। यह खबर सुनकर वे बिल गेट्स के पास गए और उनको सबकुछ बताया, और इस बात से वो दोनो बहुत खुश हुए। क्युकी वह दोनो जानते थे कि यह कंप्यूटर बन गया तो दुनिया में हर एक इंसान इसका इस्तमाल करके अपना काम आसान कर सकेगा।

दोस्तो the Altair 8800 न्यू मैक्सिको में Ed roberts कंपनी द्वारा बनाया गया था और हेनरी एडवर्ड रॉबर्ट्स जो कि इस कंपनी को चला रहे थे वो एक ऐसे व्यक्ति की तलाश कर रहे थे जो एक ऐसा सॉफ्टवेअर बना पाए जो कि उनके इस कंप्यूटर को चला सके। और अब बिल गेट्स और उनके दोस्त पाउल एलेन के पास एक ऐसा मौका था जो अपनी किस्मत को चमका सके। इसीलिए उन्होंने उस कंपनी से कॉन्टेक्ट किया और घोषणा की वे एक बेसिक सॉफ्टवेयर पर काम कर रहे जो उस कंप्यूटर को चला सके।

और उसके बाद उन्होंने हॉवर्ड कंप्यूटर सेंटर में दो महीने तक दिन रात काम किया और एक सॉफ्टवेयर बनाया।  दोस्तो उसके बाद फ़रवरी 1975 में एलेन उस सॉफ्टवेयर को टेस्ट करवाने केलिए वहा पर गए और जब वह सॉफ्टवेयर the Altair 8800 में इंस्टाल करवाया गया तब वो सही से काम करने लगा और यह पल उनके जिन्दगी का सबसे बेहतरीन पल था।

जिसका कंप्यूटर उद्योग पर एक ऐतिहासिक प्रभाव पड़ा, और इसके बाद उन्होंने कभी ना रुकने का  फैसला किया। और सिर्फ 19 साल के उम्र में सन 1975 में पाउल एलेन के साथ माइक्रोसॉफ्ट कंपनी कि स्थापना की, और वो दोनों Ed roberts कंपनी के साथ काम करने लगे, और देखते देखते कंप्यूटर कि इतनी खपत हुई कि बिलगेट्स जी ने अपनी पढ़ाई को फाइनल ईयर में ही छोड़ दिया। पर शुरवाती दौर में बिल गेट्स और पाउल एलेन को काफी सारी समस्यायों का सामना करना पड़ा। क्युकी लोगों के अंदर कंप्यूटर को लेकर एक ऐसा कल्चर फेमस होने लग गया।

जिसमे लोग पर्सनल कंप्यूटर को तो खरीद रहे थे पर इंफॉर्मेशन और सॉफ्टवेयर को एक दूसरे के साथ शेअर कर रहे थे और उसके वजह से किसी को भी सॉफ्टवेयर को खरीद ने में कोई रुचि नहीं हो रही थी। लेकिन बिल गेट्स और पाउल एलेन ने इस सॉफ्टवेयर को बनाने में बहुत मेहनत कि थी इसीलिए उनको इस बात का बहुत बुरा लग रहा था।

दोस्तो उसके बाद सन 1976 में कंप्यूटर में रुचि रखने वालो केलिए एक पत्र लिखा कि बिना किसी सॉफ्टवेयर को खरीदे उसका इस्तमाल करना इसका मतलब की किसी नए सॉफ्टवेयर को बनाने से पहले ही उसको रोक देना होगा। पर लोगों पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा और इसपर बिल गेट्स जी बहुत नाराज हुए।

लेकिन उनकी कुशाग्रता ना कि सिर्फ  सॉफ्टवेयर बनाने में थी बल्कि उसके साथ साथ वो अपने बिजनेस को आगे बढ़ाने की और कंपनी को टॉप पर ले जाने की भी थी। जरूरत पड़ने पर एंप्लॉयर्स द्वारा बनाए गए कोडिंग को खुद चेक करते थे और उसमे से errer को ठीक करते थे।

