Ikigai Book Summary in Hindi – खुशहाल जीवन जीने का जापानी रहस्य

Ikigai Book Summary in Hindi – पैशन ढूढने का जापानी रहस्य

नमस्कार साथियों आप सभी का नॉलेज ग्रो हिंदी ब्लॉग में स्वागत है, दोस्तों आज का यह आर्टिकल आप सब केलिए बहुत ही स्पेशल और फायदेमंद साबित होने वाला है. क्यूंकि आज में आपके साथ Ikigai Book Summary in Hindi में शेयर करने वाला हु, और इस किताब में लम्बा और खुशहाल जीवन जीने का जापानी तरिका बताया हुआ है, और उस जापानी तरीके को अगर आप जानना चाहते है, तो आप इस आर्टिकल को आखिर तक जरुर पढ़िए.

Ikigai Book Summary in Hindi
Ikigai Book Summary in Hindi

दोस्तों हर इन्सान चाहता है की उसकी जिंदगी बहुत लम्बी और खुशियों से भरी हो, और २०१६ में आई हुई यह किताब आपको उन तरीको के बारे में बताती है, जिन्हें अपनाकर जापान के लोग ऐसी ही जिंदगी जी रहे है. ये किताब जापानियों की जिंदगी के हर पहलू को गहराई से समझाकर जापानी संस्कृति की पूरी झलक आपके सामने रख देती है. ख़ास तौर पर जापान के उस आइलैंड की जहा पर लोग सौ साल से भी ज्यादा उम्र तक जीते है.

इकिगाई किताब किन लोगो के लिए है?

  • वे लोग जो जापानी कल्चर को जानने में रूचि रखते है.
  • वे लोग जो सौ साल तक जीने का रहस्य जानना चाहते है.
  • वे लोग जो ख़ुशी की तलाश में है.

किताब के लेखक के बारे में…

ikigai बुक के लेखक हेक्टर जी को जापान और स्पेन इन दो देशो की नागरिकता मिली हुई है और वे जापानी संस्कृति के विशेषग्य कहे जाते है. उनके द्वारा लिखी हुई A Geek in Japan Book बहुत ही फेमस हो चुकी है. लेखक हेक्टर जी ने Love in small Letters & Wabi Sabi जैसी बेस्ट सेलिंग किताबे लिखी हुई है.

Ikigai Book Summary in Hindi – लंबा और खुशहाल जीवन जीने का जापानी रहस्य

दोस्तों जापान में एक आइलैंड है जिसका नाम ओकिनावा है, वहा पर रहने वाले लोग सौ साल से भी ज्यादा उम्र तक जीते है. वहा ८० से ९० साल की ऐज के लोग भी हर रोज ख़ुशी ख़ुशी उठके अपना काम करते है, और मरते दम तक रिटायर होने का नाम नहीं लेते है. यानि की पूरी दुनिया में लम्बी, अच्छी और खुशहाल लाइफ जापान के ओकिनावा आइलैंड पर रहने वाले लोग जीते है. क्यूंकि वे लोग एक फार्मूला को अपनाकर अपनी लाइफ को जीते है, जिसका नाम “ikigai” है, यानी की “जीने की वजह”.

इकिगाई क्या है ?

दोस्तों जापान के लोग यह मानते है की आप किसी न किसी खास मकसद केलिए ही इस दुनिया में आये हुए होते हो, और वो ख़ास मकसद ही आपका “इकिगाई” होता है. अगर आप आपके ikigai यानि की आपके मकसद के आलावा कोई भी काम करते हो तब आपको वो मज्जा नहीं आएगा और आप हमेशा ट्रेस में रहेंगे और आपका दिमाग हर वक्त उस मकसद के तलाश में रहेगा. लेकीन अच्छी बात यह है की दुनिया में कही पर भी रहने वाला व्यक्ति इस जापनिस फोर्मुले का इस्तमाल करके अपने इकिगाई यानि की अपने जीवन के मकसद को फाइंड कर सकता है.

