गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी जो आपकी जिंदगी बदल देंगी। | Gautam Buddha Story in Hindi

Life Changing Gautam Buddha Story in Hindi | गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी जो आपकी जिंदगी बदल देंगी।

नमस्ते मेरे प्यारे भाईयो और बहनों आप सभी का नॉलेज ग्रो मोटिवेशनल ब्लॉग पर स्वागत है। दोस्तो अगर आप इस कहानी को अंत तक पढ़ते हैं, तो आप अभी से ही अपना समय बर्बाद करना बंद कर देंगे। दोस्तो आज के इस गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी से आपको बहुत कुछ सीखने को मिलने वाला है, इसीलिए इस कहानी को अंत तक जरूर पढ़े।

गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी
गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी

गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी | Gautam Buddha Story in Hindi

दोस्तो एक बार गौतम बुद्ध अपने भिक्षुओं के साथ एक वृक्ष के निचे बैठ विश्राम कर रहे थे। उस वृक्ष की छाव में बुद्ध अपने भिक्षुओं की जिज्ञासा दूर कर रहे थे। बुद्ध के सभी भिक्षु एक एक करके उनसे प्रश्न पूछ रहे थे, और गौतम बुद्ध उनके प्रश्नों के उत्तर दे रहे थे।

बुद्ध के उन भिक्षुओं में कुछ भिक्षु ऐसे भी थे, जो कुछ समय पहले ही संघ से जुड़े हुए थे, जिसके कारण अभी उनके भीतर वह समझ पैदा नही हुई थी, जो गौतम बुद्ध के प्रवचनों को समझ सकें। गर्मियों का समय था, सूरज अपने चरम पर था और चारो तरफ धूप ही धूप थी।

लेकिन उस वृक्ष के कारण बुद्ध और उनके सभी भिक्षु आराम से छाव में बैठे हुए थे। इतने में ही गौतम बुद्ध के एक भिक्षु की नजर एक बूढ़े व्यक्ति पर पढ़ती है, जो उस वृक्ष के पास से ही गुजर रहा था। वह भिक्षु उस बूढ़े व्यक्ति को देखकर अचानक से ही हसने लगता है।

उस बूढ़े व्यक्ति की उमर बहुत ज्यादा हो गई थी, जिसके कारण उसकी कमर मुड़ गई थी। उस बूढ़े व्यक्ति के हाथ में एक डंडा था, जिसका सहारा लेकर वो बूढ़ा व्यक्ति अपनी मंजिल तक पहुंचने का प्रयास कर रहा था। उस बूढ़े व्यक्ति का शरीर केवल हड्डियों का ढांचा मात्र था।

अपने भिक्षु को हंसते हुए देख बुद्ध उससे कहते हैं की मेरे प्रिय भिक्षुओं कृपा कर हसो मत, क्योंकि जिस व्यक्ति को देखकर तुम अभी हस रहे हो, वो कोई साधारण व्यक्ति नहीं है, बल्कि वह व्यक्ति इसी क्षण तुम्हारे जीवन को रूपांतरित करने की क्षमता रखता है।

जो आज तक में तुम्हे सीखा नही पाया, वह यह बूढ़ा व्यक्ति तुम्हे सीखा रहा है, इसके द्वारा दियी गई सीख को बेकार ना करो। बुद्ध की ये बात सुन कर वह भिक्षु बुद्ध से कहता है की “मुझे क्षमा करे बुद्ध पर मुझे ये समझ नही आ रहा है की जो एक बूढ़ा व्यक्ति जो खुद अपने शरीर और अपनी बीमारियो से लाचार है, वो मुझे क्या सीखा सकता है?”

