इस तरह से हो रहा है युवाओं का पतन – Save Your Future

जानें इस तरह से हो रहा है युवाओं का पतन (आर्टिकल को अंत तक जरुर पढ़े)

दोस्तो आज का यह आर्टिकल उन सभी नव युवकों के लिए है, जो अपने वीर्य को मनमाने तरीके से हस्थमैथुन के जरिए बाहर निकाल देते हैं। दोस्तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए बहुत ही खास और जीवन को बदल देने वाला साबित होने वाला है, इसीलिए हर एक मित्र इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़िए।

दोस्तो एक विचार या एक आर्टिकल या एक वीडियो आपकी जिंदगी बदल सकता है। क्योंकि मैंने मेरे जीवन में अनुभव किया हुआ है। अब अनुभव करने की आपकी बारी है। इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ना बहुत जरुरी है।

इस तरह से हो रहा है युवाओं का पतन
image source: lokmatnews.in

दोस्तो हमारे देश में हस्थमैथुन करने वालों की संख्या बहुत ही तेजी से और लगातार बढ़ती ही जा रही है, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है की “हमारा भारत देश दुनिया का 3 रा सबसे ज्यादा पोर्न विडियोज देखने वाला देश बन गया है।”

और यह जानकारी दुनिया की सबसे बड़ी पोर्न वेबसाइट पोर्नहब ने दी हुई है। दोस्तो इन्होंने 2015 के एक रिव्यू में ये भी कहा है की पोर्नहब वेबसाइट पर भारतीयों द्वारा 21.2 बार विजिट किया गया। यानी की हर मिनट 40 हजार लोग और हर घंटे 2 करोड़ 10 लाख भारतीय इस वेबसाइट पर अश्लील विडियोज देख रहे थे।

क्योंकि उस समय Free Jio लॉन्च ही हुआ था। हां दोस्तो, ये तो 2015 के आंकड़े बताते हैं , पर अगर अभी की बात करें तो यह संख्या इतनी ज्यादा बढ़ गई है की जिसका अनुमान लगाना ना मुमकिन सा है, और ये संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है।

दोस्तो अब आप सोच रहे होगे की भारत के दूर संचार विभाग ने पोर्न वेबसाइट्स को ब्लॉक करने का आदेश दिया हुआ है और करीब 1000 से भी ज्यादा पॉर्न साइट को ब्लॉक कर दिया हुआ है।

पर दोस्तो 2015 में भी ऐसी वेबसाइट पर रोक लगा हुआ था, लेकिन उसके कुछ वक्त बाद ही तमाम तरह की नई पोर्न वेबसाइट्स हमारे इंटरनेट के मायाजाल में उपलब्ध हो गई और लोग फिर से उनका इस्तमाल करने लगें।

दोस्तो वीर्य की हो रही इस बर्बादी को रोकने के लिए हमे कुछ तो करना ही होंगा। क्योंकि अगर समय रहते हमने इसकी मेहत्वता नही जानी तो हमारी जिन्दगी हम पर ही एक बोझ बन जायेगी।

और वो व्यक्ति अपने जीवन में कुछ भी नही कर पायेगा, क्योंकि उसकी मानसिक शक्ति कमजोर हो जायेगी। और अगर ऐसा हुआ तो हमारे देश में ना तो भगत सिंग जैसा पैदा होंगा और नाही उदम सिंग जैसा और नाही विवेकानंद जैसा।

क्योंकि हमारा ये भारत देश संतो का देश रहा है और क्रांतिकारियों का देश रहा है। और दोस्तो राजीव दीक्षित जी के अनुसार हमारे देश में यह मायाजाल विदेशी कंपनियों के द्वारा जान बूझकर फैलाया गया हुआ था।

क्योंकि उनको पता था की भारत देश में जो की संतो और क्रांतिकारीयो का देश रहा है और वहा पर फिर से अगर कोई भगत सिंग जैसा या विवेकानंद जैसा या स्वामी दयानंद जैसा पैदा हो गया, तो विदेशी कंपनियों को भारत से मार मारकर भारत से बाहर निकाल देंगे।

इसीलिए वो अपने साथ टेलीविजन लेकर आए हुए थे, ताकि भारत के नव युवकों को मीठी नींद की गोली दे सकें। तो दोस्तो इस तरह टीवी और मोबाइल की मदद से अश्लील जाहिराते और विडियोज हमे दिखाई दिए जाते है ताकि हम हमेशा अपनी ही परेशानियों में रहे और कभी भी ऊपर न उठ पाए।