बिल गेट्स और पाउल एलेन कि हदपार मेहनत के वजह से उनकी कंपनी दिन ब दिन एप्पल, आईबीएम, इटेल कंपनी की तरह ग्रो करती जा रही थी। फिर माइक्रोसॉफ्ट ने एक नए सॉफ्टवेयर का अलग अलग सॉफ्टवेयर में विस्तार किया और कम्पनियों को अपने products को बेचने के लिए शुरू किया। सन 1978 तक आते आते इन सॉफ्टवेयर कि बिक्री 1000000 लाख तक से भी ज्यादा हो गई और सन 1978 से लेकर 1981 के बीच में Microsoft Company में आश्चर्य जनक विकास देखने को मिला।

दोस्तो उसके बाद Microsoft Company में बहुत ही कम टाइम में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के कर्मचारियों की संख्या १३ से बढ़कर १२८ हो गई। दोस्तो सन नवंबर 1980 में Microsoft कंपनी के पास एक ऐसा मौका आया जिसने उनके किस्मत को बदलकर रख दिया।

क्योंकि दुनिया की सबसे बड़ी computer बनाने वाली IBM Company ने माइक्रोसॉफ्ट को अपने नए personal Computers केलिए सॉफ्टवेअर बनाने केलिए पेशकश की और यह बिल गेट्स और पाउल एलेन केलिए बहुत ही अच्छा मौका था।

इसीलिए माइक्रोसॉफ्ट ने IBM केलिए नया सॉफ्टवेअर MS-Dos बनाया और IBM Company ने इस सॉफ्टवेयर के सोर्स कोड को  $50000 डॉलर में खरीदना चाहा, लेकिन बिल गेट्स एक चालाक और inteligent Biasness Man थे। उन्होंने IBM के इस प्रस्ताव को नामंजूर किया।

क्युकी बिल गेट्स चाहते थे कि IBM जितने भी नए Computers बनाए उन सभी Computers में Microsoft का सॉफ्टवेयर install करके बेचे और हर एक कंप्यूटर पर माइक्रोसॉफ्ट पैसा कमाए। और इसीलिए IBM Company केलिए बेचे गए हर एक PC पर माइक्रोसॉफ्ट को लाईसेंस फी चुकानी पड़ती थी।

इसी में मार्केट में और भी नई कंपनियां आई, जिन्होंने IBM Company से भी कम प्राइस में कंप्यूटर बनाए और माइक्रोसॉफ्ट ने उनको भी अपने सॉफ्टवेयर बेचे। और सन 1981 सी के बीच में बिल गेट्स Microsoft Company के प्रेसिडेंट और पाउल एलेन माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट बन गए।

दोस्तो सन 1983 में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का टर्नओवर 4 मिलियन से 16 मिलियन डॉलर तक हो गया और पूरी दुनिया में जितने भी personal Computers थे उनमें 30 प्रतिसद कंप्यूटर में माइक्रोसॉफ्ट का सॉफ्टवेयर का चलाया जा रहा था। उसके बाद सन 1983 तक सिर्फ बिल गेट्स 28 साल की उम्र में कामयाबी के शिकर को छू रहे थें और पूरी दुनिया में बिल और एलेन ने बनाए हुए सॉफ्टवेयर की डिमांड बढ़ रही थी, वहीं दूसरी ओर एलेन एक गंभीर बीमारी हो गई, जो कि कैंसर के श्रेणी में आती है।

हाला की एक साल बाद एलेन ठीक हो रहे थे, लेकिन वो माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के प्रतिदिन के कारोबार में हिस्सा नहीं ले पा रहे थे। इसीलिए उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट को छोड़ दिया और इसी के साथ बिल गेट्स और पाउल एलेन के पार्टनर शिप का अंत हो गया और 1984 के बाद सिर्फ बिल गेट्स ही माइक्रोसॉफ्ट का एक लोता चेहरा रेह गए। और उनके लगातार प्रयास से सन 1985 में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने 140 मिलियन डॉलर से भी ज्यादा सेल की।