दोस्तों जब भी आप अपने collage की पढाई को ख़त्म करके बाहर काम करने केलिए जाते हो, तो आपको बहुत बड़ा डिसीजन लेना होता है की आप अपनी लाइफ में क्या करोगे? यह डिसीजन लेना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है, क्यूंकि आपकी लाइफ का सबसे ज्यादा टाइम आप अपना काम करने में ही स्पेंड करते हो, इसीलिए कोई आपको कहेगा की तुम्हे जो काम करने से ख़ुशी मिलती हो उस काम को करो, कोई कहेगा तुम जिस काम में अच्छ हो उस काम को करो, तो कोई कहेगा की वो काम करो जीस में सबसे ज्यादा पैसा हो, या फिर कोई यही कहेगा की बेटा तुम ऐसा काम करो जिसकी दुनिया को जरुरत हो.

दोस्तों इन सब में प्रॉब्लम यह है की हर कोई हमें इन चार में से कोई एक ही ऑप्शन को चूस करने केलिए कहता है, जो एक गलत अडवाईस है, और “इकिगाई” इन चारो पार्ट्स का कॉम्बिनेशन है. इन चारो पार्ट्स में से एक भी मिस हो जाये तो आपकी लाइफ में क्या प्रोब्लेम्स आ सकती है वो हम एक डाईग्राम की मदद से समझेगे.

Ikigai Summary in Hindi
image Source: Youtube

दोस्तों उपर दिए हुए इमेज के उपर वाले Surcle में What You Love की चीजे आती है, यानी की इस में वो सारी चीजे आती है, जो आपको करना पसंद है. दुसरे लेफ्ट वाले Surcle में What You’re Good At यानि की इसमे वो सारी चीजे आती है, जो काम आप अच्छी तरह से कर सकते है. तीसरे Surcle में What You Can Be Paid For की चीजे आती है, यानि की इसमे वो सारी चीजे आती है, जहा आपको आपके काम के बदले में पैसे भी मिलते है. और चोथे और राईट वाले Surcle में What The World Needs वाली चीजे आती है, यानि की इसमें वो सारी चीजे आती है जिसकी दुनिया को जरुँरत है.

फर्स्ट और सेकंड वाले Surcle के कॉम्बिनेशन से आपको आपका पैशन मिलेगा, यानि की जो चीज करना आपको पसंद है और उस काम में आप अच्छे भी हो और वो काम होगा आपका पैशन. इसे समझने केलिए में आपको एक उदहारण देकर समजाता हु, मान लीजिये की नई चीजे करना और प्रोग्रामिंग करना आपको पसंद है और उस काम में आप काफी अछे भी हो. तो उजफुल नॉलेज पाकर प्रोग्रामिंग करना आपका पैशन हुआ.

अब उसके बाद सेकंड और थर्ड सेक्शन के इंटरसेक्शन से आपको आपका प्रोफेशन मिलेगा, यानि की जिस चीज में आप अच्छे हो और उसके बदले में आपको पैसे भी मिलेंगे तो वह काम आपका प्रोफेशन बन जायेगा. उदाहरन केलिए कुछ नया सिखकर आपने एक एप्प बनायीं, जिससे आपको थोड़े बहुत पैसे भी मिलने लगे तो वह काम आपका प्रोफेशन हो गया.

थर्ड और फोर्थ नंबर के कॉम्बिनेशन से आपको आपका वोकेशन मिलेगा यानि की जिस चीज के बदले में आपको पैसे मिले और उसी चीज की दुनिया को भी जरुरत हो, तो वह काम आपका वोकेशन होगा, मतलब आपने बनाई एक एप्प जो दुनिया के जरुँरत केलिए बेस्ट स्यूटेबल है, तो वह काम होगा आपका वोकेशन. लास्ट में आपको आपका मिशन मिलेगा,

जिस चीज की दुनिया को जरुरत हो और वही आपका पसंदीदा काम हो, तो वह काम करने का कारन ही आपका मिशन बन जायेगा. उदाहरन केलिए जिस एप्प की दुनिया को जरुरत हो उस पे काम करना आपको पसंन्द है, तो आपकी पसंद और दुनिया की जरुरत बन गया आपका मिशन.