और बार बार अश्लील दृश्यों के देखने के बाद कोई भी व्यक्ति अपने आप को कंट्रोल नही कर पाता है और फिर बलात्कार और रेप जैसे घटिया और घिनौने कृत्य हमारे इस देश में होने लग जाते है। क्योंकि व्यक्ति जैसा देखेगा वैसा ही करने का उसका मन करेगा

और दोस्तो इस तरह व्यक्ति मनमाने तरीके से अपने बेशकीमती वीर्य को बर्बाद करता रहता है। में वीर्य को बेश कीमती क्यू केह रहा हूं आइए जानते हैं। दोस्तो क्या आपको पता है की जिस वीर्य को आप हस्थमैथुन या स्वप्न दोष के जरिए बाहर निकाल देते हो, उसे बनने में कितना समय लगता है?

और हमे कितना भोजन करना पड़ता है तब जाकर 20 ग्राम वीर्य बनता है? दोस्तो आधुनिक वैज्ञानिक भी कहते हैं की लगभग 32kg भोजन से 700 ग्राम रक्त बनता है और 700 ग्राम रक्त से 20 ग्राम वीर्य बनता है, बशर्ते अगर शरीर स्वस्थ हो।

दोस्तो प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ कैलाग जी का कहना है की “मेरी सम्मति में मानव समाज को प्लेग, चेचक तथा इस प्रकार की अन्य व्याधियों से एवम युद्ध से जितनी हानि नहीं पहुंचती , जितनी हस्थमैथुन तथा इस प्रकार के अन्य गंदे कामो को करने से पहुंचती है।”

कम उम्र के बच्चो ने अगर इस प्रकार के अश्लील दृश्यों को देख लिया , तो उन बच्चो को ध्यान कामवासना की तरफ चला जाता है। और वो बच्चे कम उम्र में ही काम क्रीड़ा करने में लग जाते है। ज्यादा तर रिसर्च में यह पाया गया है की बच्चे हस्थमैथुन करने में ज्यादा और जल्दी लग जाते हैं।

क्योंकि इस काम में उनको किसी और की सहायता नही लगती है। बच्चे अपने लिंग का प्रयोग करके अपने हाथो से वीर्यपात करते है और बाद में यह उनकी आदत बन जाती है। एक स्टडीज में यह पता चला है की कुछ बच्चे बहुत कम उम्र में यानी की 13 से 16 साल की उम्र में ही दिन में करीब 3 बार तक हस्थमैथुन करते हैं।

दोस्तो हस्थमैथुन नौजवानों के नस्ल को बर्बाद कर देता है और उनकी शारीरिक एवम मानसिक शक्ति को वीर्यपात के जरिए खत्म कर देता है। और वो नौजवान लड़का एक जिंदा लाश बनकर रह जाता है।

दोस्तो इसीलिए घर में नौजवान ज्यादा भारी, शारीरिक और मानसिक कामों को करने में असमर्थ हो जाता है। वह नौजवान अपने शादीशुदा जिंदगी में भी अपनी पत्नी को खुश नही रख पाता है, इसीलिए घर में हर दम तनाव बना रहता है।

हस्थमैथुन की गंदी आदत से मात्र कुछ मिनटों में ही अपने बेशकीमती धातु को अर्थात वीर्य को बर्बाद करने वाले अधिकांश युवक ये समझ ही नही पाते की खाए गए भोजन से वीर्य बनने की प्रक्रिया कितनी ज्यादा लंबी, जटिल और दुरय है।

दोस्तो आचार्य शुश्रुर्त जी ने लिखा है की 👇

रसाद्र्त्रम ततो मांसं मान्सान्मेदः प्रजायते । मेदस्यास्थी ततो मज्जा मज्जयाः शुक्र संभवः

जानें इस तरह से हो रहा है युवाओं का पतन
Image Source: Youtube

अर्थात भोजन पचकर पहिले रस बनता है, फिर उसके पांच दिन बाद उसका रक्त बनता है और फिर उसके पांच दिन बाद रक्त में से मांस फिर उसके 5 – 5 दिन के अंतर पर मेद बनता है और फिर मेद से मज्जा और मज्जा से अंत में वीर्य बनता है और स्त्री में ये जो धातु बनता है उसे रज कहते हैं।