सन 1986 में बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का नया प्रोडक्ट Microsoft windows लॉन्च किया। जिसमे बड़ी आसानी से कोई भी कंप्यूटर को माउस के जरिए चलाया जा सकता था और 1986 में बिल गेट्स ने अपने कंपनी को सार्वजनिक कर दिया। जिसने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी को एक रचनात्मक आधार दिया और उन्होंने कुल स्टॉक का 45% हिस्सा अपने पास रखा, जिसके वजह से बिल गेट्स 31 साल के उम्र में अरब पति बन गए।

Bill Gates Struggle Story in Hindi

दोस्तो 1987 में बिल गेट्स दुनिया के सबसे कम उम्र के अरबपतियो में से एक थे। लेकिन इस साल माइक्रोसॉफ्ट को एक बहुत बड़े क्राशेस का सामना करना पड़ा। क्योंकि IBM Company ने अपने पर्सनल कंप्यूटर में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का सॉफ्टवेयर MS Dos को अपने खुद के बनाए हुए सॉफ्टवेयर OS/2 से replace कर दिया और Microsoft को IBM Company से बाहर कर दिया। लेकिन फिर भी बिल गेट्स ने अपने सबसे बड़े Customer को खो देने के बाद भी हार नहीं मानी और माइक्रोसॉफ्ट विंडोज को अपग्रेड कर दिया।

दोस्तो उसके बाद 23 मई 1990 में Bill gates ने New Windows सॉफ्टवेयर को लॉन्च कर दिया और साथ ही साथ माइक्रोसॉफ्ट के प्रोडक्ट के कीमत को घटा दिया। इसके पीछे उनका मकसद यह था कि और कोई भी सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनी उनके सामने टिक ना सके और इसी के वजह से आईबीएम का सॉफ्टवेयर OS/2 फेल हो गया। और माइक्रोसॉफ्ट का नया सॉफटवेयर windows 3.0 मार्केट में सबसे बिक्री वाली Window बन गई।

बिल गेट्स का निजी जीवन और परिवार

दोस्तो उसके बाद उन्होंने 37 साल के उम्र में बिल गेट्स जी ने उनके कंपनी में काफी साल से काम करने वाली 28 वर्षीय मलिंडा फ्रेंच से शादी करली। लेकिन उनके शादी के कुछ महीने बाद बिल गेट्स के माता की कैंसर से मृत्यु हो गई। इसके वजह से बिल गेट्स बहुत दुखी हो गए।

दोस्तो सन 1995 वे माइक्रोसॉफ्ट केलिए बहुत ही अच्छा रहा। क्योंकि इस साल बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट का windows 9.5 को लॉन्च कर दिया था। दोस्तो बिल गेट्स अपने 42 साल की उम्र तक दुनिया के सबसे ज्यादा अमीर व्यक्ति थे। जिनके पास जिनके पास 50 बिलियन डॉलर संपति थी। जो बढ़ते बढ़ते आज 150 बिलियन डॉलर हो गई है।

दोस्तो अब बिल गेट्स के पास दो बेटियां और एक बेटा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इतना अपार धन होने के बावजूद भी बिल गेट्स ने अपने बच्चो को अपने वसीयत (संपति) में से अपने बच्चो को सिर्फ 10 मिलियन डॉलर देकर जाने का फैसला किया है। जोकि इनके संपति का सिर्फ एक मात्र छोटा सा अंश है।

दोस्तो इसके बारे में पूछे जाने पर बिल गेट्स जी सिर्फ इतना ही कहते हैं कि में अपने बच्चो को अच्छी शिक्षा दूंगा लेकिन इतनी दौलत छोड़कर जाना उनके लिए उचित नहीं है। मैंने कुछ साल पहले ऐसा महसूस किया कि मेरी दौलत जो समाज से आ गई हैं, वह समाज में ही वापस जानी चाहिएं। इतनी दौलत जिसका अनुमान लगाना भी मुश्किल है और वो संपति किसी के बच्चे के पास जाना नहीं चाहिए, यह बच्चो केलिए सही नहीं होगा।