लेकिन दोस्तों प्रॉब्लम तब आती है, जब लोग आपको आपका पैशन फाइंड करने केलिए कहते है, और सिर्फ पैशन फाइंड करना ही काफी नहीं होता है. क्यूंकि यह इकिगाई का सिर्फ एक पार्ट है. आपको ऐसा काम ढूंढना होगा जो बाकि तीनो कम्पोन्ट्स को भी satisfy करे. और इसे समजने केलिए में खुद का ही रियल एक्सापल दे देता हु.

दोस्तों मुझे ब्लॉग लिखना बहुत पसंद है और मैंने बहुत मेहनत करके मेरे ब्लॉग्गिंग के स्किल्स को इमप्रूव किया हु. और में इस काम में बहुत अच्छा बन गया हु और दुनिया को मेरे ब्लॉग के आर्टिकल्स को पढ़के कुछ नया सिखने को मिलता है, यानि की दोस्तों दुनिया को मेरे इस काम की जरुरत है और यह दुनिया मुझे मेरे काम के बदले पैसे देती है. इसका मतलब यह हुआ की मेरा ब्लॉग्गिंग का काम इन चारो कम्पोन्ट्स को Satisfy करता है और ब्लॉग्गिंग का काम मेरा “इकिगाई” है.

दोस्तों इसी तरह आपका भी ऍम होना चाहिए, ऐसी चीज को फाइंड करना जो कि पैशन, प्रोफेशन, वोकेशन और मिशन इन चारो कम्पोन्ट्स को Satisfy करे. और इन चारो कम्पोन्ट्स के बिच में ही आपको आपका इकिगाई मिलेगा. यानि की दोस्तों आपको ऐसा काम मिलेगा जिसे आप पसंद भी करो, जिस में आप अच्छे भी हो और जिस काम से आपको पैसे भी मिले और उस काम की दुनिया को जरुरत भी हो. और जब ये चारो चीजे Satisfy होगी तभि आप एक लम्बी, खुशहाल और बिना ट्रेस वाली सफल जिंदगी जी पाएंगे.

में आपको और एक उदाहरन देकर समझाता हु, सचिन जी को क्रिकेट खेलना बहुत अच्छा लगता है, और उसमे वो प्रैक्टिस करके अच्छे भी बने. क्रिकेट खेलने से उनको पैसे भी मिलते है और दुनिया को उनकी बैटिंग बहुत पसंद है. यानि की इसका मतलब यह हुआ की दुनिया को उनकी जरुरत है. और सचिन तेंदुलकर जी का काम इकिगाई के चारो कम्पोन्ट्स को Satisfy करता है और इसका मतलब सचिन जी का क्रिकेट इकिगाई है.

दोस्तों आप दुनिया के जितने भी पोपुलर लोंगो को जानते होंगे, उन्होंने अपनी इकिगाई को फाइंड कर लिया होता है, और उसके वजह से ही वो इतने आगे होते है. दोस्तों अपने इकिगाई को फाइंड करना बहुत ही जरुरी होता है, क्यूंकि उससे ही आप अपने काम में फ्लो स्टेट को अचिव कर सकते हो. दोस्तों अब जानते है की फ्लो स्टेट क्या है?

फ्लो स्टेट क्या है?

दोस्तों फ्लो स्टेट का मतलब अपने काम में इतना डूब जाना की दूसरी और कोई भी चीज आपके लिए मैटर ना करें. और वो फ्लो स्टेट ही आर्टिस्ट, जिनिअस और एक्सपर्ट्स पर्सनालिटीज का पॉवर होता है. अपने इकिगाई पर काम करने की वजह से Apple कंपनी के फाउंडर स्टीव जॉब्स को जापान के आर्टिस्ट और इनजिनेअर्स बहुत पसंद थे. जब स्टीव जॉब्स ने १९८० में जापान में सोनी कंपनी को विजिट किया और उनसे कई नई चीजे सीखी और उसको अपनी कंपनी में भी इम्प्लीमेंट किया.

दोस्तों वर्ल्ड के पोपुलर एनीमेशन स्टूडियो में एक जापान के स्टूडियो गिम्बी स्टूडियो के फाउंडर और एनीमेंटर Hayao Miyazaki जी अपने वर्क में इतने इन्वोल्व हो जाते है की सन्डे और हॉलीडेज के दिनों में भी वो अपने स्टूडियोज में काम कर रहे होते है. और आज ७० साल की उम्र होने के बावजूद भी वो कभी अपने काम से थकते नहीं है, क्यूंकि उन्हें उनके इकिगाई को ढूंढ लिया है और वो उसपे ही काम करते है. दोस्तों अब जानते है की अपने इकिगाई को कैसे ढूंढे ?