दोस्तो इस प्रकार वीर्य बनने में 30 दिन और 4 घंटे लग जाते हैं। दोस्तो वीर्य की मनमाने तरीके से बरबादी करने वालों को ये समझना चाहिए की “आखिर ब्रम्हचर्य का वास्तविक अर्थ हे क्या?” दोस्तो ब्रम्हचर्य का वास्तविक अर्थ है अपने सभी इंद्रियों पर काबू पाना।

इस तरह से हो रहा है युवाओं का पतन
Image Credit: Youtube

दोस्तो जिसके बारे में एक रोचक सत्य प्रसंग है।

एक बार स्वामी दयानंद सरस्वती जी से किसी ने पूछा की क्या आपको कामदेव सताता है या नहीं? फिर उन्होंने जवाब दिया की “हां, वो आता तो है मेरे पास परंतु उसे मेरे मकान अर्थात मेरे मन के बाहर ही खड़े रहना पड़ता है, क्योंकि वो मुझे कभी खाली ही नही पाता है।”

दोस्तो स्वामी दयानंद सरस्वती जी कई तरह के सेवा कार्यों में इतने ज्यादा व्यस्त रहते थे की उन्हे उन सब बातों के बारे में सोचने तक की फुरसत नहीं थी। यही था उनके ब्रम्हचर्य का रहस्य

दोस्तो वास्तव में विश्व स्वास्थ संघटन (who) जैसी संस्थाएं चेचक, टीबी, पोलियो तथा अन्य संक्रामित रोगों की रोकथाम के लिए हर साल करोड़ों डॉलर खर्च करती है, परन्तु इन सब से ज्यादा हानिकारक एक रोग है, जिसे “वीर्यहास्य” कहते हैं।

और निश्चित रूप से इसकी गंभीरता को हर बुद्धिमान व्यक्ति जरूर समझता है। दोस्तो हस्थमैथुन की गंदी आदत से छुटकारा कैसे पाए और स्वप्नदोष जैसी बीमारी का इलाज क्या है? यह जानने से पहले आप यह अच्छे से जान लीजिए की “आखिर जरूरत क्या है इन समस्याओं से पीछा छुड़ाने की”

दोस्तो हस्थमैथुन या स्वप्नदोष इन दोनों समस्याओं से वीर्य और रज का अप्राकृतिक तरीके से नाश हो जाता है। वीर्य या रज के नाश होने से होनेवाले नुकसानो को ठीक से समझने से पहले यह समझने की जरूरत है की ब्रह्मचर्य के फायदे क्या हैं?

वास्तव में सारी दुनिया एक तरफ और एक ब्रह्मचारी का तेज दूसरी तरफ। दोस्तो ब्रह्मचारी में इतना प्रचंड तेज होता है उसकी तुलना दुनिया का बड़ा सा भी बड़ा हतीयार नही कर सकता है। जिसका एक प्रसिद्ध उदाहरण था , श्री भीष्म पितामह

जिनके साथ सामना करने की ताकत पांडवों में किसी में भी नही थी, इसीलिए श्री कृष्ण को अर्जुन को भेजना पड़ा स्वयम भीष्म पितामह के पास सिर्फ यह जानने के लिए की आखिर वो मरेंगे कैसे? इसीलिए केवल शादी ही नही करने से कोई पूर्ण ब्रह्मचारी नही हो जाता है।

बल्की इसके लिए कई कठिन योग साधनाएं करनी पड़ती है। जैसे की शक्ती चालिनी मुद्रा, कपालभाति प्राणायाम, सिद्धासन और त्रिबंध प्राणायाम जैसे आदि का बेहद लंबा अभ्यास करना पड़ता है।

जिससे वीर्य की उर्ध्वगती उर्ध्वरेतस होती है, जिससे मानव महामानव में धीरे धीरे तब्दील हो जाता है। वीर्य अत्यधिक नाश से शरीर की जीवनी शक्ति गड जाती है और जिससे शरीर की रोग प्रतिकारक शक्ति कम हो जाती है।

आंखो की रोशनी कम हो जाती है, शारीरिक एवम मानसिक बल कमजोर हो जाता है। स्मरण शक्ति कमजोर होने लगती है और हाथ पैर कापने लग जाते हैं। दोस्तो यह थे वो कुछ साइड इफेक्ट्स जो वीर्य का नाश करने से होते ही होते है।

दोस्तो साधना द्वारा जो साधक अपने वीर्य को ऊर्ध्वगामी बनाकर ऊर्ध्वरेता बनकर योग साधना में आगे बढ़ते हैं , वे अनेक दिव्य सीढ़ियों के मालिक बन जाते हैं। ऐसे दिव्य पुरुष निश्चित ही भगवान का दर्शन प्राप्त कर सकते है।