दोस्तो कंप्यूटर में इस्तमाल होने वाला Windows operating system दुनिया के 80 प्रतीसद ज्यादा इस्तमाल होने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने बनाया है। दोस्तो आज बिल गेट्स दुनिया के सबसे कामयाब और अमीर बिजनेसमैन है, एक अच्छे बिजनेसमैन होने नाते साथ ही उन्हें उनके मानव प्रेमी स्वभाव के कारण और अनगिनत धन संपत्ति दान करने केलिए उनको कई पुरस्कारों से सम्मानित करा गया है।

दोस्तो सन 2014 में बिल गेट्स ने चेयरमैन के पद से हट कर सत्या नडेला को Microsoft Company का CEO बना दिया जो कि एक भारतीय हैं और अब बिल गेट्स अपनी पत्नी मिलिंडा गेट्स के साथ एक NGO बिल एंड मालिंडा गेट्स फांडेशन को चला रहे हैं और पूरी दुनिया में बहुत ही भलाई का काम कर रहे हैं। दोस्तो यह थी Bill gates biography in Hindi

Bill gates quotes in Hindi | बिल गेट्स के विचार

  1. दोस्तो आप खुद की तुलना किसी और से कभी भी नहीं करे, अगर खुद की तुलना किसी और से कर रहे हैं तो आप अपनी स्वयंम की बैजती कर रहे हों और अपने ही हात से अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मार रहे हो।
  2. Bill gates जी कहते है कि जब आपके हाथ में पैसा होता है तब सिर्फ आप भूल जाते है कि आप कौन हैं? पर जब आपके हाथ खाली होते है यानी आपके पास कुछ भी नहीं होता तब दुनिया भूल जाती है कि आप कौन हैं?
  3. दोस्तो अगर आप गरीब घर में जन्मे है तो उसमें आपकी कोई गलती नहीं है लेकिन अगर आप गरीब रहकर ही मर गए तो उसमे आपकी ही गलती है। क्योंकि जब आप धरती पर जन्म लेते है तब आपके पास कर्म करने का स्वतंत्र होता है इसीलिए आप अच्छे कर्म करके अपनी जिंदगी को बदल सकते हैं, और अगर आप गरीब रहकर ही मर गए तो इसका मतलब ये हुआ कि आपने इस धरती पर आकर कुछ भी नहीं किया।
  4. में एक कठिन काम को करने केलिए एक आलसी इंसान को चुनुंगा क्योंकि आलसी इंसान उस काम को करने का एक आसान तरीका खोज लेगा।

दोस्तो यह थे बिल गेट्स के विचार

हमारे अन्य आर्टिकल्स –

  1. विवेक बिंद्रा बॉयोग्राफी इन हिन्दी
  2. एलोन मस्क बॉयोग्राफी इन हिन्दी
  3. अंजली तेंदुलकर बॉयोग्राफी इन हिन्दी
  4. भारतीय हैकर मनन शाह बॉयोग्राफी इन हिन्दी

Conclusion : –

दोस्तो आज हम ने आप सभी को बिल गेट्स जी की कंप्लीट बॉयोग्राफी बताने की कोशिश की है उमिद है आप सभी को पसंद आयी होगी। दोस्तो अगर आपको हमारा Bill Gates Biography in Hindi आर्टिकल पसंद आया होगा तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तो के साथ फेसबुक और व्हाट्सएप पर जरुर शेअर करके हमारा बनोबल बढ़ाए।

दोस्तो अगर आप हमारे नॉलेज ग्रो हिन्दी ब्लॉग में नए आए हो तो में आपको बताना चाहूंगा की में हर रोज आप सभी के लिए इस ब्लॉग में सफल और कामयाब लोगों की Biographies और Book Summary in Hindi में पब्लिश करता रहता हूं तो इसिलिए इस ब्लॉग के नीचे की Left Side में दिए हुए घंटी के निशान पर क्लिक करके हमारे नॉलेज ग्रो ब्लॉग को जरूर Subscribe कीजिए।

धन्यवाद…

2 thoughts on “Bill Gates Biography in Hindi | बिल गेट्स की जीवनी हिंदी में…”

Leave a Comment