Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf Free Download | रिच डैड पुअर डैड इन हिंदी PDF

Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf Free Download | रिच डैड पुअर डैड इन हिंदी PDF Free Download

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का नॉलेज ग्रो हिंदी ब्लॉग पर स्वागत है. दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपके साथ Rich Dad Poor Dad Hindi Pdf Free Download करने के लिए शेयर करने वाले है. अगर आप Rich Dad Poor Dad Hindi Pdf Free Download करना चाहते है? तो आप सही जगह पर आये हुए है.

Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf Free Download | रिच डैड पुअर डैड इन हिंदी PDF
Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf Free Download | रिच डैड पुअर डैड इन हिंदी PDF

Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf Free Download | रिच डैड पुअर डैड इन हिंदी PDF

Particulars Details (Size, Writer, Lang. Pages
पुस्तक का नाम (Name of Book)  रिच डैड पुअर डैड इन हिंदी PDF (Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf)
पुस्तक का लेखक (Name of Author)  रॉबर्ट टी कियोसाकी
पुस्तक की भाषा (Language of Book)   Hindi, Marathi
पुस्तक का आकार (Size of Book)   5 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)   280
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)   Self help Book, Financial Book

Rich dad Poor Dad Book क्यों पढ़ना चाहिए?

रिच डैड पुअर डैड बुक आपकी यह मिथक तोड़ती है कि अमीर बनाने केलिए पैसा ज्यादा कमाना जरूरी हैं। और यह बुक यह साबित करती है कि आपका घर कोई संपति नहीं है और माता पिता को यह बताती है कि पैसे के बारे में उनके बच्चो को स्कूल में कुछ भी नहीं सिखाया जाता है, इसीलिए उन्हें स्कूल के भरोसे नहीं रहना चाहिए। और सभी को यह साफ साफ बताती है कि संपति क्या है और दायित्व क्या है ? और यह बुक यह बताती है कि भविष्य कि आर्थिक सफलता केलिए अपने बच्चो को क्या सिखाए?

Rich Dad Poor Dad Summary in Hindi

दोस्तों रिच डैड पुअर डैड बुक के लेखक रॉबर्ट टी कियोसाकी जी है, और वो इस बुक में केहते है कि उनके दो पिता थे। एक गरीब पिता और एक अमीर पिता, उनके गरीब पिता बहुत पढ़े लिखे होते हैं, उन्होंने पी एच डी की डिग्री को भी हासिल किया था। फिर भी वो जिन्दगी भर गरीब रहे, क्युकी उनको पैसे कि समझ नहीं थी इसलिए लेखक उनको पुअर डैड कहते थे। वही उनके अमीर पिता बहुत ही कम पढ़े लिखे थे फिर भी वो हवाई के सबसे अमीर इंसानों में से एक थे। क्युकी उन्हें पैसे की समझ थी, इसलिए लेखक रोबर्ट कियोसाकि उनको अपना रिच डैड केहते थे।

अब आपके में मन यह सवाल जरुरआया होगा कि एक व्यक्ति के दो पिता केसे हो सकते हैं ? तो में आपको बताना चाहूंगा की पुअर डैड लेखक के असली पिता थे जिन्होंने रोबर्ट कियोसाकि को जन्म दिया था और रिच डैड उनके करीबी दोस्त माइक के पिता थे। उन्होंने रोबर्ट कियोसाकि को ४० साल तक पैसे के बारे में सिखाया था और उस शिक्षा के दमपर वो अमीर बने थे इसीलिए लेखक उनको अपना रिच डैड केहते थे।

उनके रिच डैड का केहना था कि स्कूल की पढ़ाई आपको अच्छे ग्रेड दिला सकती हैं, पर लाइफ कि पढ़ाई आपको बहुत कुछ सिखाती हैं। पढ़ाई लिखाई तो जरूरी है मगर सिर्फ इसके भरोसे बैठकर कुछ भी हासिल नहीं किया जा सकता हैं, इसीलिए रिच डैड कहते है की अगर आपको जिन्दगी में अमीर और सुखी जीवन जीना है तो आपको पैसे की समझ होनी चाहिए।