दोस्तो ऑक्सीजन हमारे लिए प्राणवायु है, तो वीर्य हमारी जीवनी शक्ति है। अतय जैसे जीने के लिए ऑक्सीजन चाहिए , ठीक वैसे ही स्वस्थ रहने के लिए स्वस्थ शुक्राणु चाहिए। दोस्तो वीर्य इस शरीर रूपी नगर का राजा ही है।

अगर यह वीर्य रूपी राजा अगर पुष्ट हो अर्थात बलवान हो, तो रोग रूपी शत्रु हमारे शरीर रूपी नगर पर कभी भी हमला नही कर पाते हैं। दोस्तो शास्त्रों में इस तथ्य के समर्थन में कहा गया है की

आयुस्तेजोबलं वीर्य प्रज्ञाश्रीश्च महद्यशः । पुण्यं च प्रीतिमत्वं च हन्यतेऽब्रह्मचर्यया ॥

अर्थात आयु, बल, तेज , वीर्य , बुद्धि , लक्ष्मी, कीर्ति , पुण्य प्रीति आदि सब विभूतियां ब्रह्मचर्य का पालन न करने पर प्लायम (नष्ट हो जाना) कर जाती है। जो लोग कम उम्र में ही विर्य पात करते हैं, उनका वीर्य पतला हो जाता है, जिसके कारण उन्हें स्वप्न दोष की बीमारी लग जाती है।

उसके साथ ही उनके हाथ पैर बारीक हो जाते हैं। आंखे अंदर धस जाती है और गाल पिचक जाते है। हर वक्त कमजोरी लग जाती है और वह व्यक्ति बहुत चिड चिड़ा बन जाता है और मानसिक रोगी बन जाता है। हर वक्त वो अपनी ही परेशानी में ही रहता है और अकेला पन उसे अच्छा लगता है।

उसके हौसले पस्थ हो जाते है और चार लोगो में जाने से से शर्माता है। उसके साथ ही ज्यादा शारीरिक या मानसिक श्रम का काम वह व्यक्ति नही कर पाता है। उसकी प्रतिकारक शक्ति बहुत कम हो जाती है, इसी वजह से वो हर दम बीमार रह जाता है।

विद्यार्थियों की मानसिक ताकत एवम यादाश्त बहुत कमजोर हो जाती है। उसके वजह से वे हर समय एग्जाम में फेल हो जाते है या बहुत ही कम नंबर से पास हो जाते है। उनके बाल वक्त के पहले ही सफेद हो जाते है और झड़ने लगते हैं।

उसके साथ ही आंखे वक्त के पहले ही कमजोर हो जाती है और शरीर में खून की कमी हो जाती है और पाचन क्रिया कमजोर हो जाती है और उसके वजह से खाना कम चलता है। और हमेशा उस व्यक्ति को गैस, अपचन की तकलीफ रहती है।

और वो व्यक्ति थोड़े से भी काम से थक जाता है। हर वक्त कमर में दर्द ओर शरीर में थकावट रहती है। ऐसे व्यक्ति की शादी शुदा जिंदगी भी कुछ खास अच्छी नहीं रहती है। और हर वक्त उस व्यक्ति की सोच कामुक और गंदी रहती है।

वह व्यक्ति हर लड़की तरफ कामुक विचारो से सोचता है और ऐसे ही उस व्यक्ति की जिंदगी दुनिया में ही नर्क बन जाती है। ऐसे ही कितने हस्ते खेलते घर इस बुरी आदत के वजह से उजड़ जाते है। तो दोस्तो आप अपने वीर्य को ऐसे ही बर्बाद ना करिए।

दोस्तो जो लोग हस्थमैथुन करते हैं या अश्लील वीडियो देखते हैं, उन्हे अपने आपको देखना चाहिए और उन्हें अपने आपसे यह सवाल पूछना चाहिए की आखिर ऐसा करने से क्या होंगा भला। आप उसके अंत में जाइए और देखिए सोचिए की आप जो यह कर रहे हैं इससे आपको क्या लाभ मिलने वाला है।

जब आप यह देखने लग जायेंगे तो आप संकल्प लेकर संकल्प शक्ति के साथ किसी भी व्यसन से बाहर आ सकते हैं। क्योंकि महर्षि बागभट जी ने कहा है की अगर किसी भी व्यसन से बाहर निकलना है, तो आप संकल्प शक्ति के द्वारा बाहर निकल सकते हैं।