फिर बुद्ध उस भिक्षु से कहते हैं की ये बुढ़ा व्यक्ति तुम्हे तुम्हारा भविष्य दिखा रहा है। जिस बुढ़ापे को और लाचारी को देख कर तुम अभी हस रहे हों, वो बुढ़ापा और लाचारी तुम्हारे जीवन में भी आने वाली है। वह बुढ़ा व्यक्ति तुमसे कह रहा है की “अभी समय है इस स्वस्थ शरीर का अच्छे कर्म करने के लिए उपयोग करो”

अगर तुम्हारा ये स्वस्थ शरीर तुम्हारे हाथ से निकल गया तो फिर से वापस नहीं आएगा। और अभी तुम्हारा ये शरीर सही से काम कर रहा है, जैसे की तुम्हारे हाथ, पैर , आंख , कान और ये सभी चीजे सही से काम कर रही है। क्या यह छोटी बात है! और क्या तुम इसे मामूली सी बात समझ रहे हों।

यह घटना कोई साधारण घटना नही थी, जो अभी तुम्हारे साथ घटी और ये घटना तुम्हारे जीवन को बदलने की क्षमता रखती है। ठीक इसी तरह की घटना ने मेरा जीवन बदला था ओर इस तरह की घटना के कारण ही में आज बुद्ध हूं।

फिर वह भिक्षु बुद्ध से कहता है की क्षमा करें बुद्ध परंतु मेरे मन में यह विचार ही नहीं आया, की में उस बूढ़े व्यक्ति से कुछ सीख सकता हूं, उसे देख कर केवल मुझे हसी आ गई। ऐसा इसीलिए हुआ क्योंकि तुम्हे अपने भीतर कही ना कही लगता है की “जिस स्थिति में आज वो बूढ़ा व्यक्ति है, उस स्थिति में तुम कभी नहीं आओगे”

जिस बुढ़ापे का और लाचारी का सामना आज वो बुढ़ा व्यक्ति कर रहा है, तुम्हे लगता है की उसका सामना तुम कभी नहीं करोगे, इसीलिए तुम उस बूढ़े व्यक्ति को देखकर हस पाएं। तुमने सच्चाई को नजरंदाज कर दिया, अगर तुम सच्चाई को देख लेते , तो चाहकर भी अपने आंखो के आंसुओ को नही रोक पाते।

परंतु तुमने सत्य को अनदेखा कर दिया, और तुम बहुत बड़ी संभावना से चूक गए। बुद्ध की ये बात सुन वो भिक्षु बुद्ध से क्षमा मांगता है और ये निश्चय करता है की “वह अपने स्वास्थ का उपयोग अपने अहंकार को बढ़ाने में नही बल्कि परम सत्य को पाने में करेगा।

दोस्तो जो लोग इस कहानी को पढ़ रहे हैं , हो सकता है की आप बड़ी बड़ी समस्याओं में हो या हो सकता है की आप परेशानियों में हो! लेकिन फिर भी एक बात को हमेशा ध्यान में रखना है की “जब तक आपका स्वास्थ ठीक है, तब तक आप किसी भी बड़ी से बड़ी समस्या से बाहर आ सकते हैं।

दोस्तो इसीलिए बुद्ध ने कहा है की हमारा स्वास्थ्य हमारा सबसे बड़ा उपहार है, जो हमे इस श्रृष्टि से मिला हुआ है, इसीलिए इसका उपयोग सही से करे।

दोस्तो आपको यह गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी कैसी लगी कृपया हमे नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं। और आपको यह कहानी पसंद आई होगी तो अपने दोस्तो के साथ इसे अवश्य शेयर कीजिए, ताकि और लोगो को भी गौतम बुद्ध की शिक्षाप्रद कहानी पढ़ने को मिल सके।

रिलेटेड आर्टिकल्स:

दोस्तों आज के इस Gautam buddha Story in Hindi आर्टिकल में सिर्फ इतना ही दोस्तो हम आपसे फिर मिलेंगे ऐसे ही एक आर्टिकल के साथ तब तक के लिए आप जहा भी रहिए खुश रहिए और खुशियां बांटते रहिए।

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद.

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Leave a Comment