लेखक रोबर्ट कियोसाकि कहते है कि मेरे दोनों डैडी इरादों के पक्के ,चमत्कारी और प्रभावशाली थे। उन्होंने मुझे सलाह दी परन्तु उनकी सलाह एक जैसी नहीं थी। दोनों शिक्षा पर बहुत जोर देते थे, परन्तु उनके पढ़ाई के विषय अलग थे।

लेखक केहते है कि उनके सिर्फ एक ही पिता होते तो वो उनकी सलाह को मान लेता या ठुकरा देता। पर उनको सलाह देने वाले दो थे और दोनों के विचार विरोधाभासी थे। एक गरीब आदमी का और एक अमीर आदमी का।

लेखक यहां केहते है कि में दोनों के विचारों पर सोचता था और तुलना करके फिर खुद फैसला किया करता था। पैसे के बारे में दोनों के विचार अलग – अलग थे।

रोबर्ट कियोसाकि यहां उदाहरण देकर समझाते है की, पुअर डैड केहते थे कि पैसा सभी बुराइयों का जड़ हैं, और रिच डैडी कहते थे कि पैसो की कमी होना ही सभी बुराइयों कि जड़ है।

पुअर डैड को हमेशा यह केहने कि आदत थी कि में इसे नहीं खरीद सकता ? वहीं रिच डैडी कहते थे की में इसे नहीं खरीद सकता हूं ऐसे बोलने के बजाय में इसे केसे खरीद सकता हूं यह बोलते थे।

उनका केहना था कि जब आप बोलते है कि में इसे नहीं खरीद सकता ? या में ये नहीं कर सकता तब आपका दिमाग काम करना बंद करता है। इसीलिए हमेशा सकारात्मक बोलिए, जब आप बोलते हैं कि में इसे केसे खरीद सकता हूं ? तब आपका दिमाग काम करना शुरू कर देता है।

गरीब डैडी कहते थे की बेटा तुम मेहनत से पढ़ो ताकि किसी अच्छी कंपनी में नौकरी मिल जाए और अमीर डैडी कहते थे की मेहनत से पढ़ो ताकि तुम्हे किसी अच्छी कंपनी को खरीदने मोका मिले। गरीब डैडी का केहना था कि जहा पैसे का सवाल हो वहा सुरक्षित कदम उठाओ ,खतरा मत उठाओ और अमीर डैडी का केहना था कि खतरों का सामना करना सीखो।

यहां लेखक रोबर्ट कियोसाकी केह रहे है कि दोनों की शिक्षा और ज्ञान को वो महत्वपूर्ण मानते थे, परन्तु क्या सीखा जाए इस बारे में दोनों कि राय अलग अलग थी। एक डैडी कहते थे कि पढ़ाई में कड़ी मेहनत करो और अच्छी नौकरी करो और दूसरे डैडी उन्हें कहते थे कि में अमीर बनने का रहस्य सिख लू।

लेखक यहां कहते है कि अमीर डैडी बार बार कहते थे की में पैसे केलिए काम नहीं करता बल्कि पैसा मेरे लिए काम करता है, और जब लेखक रोबर्ट कियोसाकी कि उम्र ९ साल की हो गई तब उन्होंने फैसला किया कि वो अमीर डैडी की सलाह मानेंगे और उन्होने बताए गए रास्तों पर चलेंगे और यहां से लेखक रोबर्ट कियोसाकी कि पढ़ाई शुरू हो गई और इस पढ़ाई के दौरान उन्होंने 6 सबक सीखे और उनको अपनी लाइफ में इम्पिमेंट करके वो अमीर बन गए।

अमीर लोग पैसे केलिए काम नहीं करते है।

इस चैप्टर में लेखक ने उन लोगो की बात की गई हैं, जो लोग सेफ खेलना पसंद करते हैं, यानी जो लोग रिस्क लेने से डरते है। क्यूंकि उनको कभी रिस्क लेना कभी सिखाया ही नहीं था , लेखक यहां कहते है कि गरीब और मिडल क्लास लोग पैसे के डर के वजेसे काम करते है और उनका ये लालच उनको और भी ज्यादा गरीब बना देता हैं।

लेखक का यह केहना है कि ज़िंदगी में ओपर्चुनिटी आती जाती है परन्तु रिच लोग सिर्फ उन ओपर्चुनिटीस को तुरंत पेहचान कर उनको अपने गोल में बना देते हैं। काफी लोग इन ओपर्चुनिटीस को देख ही नहीं पाते, क्युकी ये लोग पैसा और सिक्योरिटी पीछे भागने में व्यस्त होते है.