अपने इकिगाई को कैसे ढूंढे ?

दोस्तों आपको अचानक से आपका इकिगाई नहीं मिलेगा, आपके अन्दर की आवाज और क्यूरिसिटी ही आपको अपना इकिगाई फाइंड करने मदद करेगी. इसके लिए आपको अलग अलग चीजे Try करनी पड़ेगी और अपने आपको सवाल पूछकर अपने आपको जानना होगा. और जब भी आपको अपना इकिगाई मिलेगा, तब आपको Automaticly पत्ता चल जायेगा की हा इसी चीज की ही मुझे तलाश थी.

जापानी लोगो की लम्बी, खुशहाल और स्वस्थ रहने का राज

दोस्तों जापान के ओकिनावा आइलैंड पर रहने लोगो के जीवन में कुछ खास आदते शामिल है, जो उन्हें दुनिया के बाकी लोंगो से अलग बनाते है. तो चलिए जानते है, उनके लम्बे और खुशहाल और स्वस्थ रहने का राज…

1. आपका मस्तिक्ष जितना एक्टिव रहता है और आप जितना कम तनाव लेते है, उतनी लम्बी जिंदगी जी सकते है.

दोस्तों इस बात को मेडिकल साइंस भी मानता है की मानसिक और शारीरिक सेहत अच्छा जीवन जीने केलिए बहुत ही जरुरी है. प्रैक्टिकल लाइफ में हम अपने शरीर को स्वस्थ रखने के बारे में सोच लेते है, लेकिन दिमाग के सेहत के लिए शायद ही कोई एफर्ट करते है. जिस तरह से फिजिकल एक्टिविटी में कमी होने के कारन हमारी तबियत बिगड़ती है, ठीक उसी तरह मेंटल एक्टिविटी में कमी होने कारन हमें तरह तरह की मानसिक परेशानीयों को सामना करना पड़ता है.

दोस्तों इसीलिए लम्बे और खुशहाल जीवन का पहला रहस्य है, तनाव से दूर रहना. बहुत सी रिसर्च और स्टडीज साबित करती है की तनाव, प्री मेच्योर एन्जिंग को जन्म देती है, क्यूंकि स्ट्रेस आपके शरीर और दिमाग दोनो की सेल्स को दैमेज करता है. इसिलए जितना हो सके तनाव से दूर रहिये. तनाव से दूर रहने के बहुत से आसन तरीके है, जो हम निचे बताने वाले है.

न्यूरो सायंटिस्ट Shlomo Breznitz जी का कहना है की बढती उम्र के साथ लोगो के ब्रेन की फ्लेक्सिब्लिटी कम होने की एक बड़ी वजह ये है, वे कुछ नया करने की कोशिश ही नहीं करते है. उनको अपने उराने रुटिन या लाइफ स्टाइल की इतनी आदत पड़ जाती है की इसे बदलने को लेकर वो बिलकुल ही राजी नहीं होते है. दोस्तों जैसे शरीर के लिए कई तरह के वर्कआउट होते है, ठीक उसी तरह दिमाग के लिए भी वर्कआउट होते है. अब आपके मन में यह सवाल जरुर उठा होगा की दिमाग का Workout कैसे किया जाए?

दोस्तों असल में यह बहुत ही आसान है, अगर आप चेस या क्यूब सोल्विंग जैसे माइंड गेम खेलेगे, तो यह गेम्स आपके दिमाग के वर्कआउट केलिए बहुत ही मददगार साबित होंगे. और अगर आप सुबह को सिर्फ १० मिनिट केलिए मैडिटेशन (ध्यान) करेंगे और उसके साथ साथ सिर्फ 30 मिनिट हर रोज कसरत करेंगे, तो इससे बेहतर उपाय और कुछ नहीं हो सकता है. दोस्तों अगर आप मैडिटेशन क्या है और इसे कैसे करे और मैडिटेशन के अनगिनत फायदों के बारे में जानना चाहते है? तो निचे दिए हुए दो आर्टिकल्स को इसके बाद जरुर पढ़िए.