इस तरह से हो रहा है युवाओं का पतन
Image Source: youtube

दोस्तो हम आपसे विनती करते हैं की यह गंदा और मनहूस काम करना छोड़ दे, जो आपको बरबाद कर देगा। अगर आप इसे छोड़ने में असमर्थ हैं? तो कोई बात नहीं, दोस्तो हम इस व्यसन को छुड़ाने में आपकी पूरी मदद करेंगे।

दोस्तो इस दुनिया में ऐसी कोई भी चीज नहीं जिसका कोई सोल्यूशन्स नहीं है। अब में आपके साथ कुछ ऐसी जानकारी शेयर करने वाला हु, जिसे जानने के बाद आपका जीवन पुरी तरह से बदल जाएगा।

दोस्तो अब में आपके साथ तीन रामबाण उपाय शेयर करूंगा, जो आपके जीवन को बदल देंगी। आपको सिर्फ इन तीन चीज़ों को फॉलो करना है और कुछ नही करना है। क्या है वो जानकारी जो आपके जीवन को बदल सकती है? उसे जानने के लिए आर्टिकल के अंत तक बने रहिए।

1. दोस्तों सबसे पहले आपको पॉर्न देखना और हस्थमैथुन करना बिलकुल ही बंद कर देना है। उसके साथ ही आपको ब्रह्मचर्य का पालन करना भी शुरू करना है। अगर आप ब्रह्मचर्य क्या है और उसके फायदे और उसका पालन कैसे करें? यह जानना चाहते हों? तो आप नीचे दिए गए आर्टिकल को एक बार जरूर पढ़िए।

2. दोस्तो उसके बाद अगला कदम जो आपको उठाना है और वो है की आपको युवाओं की जिंदगी बदल देने वाली दिव्य प्रेरणा प्रकाश किताब को पढ़ना है। इस किताब में बताया गया है की किस तरह जीवन को जीने से जीवन का ओज बना रहता है।

दोस्तो अगर आप दिव्य प्रेरणा प्रकाश किताब की हिन्दी पीडीएफ फ्री डाऊनलोड करना चाहते हैं? तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप दिव्य प्रेरणा प्रकाश को फ्री में डाउनलोड कर सकते है।

3. दोस्तो उसके बाद तीसरा और आखरी कदम है जो आपको उठाना है और वो है की लाखो युवाओं को पॉर्न और हस्थमैथुन के दलदल से बचाने वाले Manthanhub यूट्यूब चैनल को फॉलो करना है।

क्योंकि दोस्तो इस चैनल ने मेरी और मेरे जैसे और लाखों युवाओं की जिंदगी बदल दी है। दोस्तो अगर अपने manthanhub की विडियोज देखली तो आपको आपके जीवन में परिवर्तन लाने से कोई भी नहीं रोक सकता है।

दोस्तो यह मेरा और Manthanhub से जुड़े हुए 1 मिलियन युवाओं का प्रेक्टिकल अनुभव है। दोस्तो नीचे मैने manthanhub से जुड़े हुए एक युवा का प्रैक्टिकल अनुभव एक वीडियो के माध्यम से शेयर किया हुआ है, उसे जरूर देखें।

दोस्तो आज के इस जानकारी के प्रति आपके क्या विचार है? यह हमे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं। उसके साथ ही अपने दोस्तो के साथ इस आर्टिकल को शेयर जरूर कीजिए।

ताकि आपके दोस्तों को भी पता चल सके कि ये मायाजाल किस तरह हमारा चरित्र बिगाड़ने के लिए बिछाया गया हुआ है। इसीलिए हर एक मित्र इस आर्टिकल को अपने दोस्तो के साथ फेसबुक , व्हाट्सऐप और टेलग्राम पर शेयर करना बिलकुल भी न भूलें।

Releted Posts: 

Join Our Telegram Channel

दोस्तो हमारे साथ साथ जुड़े रहने के लिए आप हमारे नॉलेज ग्रो टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन जरूर किजिए। दोस्तो आज के इस आर्टिकल में सिर्फ इतना ही, दोस्तो हम आपसे फिर मिलेंगे part 2 में तब तक के लिए आप जहा भी रहिए खुश रहिए और खुशियां बांटते रहिए।

आपका बहुमूल्य समय हमे देने के लिए दिल से धन्यवाद 🙏🙏🙏

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

3 thoughts on “इस तरह से हो रहा है युवाओं का पतन – Save Your Future”

Leave a Comment