पैसे कि सबसे खास बात यह है कि पैसा 24 घंटे काम करता है और अगर आप पैसे केलिए काम कर रहे हैं, तो आप पॉवर एंप्लॉयर के हाथ में दे रहे हो। अगर पैसा आपके लिए काम करता है, तो पॉवर और कंट्रोल आपके हाथ में होता है। ऐसा ऑथर रोबर्ट जी का केहना है।

पैसों की समझ क्यों सिखानी चाहिए ?

इस चैप्टर में लेखक रोबर्ट कीयोसाकी केहते है कि एक बिजनेस मीटिंग में चिकागो बिचपर उनको बड़े बड़े बिजनेसमैन और इन्वेस्टर मिले और उनके साथ मनी दिस्कशन किया। 25 साल बाद एक रिपोर्ट में बताया गया कि चिकागो पर मिले बड़े बड़े बिजनेसमैन और इन्वेस्टर थे, जो रिच थे उन मेसे कुछ जेल चले गए और कुछ मर गए और कुछ गरीब रह गए।

इन सभी अनफर्चुनेटल बिजनेसमैन के रिजल्ट से हमें यह सीख मिलती है कि हमें सुरक्षित रहने केलिए पैसों को होना बहुत जरूरी हैं। इसीलिए लेखक कहते है की आप चाहे कितना भी पैसा कमाले, अगर आप उन पैसों को स्मार्ट तरीके से सही जगह पर इन्वेस्ट नहीं करते है , तो आप अमीर नहीं बन सकते और खुद को भविष्य में सेफ नहीं कर सकते है.

यहां लेखक Robert Kiyosaki कहते है कि बिना मजबूत निव के आप बड़ी बिल्डिंग खड़ी करने की कोशिश मत करना। रोबर्ट कियोसकी के अकॉर्डिंग आपको आपके बड़ी बिल्डिंग की नीव मजबूत करने केलिए एक सिंगल रुल है, और वह रूल है एसेट्स और लायब्रिटिस के बीच का फर्क को समझना और आप सिर्फ ये समझना कि आप सिर्फ एसेट्स पर कंट्रोल कर सकते है।

Robert Kiyosaki कहते है कि इंटेलिजेंस प्रोब्लेम्स सॉल्व करती हैं और पैसा भी इनक्रीस करती हैं। इंटेलिजेंस के बिना पैसा जल्दी चला जाता है, और ऑथर का मानना है कि फाइनेंशिल चीजों की नॉलेज आपको अकाउंटिंग नॉलेज से आती है।

एसेट्स और लायब्लीटिस के बीच का फर्क आपको समझना बहुत जरूरी हैं। ऑथर का केहना है की गरीब लोग और गरीब और अमीर लोग और अमीर होते जाते है, क्युकी वे इसके ऑपोजिट करते हैं। वे अपने लायब्लीटिस को जोड़ते है और उनके पास एसेट्स कुछ भी नहीं होता। इसीलिए उनके Balance शिट और इनकम शीट उपर नीचे होती रहती हैं। ऑथर के अकॉर्डिंग लोग यह समझ ही नहीं पाते कि यह इंपोर्टेंट नहीं है कि आप कितना कमाते है बल्कि ये इंपोर्टेंट है कि कितना आप अपने पास रख पाते हो।

अपने काम से काम रखो।

इस चैप्टर में लेखक रोबर्ट कीयोसाकि जी केहते है कि रिच लोग अपने एसेट्स पर ध्यान देते है, और गरीब या मिडल क्लास लोग अपने इनकम स्टेटमेंट पर ज्यादा ध्यान देते हैं। और यहाँ उन्होंने mcdonalds का उदहारण दिया हुआ हैं, ऑथर ने यह बताया है कि मैकड़ोनाजmcdonalds दुनिया में सबसे अच्छे बर्गर्स नहीं बनाता। लेकिन अमेरिका के स्ट्रीट पर सबसे ज्यादा वैल्यू mcdonalds को ही हैं।