२. यंग रहने का दूसरा सबसे अच्छा तरीका है एक्टिव रहना.

दोस्तों अगर आप मन को सुकून देने वाले किसी काम में व्यस्त रहते है, तो खुद केलिए इससे अच्छा कोई और गिफ्ट नहीं है. क्यूंकि उस काम में आप सब कुछ भुलाकर पूरी तरह से डूब जाते है, और इसी को ही फ्लो स्टेट कहते है, जिसकी हमने उपर बात की हुई थी. अगर आप अभी कोई भी काम कर रहे है और उस काम के बारे में आपको लगता है की यह काम में अपनी सारी जिंदगी भर कर सकता हु.

तो इस तरह के काम आपको एक लंबा और खुशहाल जीवन जीने काफी मदद कर सकता है. लंबा और खुशहाल जीवन जीने केलिए ओकिनावा के लोगो ने इस किताब में बहुत सी टिप्स और ट्रिक्स दी हुई है, जिसे हम आपके साथ निचे शेयर करने वाले है.

दोस्तों पहली सलाह यह है की आप बेफिक्र होकर जीना शुरू कीजिये और हर किसी का अभिवादन करने की आदत डालिए. भले ही आप उन लोगो को न जानते हो, फिर भी उनसे मुस्कुराकर और दिल खोलकर मिलिए. उन लोगों का मानना है की इस तरह से आप बहुत से दोस्त बनाते है और आप बच्चो के साथ बच्चे बन जाते है. जब आप बुजुर्ग होने लगते है तब भी आपका इनसे मेलजोल बना रहता है, और आप कभी भी अकेलापन महसूस नहीं करते है. और इस तरह से आपका दिल हमेशा युवा बना रहता है.

वे लोग यह भी समजाते है की जिन चीजो को आप बदल नहीं सकते है उस चिज की चिंता करके क्या फायदा है , बल्कि इससे आपका तनाव बढ़ता ही रहेगा. मान लीजिये की आप अपने करिअर से खुश नहीं है और इसकी चिंता में घुले रहने पर आप अपनी परफॉरमंस को खराब ही करेंगे. इससे बेहतर यह है की आप कोई नई स्किल को सिखकर अपने करिअर को एक नई दिशा दे.

ओकिनावा के लोगो ने लंबा और खुशहाल जीवन जीने केलिए दूसरी सलाह यह भी दी है की सुबह जल्दी उठिए और सुबह जल्दी उठना हमारे बॉडी के लिए बहुत ही फायदे मंद होता है. कुछ समय तक आपको इसके लिए एफर्ट देने पड़ेंगे उसके बाद आपको इसकी आदत पद जाएगी. सुबह जल्दी उठने के फायदे इतने है की इसे गिनना मुश्किल है. दोस्तों अगर आप एक घंटा जल्दी उठ जाये तो सोचिये की इस एक घंटे में आप कितना काम निपटा सकते है.

ओकोनावा के लोगो के भोजन में बहुत वेराइटी होती है, लेकिन पोर्शन छोटे होते है.

दोस्तों जापान के लोगो की औसत आयु दुनिया में सबसे ज्यादा होती है, और ओकिनावा के लोग बाकी जापानियों से लंबा जीवन जीते है. क्यूंकि ओकिनावा के लोंगो के खानपान बाकि लोंगो से बहुत ही अलग है, और Ryukus University के एक हार्ट स्पेशलीस्ट Makoto Suzuki जी ने 70s के दशक में ओकिनावा के लोगो के भोजन पर बहुत सी स्टडीज की है. इसमे सबसे पहली बात ये है की इनके भोजन में वेरायिटी होती है, और यहाँ कम से कम २०६ तरह के भोजन होते है.

ओकिनावा के लोग फल और सब्जियों की पाच सर्विंग रोज खाते है और इस बात का ध्यान रखते है की उनके प्लेट में इंद्रधनुष्य के हर रंग की एक न एक चीज जरुर हो. इस तरह से उनके खाने को वेरायिटी मिल जाती है, उन बाकि का भोजन काफी सादा रहता है, जिसमे चावल और नुडल्स जैसी बेसिक चीजे होती है, वे नमक और चीनी का इस्तमाल कम से कम करते है. यहाँ तक की जापान के बाकि लोगो की तुलना में उनकी चीनी की खपत ६०% और नमक की खपत 50% कम होती है. जब की जापानि भोजन को दुनिया के सबसे हेल्दी भोजन में से एक माना जाता है.

