The Intelligent Investor Book Summary in Hindi (With Pdf Download)

The Intelligent Investor Book Summary in Hindi, The Intelligent Investor in Hindi PDF Free Download

नमस्कार दोस्तों आप सभी का हमारे नॉलेज ग्रो मोटिवेशनल ब्लॉग पर स्वागत है। दोस्तो आज का यह आर्टिकल आप सभी के लिए बहुत ही यूजफुल साबित होने वाला है। क्योंकि दोस्तो आज के इस आर्टिकल के जरिए में आपके साथ The Intelligent Investor Book Summary in Hindi में शेयर करने वाला हु। इसीलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़िए।

the intelligent investor book summary in hindi
the intelligent investor book summary in hindi

The Intelligent Investor Book Summary in Hindi

दोस्तो हम सब जानते हैं की Intelligent Investor Book को investing की best book माना जाता है। और हर कोई कहता है की अगर investing सीखनी है तो इस किताब को जरूर पढ़िए। लेकिन दोस्तो आप में से जितने भी लोगो ने इस किताब को पढ़ा हुआ है, वे लोग जानते हैं की इस किताब में जो कुछ भी लिखा हुआ है, उसे समझना इतना आसान नहीं है।

दोस्तो वो इसीलिए क्योंकि इस किताब को बहुत सालो पहले लिखी हुई थी और तब इंग्लिश थोड़ी अलग तरह की होती थी, और हिन्दुस्तानीयों के लिए उसे समझना थोड़ा ज्यादा डिफिकल्ट होता था। इसीलिए दोस्तो इस किताब को पढ़कर उसे समझना इतना आसान नहीं है।

दोस्तो अगर आप The Intelligent Investor Book को पढ़ने के बारे में सोच रहे हैं, या आप सोच रहे हैं की आप इस किताब से कैसे सिख सकते है? तो आप बिलकुल सही जगह पर आए हुए हैं। क्योंकि दोस्तो इस आर्टिकल में, में आपके साथ इस किताब में दिए गए 4 important points के बारे में disscus करने वाला हु।

फिर उसके बाद जब भी आप इस किताब को पढ़ने जायेगे, तो आपको इस किताब में दिए हुए सारे फंडो को समझने में काफी आसानी होगी। तो बिना समय को वेस्ट किए चलिए The Intelligent Investor Book Summary की शुरूआत करते हैं।

Investing Vs Speculating

दोस्तो सबसे महत्वपूर्ण कांसेप्ट जो इस किताब में डिस्कस की हुई है और वो है की Investers और Speculaters में क्या फर्क होता है। दोस्तो कई बार हमे यह पता ही नही होता है की हम investing कर रहे हैं या Speculate कर रहे हैं।

हमे लगता तो यह है की हम Investers है लेकिन हम होते Speculaters। तो दोस्तो अब जानते हैं की एक Investers और Speculaters में क्या फर्क होता है? इसे जानने के लिए इस आर्टिकल के अंत तक बने रहिए।

Investers और Speculaters में क्या फर्क होता है?

दोस्तो एक Investers होने के लिए हमारे अंदर 3 चीजों का होना बहुत जरूरी है। पहला थ्योरो रिसर्च यानी की जब भी आप किसी स्टॉक को पिक कर रहे हैं, तो उससे पहले आप उस company के बारे में खूब ज्यादा रिसर्च करें।

दोस्तो ज्यादातर लोग टीवी न्यूज को देखकर या किसी मैगजीन में किसी एक शेयर के बारे में जरा सा एक रिपोर्ट पढ़कर उस शेयर को खरीदने के बारे में सोचने लग जाते है। लेकिन दोस्तो इस किताब के लेखक बेंजामिन ग्राहम जी इस किताब में कहते हैं की 👇👇👇

जो लोग दूसरों की रिसर्च पढ़के investing करते हैं, वे लोग Investers है ही नही बल्कि वे एक Speculaters है।

दोस्तों Investers की सेकंड क्वॉलिटी होती है की वो सेफ्टी ऑफ कैपिटल पर बहुत ज्यादा ध्यान देते हैं। दोस्तो जब हम किसी एक स्टॉक को सेलेक्ट करते हैं, तब हम इस बात का ध्यान रखते हैं की हम जिस भी दाम पर किसी भी शेयर को खरीद रहे हैं, वहा हमारा पैसा सैफ है की नही?