ऑथर ने ये भी बोला है कि एक इंड्यूजल को सक्सेसफुल होना है तो उसे खुदके बिजनेस पर ध्यान देना होगा। खुदके बॉस बनने पर फोकस करना चाहिए, और खुदके बिजनेस को बढ़ाना चाहिए। ऑथर के हिसाब से असली एसेट्स इन चिजोसे बनाए जा सकते हैं। जेसे की स्टोक्स, म्यूचअल फंड, बॉन्ड्स, इनकम जनरेटर रियल एस्टेट, कुछ भी ऐसी चीज जिसके लिए मार्केट रेडी हो।

टैक्स का इतिहास और कॉर्पोरेशन कि ताकद

ऑथर के हिसाब से उनके रिच डैड ने बहुत ही स्मार्ट तरीके से गेम प्ले किया था। ऐसा वो कॉर्पोरेशन जो उनके रिच बनने में बहुत ही बड़ा हाथ है। ऑथर कहते है कि गरीब लोग अपने आप को कॉर्पोरेशन के थ्रू यूज करवाते हैं।

जब की बड़े कॉर्पोरेशन को मशीन का इस्तमाल करना आता है। इसका मतलब यह है की रिच लोगो के पास नॉलेज होती हैं, जिसका इस्तमाल करके वो अपने एसेट्स को प्रोटेक्ट करने केलिए कॉर्पोरेशन कि पॉवर को इस्तमाल करते हैं.

ऑथर इसका डिफरेन्स आसान शब्दों में समजाते है और वो कहते हैं कि इंड्यूजल पैसा कमाता है और उस पैसे पर टैक्स पे करता है और जो कुछ भी रेहता है उसपर अपना गुजारा करता है। दूसरे हाथ पर कॉर्पोरेशन पैसा कमाता है जितना चाहे उतना पैसा खर्च करता है और जो कुछ भी रहता है, उसका टैक्स पे करता है।

यहां लेखक कहते है कि इंड्यूजल बहुत मेनुअप्लेट होता हैं, और वो गवर्मेंट को अमीर बनता है, और खुदके इनकम पर टैक्स पे करता है। ऑथर इंसान के फाइनेंशल आइक्यू को डेवलप करने पर भी जोर देते है। उनके हिसाब से यह बढ़ता है, जब अपनी अकाउंटिंग इनवेस्टिंग मार्केट्स और लॉ कि नॉलेज को बढ़ाते है।

लेखक कहते है कि नॉलेज नहीं होने से आपको परेशानी हो सकती हैं, और नॉलेज लेने से आपकी जितने के चांसेज बढ़ जाते हैं। ऑथर एक चीज सब में कॉमन देखते है, यहां तक कि खुद में भी और वह है हमारे अंदर का बहुत सारा पोटेंशियल। एक चीज है जो हम सब को आगे बढ़ाने में भी है वह हे सेल्फ डाउट।

अमीर लोग पैसे का आविष्कार करते हैं।

इस चैप्टर में लेखक रोबर्ट कीयोसाकि केहते है कि रियल लाइफ में स्मार्ट इंसान आगे नहीं बढ़ता, बल्कि बोल्ड इंसान आगे बढ़ जाता है। उनका कहना है कि हर एक इंसान टैलेंट के साथ पैदा होता है, लेकिन सेल्फ डाउट और डर भी होता हैं।

ऑथर ने बताया है कि ज़रूरी नहीं कि एजुकेटेड और स्मार्ट इंसान ही आगे बढ़ता हैं, बल्कि जो बोल्ड और एडवेंचरस है वो भी आगे बढ़ता हैं। लोग कभी भी फाइनेंशली आगे नहीं बढ़ते, भले ही उनके पास खूब सारा पैसे क्यों ना हो। क्युकी वो ओपर्चुनिटिस को नहीं पहचान पाते। उन में से ज्यादातर लोग कुछ होने का वेट करते रहते हैं।

ऑथर कहते है कि लोग लक खुद क्रिएट करते हैं, उसके लिए जिन्दगी भर वेट करने की जरूरत नहीं है। वो केहते है कि पैसे के साथ भी ऐसा सेम केस है। उसका वेट नहीं करना चाहिए, बल्कि उसको क्रिएट किया जा सकता है। ये दुनिया हर रोज आपको ओपर्चुनिटिस देती रहती हैं, पर बहुत बार हम उस ओपर्चुनिटिस को देखने में फेल हो जाते हैं।