पोर्शन के बारे में उनका मानना है की आप उतना ही खाए जिससे आपका पेट सिर्फ ८०% ही भर जाये, यानि की आपको अपनी थोड़ी बुख को बाकी रखना है, और जापान में इसे “हारा हाची बू” कहा जाता है, इसका सबसे आसन तरीका यह है की आप मीठा न खाए या पोर्शन छोटा रखे अगर आपको मीठा बहुत पसंद है, तो आप मीठा सिर्फ हप्ते में एक बार ही खा सकते है, वो भी कम मात्र में. शरीर को रिजुविनेट करने केलिए भोजन में एंटी ओक्सिडेंट होने जरुरी है.

दोस्तों सुपर फ़ूड के कॉन्सेप्ट ने भोजन के बारे में लोगो की सोच बदल दी है. जापानी भोजन में भी ऐसे काफी आइटम होते है और उसमे से सबसे पहले नंबर पर आती है ग्रीन टी. इसमे भरपूर मात्र में एंटी ओक्सिडेंट होते है, और स्टडीज में यह सामने आया है कि ग्रीन टी उम्र बढाने में काफी मदद करती है. ग्रीन टी के पत्तो को हवा में सुखाया जाता है और इसे फर्मेट भी नहीं किया जाता है.

इस कारन इसके पोषक तत्व और एंटी ओक्सिडेंट नष्ट नहीं होते है. ग्रीन टी ब्लड कोलेस्ट्रोल को कम करता है और खून के बहाव को सहिसे रखता है और इन्फेक्षण से भी हमें बचाता है. ओकिनावा के लोग इसमें जैसमीन मिलाकर इसके फायदों को और भी ज्यादा बढ़ा देते है. इसकी वजह से हार्ट और इमुनी सिस्टम मजबूत बनते है.

दोस्तों ओकिनावा के लोग कहते है की अपने शरीर को एक्टिव रखना बहुत ही जरुरी है, फिर भले ही वो हलकी फूली वाक ही क्यों न हो. आप ऐसे किसी बुजुर्ग से जरुर मिले होंगे जिनके एनर्जी लेवल और जिंदादली पर उम्र का कोई असर नहीं नजर आता हो. इसकी एक वजह यह भी हो सकती है की वो अपने जीवन में शारीरिक रूप से एक्टिव रह रहे हो. असल में शरीर का गतिमान रहना बहुत ही जरुरी है क्यूंकि हमारा शरीर एक जगह पर स्थिर रहने के लिए नहीं बना हुआ है. और इसके लिए हमें रोज १५ से 30 मिनिट केलिए कसरत करना या वोकिंग करना बहुत जरुरी है.

एक रिसर्च में यह पाया गया है की अगर आप 30 मिनिट से ज्यादा देर तक एक ही जगह पर बैठे रहते है यानि की कुर्सी पर बैठे रहने के कारन हमारे फैट का डैजेशन प्रभावित होता है और आपका गुड कोलेस्ट्रोल का लेवल घट जाता है. लेकिन अगर आप हर २५ मिनिट के बाद सिर्फ्फ़ पाच मिनिटे केलिए भी चल फिर लेते है तो यह सब ठीक होने लगता है. इसीलिए अगर आप ऑफिस में बैठकर काम करते है, तो आपको यह आसान सी तकनीक को अपनाना होगा.