वही पर Speculaters को सिर्फ एक चीज से मतलब होता है की आज में अगर 100 रूपयो का एक शेयर ले रहा हूं, तो क्या ये शेयर कुछ ही महीनों में या 2 – 4 महीनों में डबल या 4 गुना हो सकता है। दोस्तो ऐसी सोच रखने वाले लोग Speculaters होते हैं।

दोस्तो वही पर इन्वेस्टर्स पहली इस चीज का ध्यान रखते हैं की मेरा पैसा इस दाम में सैफ है या नही? अगर आप एक Investor बनना चाहते हैं, तो सेफ्टी आपकी सबसे पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। दोस्तो अब 3 री बात आती है प्रॉमिस ऑफ एडिक्वेट रिटर्न.

दोस्तो ये थोड़ा पेचीदा है क्योंकि एडिक्वेट रिटर्न मतलब कितना रिटर्न? दोस्तो ये आप पर निर्भर करता है की आप कितने रिटर्न पर संतुष्ट है। अगर आप 7 या 8% रिटर्न्स से संतुष्ट है, तो आपके लिए FD भी एक investment है। लेकिन अगर आपको 15% तक का रिटर्न्स चाहिए, तो FD सिर्फ आपके लिए केवल एक सेविंग है और वो आपके लिए इन्वेस्टमेंट नही है।

तो आपके लिए कौन सा इन्वेस्टमेंट सही है? क्या आपको FD में इन्वेस्टमेंट करना चाहिए जो आपको 7 से 8% तक का रिटर्न देंगी। क्या आपको गोल्ड में इन्वेस्ट करना चाहिए जो आपको 11 से 12% तक का रिटर्न देंगी। या आपको म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना चाहिए जो आपको 14 से 15% तक रिटर्न देंगी।

या आपको सीधे स्टॉक मार्केट में Invest करना चाहिए, जो आपको 20% तक का रिटर्न दे सकता है। तो आपके लिए सही रिटर्न क्या है, तो उससे डिपेंड करेगा की आपके लिए क्या इन्वेस्टमेंट है और क्या सेविंग है।

Mr Market Consept क्या है? जानिए आसान भाषा में

दोस्तो सेकंड पॉइंट जो इस किताब में मैंशन किया हुआ है वो है: Mr Market का… दोस्तो बहुत ही interesting concept है, चलिए जानते उसके बारे में… दोस्तो Mr Market एक काल्पनिक इंसान है, जो की मार्केट को चलाता है, ऐसा इस बुक में कहा गया है।

पूरे मार्केट को Mr Market नाम का एक व्यक्ति चलाता है, और वो बहुत ही मुड़ी है। क्योंकि किसी दिन वो बहुत ही अच्छा फील करता है और उसका मूड बहुत ही अच्छा रहता है और किसी दिन वो बहुत ही dipressed रहता है। और जिस दिन Mr Market अच्छा और पॉजिटिव फील कर रहे होते हैं, तो वे उसी दिन सारे शेयरों के दामों को बहुत ही महंगे कर देता हैं।

उसी दिन आपको सारे शेयरों के दाम बहुत ही महंगे मिलेंगे और आप कुछ भी खरीदने जायेगे तो आपको उस दिन सब कुछ महंगा ही मिलेगा। क्योंकि उस दिन Mr Market बहुत ही पॉजिटिव फील कर रहा है। ठीक वैसे ही कुछ दिनों के बाद Mr Market बहुत ही नेगेटिव और डिप्रेस्ड रहते हैं।

और उन्हे यह लगता है की देश का अब कुछ नही हो सकता है और iconomy का कुछ नही हो सकता है और अब मार्केट खतम होने वाला है और सारे business अब डूबने वाले है। तो उस दिन अब वो डिप्रेशन में है, इसीलिए Mr Market सारे शेयरों को बहुत ही सस्ते दामों में बेचना चाहते हैं।

और वो कहते हैं की जिसको जिस दाम में शेयर लेना है वो लेलो। तो इस किताब के लेखक बेंजामिन ग्राहम जी कहते हैं की आपको इंतजार करना होगा की किस दिन Mr Market का मुड खराब है और वे डिप्रेशन में है। जिस दिन Mr Market का मुड खराब होंगा उस दिन आपको उनके खराब मुड का फायदा उठाना है।

दोस्तो आपके लिए यह खुशी की बात है की Mr Market का मूड खराब है, क्योंकि जिस दिन Mr Market का मुड खराब है और वे डिप्रेस्ड है, उस दिन आपको शेयर्स को खरीदना है और जिस दिन उनका मुड बहुत ही अच्छा रहता है, उस दिन आपको आपके पास जो भी शेयर्स है, उन्हे महंगे दामों में उनको बेचना है।

दोस्तो इस तरह से मार्केट आपको नही बल्कि आप मार्केट को चलाएंगे। लेकिन समस्या तब आती है, जब हम अपना मुड Mr Market के हिसाब से चलाते हैं। अगर Mr Market dipressed है और सारे स्टॉक्स red है , तब हम भी डरने लगते है और हमारा भी मुड नेगेटिव हो जाता है।