ऑथर कहते है कि ग्रेटओपर्चुनिटिस खुली आंखों से नहीं खुले दिमाग से देखी जाती हैं। ऑथर ज्यादा एंटजिलेंट लोगो को हायर करने केलिए इनकरेज करते है क्युकी दुसरो की नॉलेज को यूज करके खुद की नॉलेज को बढ़ाई जा सकती है। और उन लोगो केलिए कुछ किया जा सकता है, जिनके पास नॉलेज नहीं है।

सीखने केलिए काम करे – पैसे केलिए काम ना करे।

ऑथर यहां कहते हैं कि मेरे एजुकेटेड डैड केलिए जॉब, सिक्योरिटी ही सबकुछ था। और मेरे रिच डैड केलिए लर्निंग ही सबकुछ थी। इस चैप्टर में ऑथर हर एक इंड्यूजल को अपने फाइनेंशियल सक्सेस स्किल्स को डेवलप करने केलिए बोलते है।

ऑथर यहां ऐसे यंग लड़की का उदाहरण देते है जिनके पास इंग्लिश कि मास्टर डिग्री थी। वो लड़की इस बात से नाराज हुई की जब उसको सेल्स सीखने और मार्केटिंग नॉलेज लेने केलिए बोला गया। डिग्री पाने केलिए हार्डवर्क के बाद उसने कभी नहीं सोचा था कि उसे सेल्स पर्सन का भी काम सीखना होगा। एक ऐसा प्रोफेशन जिसके बारे में वो अच्छा नहीं सोच रही थी।

इस उदाहरण का इस्तमाल इसी बात को समझने केलिए करते है की लोगो को अपने फील्ड के नॉलेज को छोड़कर बाकी स्किल्स को भी सीखना चाहिए। जो आपको फाइनेंशियल फ्रीडम पाने केलिए सहायता कर सकती हैं। ऑथर में सक्सेस पाने केलिए मैनेजमेंट स्किल्स को मैंशन किया है और वह है…

  • मैनेजमेंट ऑफ कैश फ्लो
  • मैनेजमेंट ऑफ सिस्टम
  • मैनेजमेंट ऑफ पीपल

ऑथर का केहना है कि ये सारे स्किल्स आपको मार्केटिंग और सेल्स स्किल्स में काम आते है। कम्युनिकेशन स्किल्स पर भी ऑथर ध्यान देते हैं। वो केहते है कि कई लोग है जिनके पास साइंटिफिक नॉलेज है, पर वो कम्युनिकेशन में फेल जाते हैं। लेखक यहां कहते है कि ये वो लोग है जो वेल्थ से सिर्फ एक एकदम पीछे है।

बाधाओं को पार करना…

रिच और पुअर लोगो में सिर्फ इतना ही डिफरेन्स होता है कि वो किस तरह अपने डर को मैनेज करते है। ऑथर का ओपिनियन है कि ऐसे पाच रीज़न है जिसने वजह से फाइनेंशली अच्छी नॉलेज रखने वाले लोग भी अच्छे एसेट्स बिल्ड नहीं कर पाते, को अच्छा कैश फ्लो प्रोड्यूस कर सके। और वो पाच रीज़न है…

  • Fear
  • Cynicism
  • Laziness
  • Bad Habits
  • Aerogence

ऑथर का यहाँ कहना है कि डर लगना नॉर्मल है पर मैटर ये करता है कि वो उसे कैसे हैंडल करता है। ज्यादातर लोग फाइनेंशियली इसीलिए जीत नहीं पाते क्युकी उनका पैसा खोने का डर अमीर बनने से ज्यादा है। गोल्ड हर जगह है पर लोग उसे देखने में ट्रेंड नहीं होते।

रिएलिटी से ज्यादा बड़ा रीज़न फाइंड करे ,जो आपको मोटिवेट करता है। उनके कहने का मतलब यह है कि लोगो को Empower करके खुद के फाइनेंशियल टैलेंट को जगाना होता है। वों कहते है कि लोगो के पास जिन्दगी जीने केलिए स्ट्रॉन्ग पर्पज होना चाहिए।