हमारे अन्य आर्टिकल्स :

  1. who will cry when you die book summary in hindi
  2. Megaliving Book Summary in Hindi
  3. 5 Life Chenging Habits in Hindi For Success
  4. time management book summary in hindi
  5. Can’t Heart Me Book Summary in Hindi
  6. the alchemist book summary in hindi
  7. think and grow rich book summary in hindi
  8. the compound effect book summary in hindi
  9. the power of your subconscious mind book summary in hindi
  10. atomic habits book summary in hindi
  11. the secret book summary in hindi
  12. the power book summary in hindi
  13. the magic of thinking big book summary in hindi

Conclution of Ikigai Book Summary In Hindi

दोस्तों आज आपने Ikigai Book Summary In Hindi आर्टिकल के माध्यम से आपने यह सिखा की इकिगाई क्या है और अपने इकिगाई को कैसे ढूंढे? और उसी के साथ साथ आपने यह भी सिखा की, आपका खान पान और जीवन शैली आपके स्वस्थ और उम्र को सबसे ज्यादा प्रभावित करते है. अगर आपको जीवन का ऐसा उदेश्य मिल जाये जो आपको मोटिवेट करे तो आप एक बेहतरीन लाइफ जी सकते है.

परफेकशन की खोज में भट्टकर अपना समय बर्बाद करने से अच्छा है की आप अपने लाइफ को उसकी कमियों के साथ स्वीकार कर ले. इस सोच की वजह से आप ज्यादा एनरजेटिक होकर और कम तनाव लेकर एक लंबा और खुशहाल जीवन जी सकते है. दोस्तों ये सभी बाते मैंने हेक्टर जी की बेस्ट सेलर किताब इकिगाई से सीखी है.

दोस्तों इस बुक में ओकिनावा के लोगो के बारे में बहुत कुछ लिखा हुआ और सबसे महत्वपूर्ण अपने मानसिक और शारीरिक सेहत को कैसे अच्छे से रखे इस बारे में भी बहुत कुछ लिखा हुआ है, जो आपकी जिंदगी को अच्छी और खुशहाल बनाने में आपकी मदद करेगी. दोस्तों यह सिर्फ इकिगाई किताब की समरी थी, अगर आपको इस किताब को अच्छे से समझना है, तो आपको इस किताब को खरीद कर इसे पूरा पढ़ना चाहिए. किताब को खरीद ने की लिंक निचे दी हुई है.

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा हुआ Ikigai Book Summary in Hindi आर्टिकल पसंद आया होगा और आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा, तो निचे कमेट बॉक्स में हमें कमेंट करके जरुर बताये की यह आर्टिकल आपको कैसा लगा और साथ ही अपने दोस्तों के साथ इसे जरुर शेयर कीजिये.

Ikigai Book in Hindi Pdf Free Download

दोस्तों अगर आप Ikigai Book in Hindi Pdf Free Download करना चाहते है, तो आप निचे दिए हुए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके आप Ikigai Book in Hindi Pdf Free Download कर सकते है.

Hindi Ebook : Download

Ikigai Book Audiobook Free Download

दोस्तों अगर आप Ikigai Book Audiobook Free Download करके सुनना चाहते है, तो में आपको बताना चाहूँगा की यह किताब Kuku FM मोबाइल एप्प पर सिर्फ Rs.399 रुपये में एक साल की प्रीमियम मेम्बर शिप लेकर दुनिया की सभी मोटिवेशनल और सेल्फ हेल्प किताबो की ऑडियोबुक सुन सकते है.

दोस्तों प्रीमियम मेम्बरशिप लेते वक्त अगर आप “LH20” कुपन कोड़ का इस्तमाल करते है, तो आपको Kuku FM Mobile App की प्रिमियम मेम्बर शिप सिर्फ Rs. 319 रुपये में मिल जाएगी. दोस्तों यह ऑफर सिर्फ पहले २५० Users केलिए है, इसिलए निचे दिए हुए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके Kuku FM मोबाइल एप्प को इनस्टॉल कीजिये और जल्द से जल्द इस ऑफर का लाभ उठाये.

दोस्तों हमारे साथ जुड़े रहने केलिए हमारे ब्लॉग के निचे की लेफ्ट साइड में दिए हुए बेल आइकॉन पर क्लिक करके हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कीजिये और उसके साथ हमारे नॉलेज ग्रो हिंदी टेलीग्राम चैनेल को भी सब्सक्राइब जरुर कीजिये, क्यूंकि हर दिन इस ब्लॉग पर और टेलीग्राम चैनेल पर में आपके लिए ऐसे ही लाइफ चेंजिंग बुक समरीज लाता रहता हू.

आपका बहुमूल्य समय देने केलिए धन्यवाद.

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Leave a Comment