ऑथर लोगो को केयरफुली लोगों को चूस करने की एडवाइस देते है। वो उन लोगों के साथ टाइम स्पेंड करने केलिए सलाह देते हैं जो मनी कि बारे में बात करने में एनकरेज करते हैं, और यह बहुत ही जरूरी लेसन है। ऑथर का ये मानना है कि लोगों को किसी एक फील्ड में स्टडी करना चाहिए और फिर बाहर निकल कर दूसरी चीजों को भी सीखना चाहिए।

ऑथर का यह कहना है कि हमारे लाइफ में एक हीरो होना चाहिए। ऐसा होना बहुत ही जरूरी है, क्यूंकि वो सिर्फ हमें इन्स्पायर ही नहीं करता है बल्कि अपने लाइफ को आसान बनाता है। वो हमें लाइफ को एनकरेज करता है ,अगर वो ऐसा कर सकता है तो मै क्यों नहीं कर सकता था।

या एक और टिप है जो ऑथर ज्यादातर लोगों में ऑब्जर्व करते है। और वह है कि लोग खुद को पे नहीं करते। ऑथर कहते है कि ज्यादातर हमें खुद को पे (pay your self) करना चाहिए।

Conclusion of Rich dad Poor Dad Book Summary in Hindi

रोबर्ट कीयोसाकी कहते है कि आप सभी २ बड़े गिफ्ट मिले है। एक हे दिमाग और दूसरा है टाइम।

हर एक डॉलर जो आपके हाथ में आता है, ये आपकी चॉइस है कि इसका आप क्या करेंगे, उसकी सिर्फ डेस्टिनी सेलेक्ट करनी होती है। क्या इससे आप फूलिष्ली होकर खर्च करें या पुअर होना चूस करे। इसे लायब्लीटिस पर स्पेंड करके मिडल क्लास होना ज्वाइन करे, या इसे दिमाग से खर्च करे और एसेट्स बिल्ड करना सीखे।

चॉइस आपकी है ? हर डॉलर के साथ हर दिन आप अमीर, गरीब और मिडल क्लास में होना डिसाइड करते है। आप और आपके बच्चो का भविष्य आपके आज के चॉइस पर डिपेंड करता है। ऑथर विश करते है कि यह बुक कि लर्निंग को फॉलो करके हम सब अमीर बन सकते है।

Rich Dad Poor Dad Hindi Pdf Free Download

दोस्तो अगर आप रिच डैड पुअर डैड इन हिंदी PDF Download करना चाहते है? तो आप निचे दिए गए download लिंक पर क्लिक कीजिये और Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf Free Download कीजिये.

Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf Free Download

Rich Dad Poor Dad Marathi Book Pdf Free Download

दोस्तों अगर आप Rich Dad Poor Dad Marathi pdf Free Download करना चाहते है, तो आप निचे दिए हुए लिंक पर क्लिक कीजिये और Rich Dad Poor Dad Marathi pdf free download कीजिये.

Rich Dad Poor Dad Marathi pdf Free Download

Rich Dad Poor Dad Hindi Audiobook Free Download

दोस्तों अगर आप Rich dad poor dad hindi audiobook free download करना चाहते है? तो आप निचे दिए हुए लिंक पर क्लिक कीजिये और भारतीय ऑडियोबुक एप्प KUKU FM App को इंस्टाल कीजिये और उसमे रिच डैड पुअर डैड किताब की ऑडियो बुक समरी सुन लीजिये. एप्प को download करने की लिंक निचे दी हुई है.

Kuku FM App: Download

Related Articles : –

दोस्तो इस Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf आर्टिकल में सिर्फ इतना ही, दोस्तों अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा तो इस Rich Dad Poor Dad Hindi Pdf आर्टिकल को अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर कीजिए और आपको यह बुक समरी कैसी लगी हमे निचे कॉमेंट करके जरूर बताएं।

दोस्तों हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे नॉलेज ग्रो टेलीग्राम चैनल को जरूर subscribe करिए। दोस्तो फिर मिलेंगे ऐसे ही एक इंटरेस्टिंग और शानदार आर्टिकल के साथ तब तक केलिए आप जहा भी रहिए खुश रहिए….

धन्यवाद आपका दिन शुभ हो…

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये.

Leave a Comment