और हम भी उस गिरे हुए स्टॉक मार्केट में अपने शेयर्स को बेचने लग जाते है। दोस्तो अगर आप Mr Market के मुड के हिसाब से अपना मुड तय करेंगे, तो आप हमेशा ही लॉस में रहेंगे। अगर आप अपने मुड को Mr Market के मुड के ऑपोजिट अपना मुड रखेंगे, तो आपको बहुत ज्यादा फायदा हो सकता है।

दोस्तो ये सिंपल सी बात इस पूरी किताब की समरी है। अगर आपको इस किताब में से सिर्फ एक चीज ध्यान में रखनी है, तो आपको Mr Market का कंसेप्ट याद रखना है। दोस्तो अब जानते है अगले consept के बारे में…

Margin of Sefety

दोस्तो जरा सोचिए की आप एक सिवील इंजीनियर है, और आपको सरकार ने एक काम दिया हुआ है की एक पुल बनाना है, जिसमे एक बार में 10 ऐसे ट्रक गुजरेंगे, जिसका वजन 1000 किलो है, यानी की एक हजार के 10 ट्रक उस पुल से गुजरा करेंगे। तो उस पुल में इतनी क्षमता होनी चाहिए की वो पुल 10 हजार किलो का वजन सेहन कर सकें।

तो अगर आप एक सिविल इंजीनियर है, तो क्या आप उस पुल को बस इतना ही स्ट्रॉन्ग बनाएंगे की वो बस 10 हजार kg का वजन ही सेहन कर सकें, या आप उससे थोड़ा ओर ज्यादा क्षमता का पुल बनायेंगे। जैसे की 11 या 12 हजार किलो को पुल, ताकि कही कोई overloaded ट्रक आ जाए, या कोई एक्स्ट्रा ट्रक आ जाए तो भी पुल को कुछ भी नही होना चाहिए।

दोस्तो ठीक उसी तरह हमेशा आपकी जितनी रिक्वायरमेंट है, उससे थोड़ा ज्यादा Sefety लेकर चलना उसे Margin of Sefety कहते हैं। यानी की अगर आपको ऐसा लग रहा है की कोई शेयर आपको 100 रुपए में बहुत ही अच्छे दाम पर मिल रहा है, तो उस शेयर को 100 में नही बल्कि 80 में खरीद लीजिए।

उस शेयर में आपको 20% तक का Margin of Sefety रखिए, क्योंकि आपका अंदाजा गलत हो सकता है। अगर आपको कोई कंपनी 100 में अच्छी लग रही है, तो आपके कुछ अनुमान होंगे की आगे चलकर कंपनी की अच्छी सेल बढ़ेगी और मुनाफा बढ़ेगा।

तो आपका अनुमान बहुत सारे कारणों से गलत हो सकता है, इसीलिए अपने अनुमान से Margin of Sefety लेकर किसी भी शेयर को और ज्यादा सस्ता खरीद लीजिए। हर शेयर को खरीदने से पहले 15 से 20% तक का Margin of Sefety लेकर उसे और ज्यादा सस्ता खरीद लीजिए।

IPOs

दोस्तो IPOs को लेकर बहुत ही ज्यादा हव्वा रहता है की IPOs को लेकर नई कंपनी आई है और बहुत ही अच्छी कंपनी है और इसका फ्यूचर बहुत ही अच्छा रहेगा। लेकिन दोस्तो IPOs में investment करने से पहले बेंजामिन ग्राहम जी कहते हैं की आप पहले ध्यान में रखिए की IPOs आपको कौन बेच रहा है।

क्योंकि शेयर बाजार में नॉर्मल NSE – BSE Stock exchange से जब आप स्टॉक्स को खरीदते हैं, तब आपको आपके जैसा ही एक कॉमन इन्वेस्टर शेयर बेच रहा होता है। लेकिन जब आप IPOs में शेयर खरीद रहे होते हैं, तब कंपनी मर्चेंट बैंकर के साथ मिलकर आपको शेयर बेच रही होती है।

जब आप stock exchange से शेयर खरीदते है, तब बाजार प्राइस डिसाइड करता है और ऐसे में बहुत ज्यादा चांसेज रहते हैं की आपको स्टॉक्स under valued मिले। लेकिन अगर कंपनी खुद अपना शेयर मर्चेंट बैंकर के साथ मिलकर बेच रही है, तो 0% चांसेज रहते हैं की आपको वो शेयर under valued मिले।

दोस्तो अगर कंपनी का ऑनर खुद अपने शेयर को बेच रहा है , तो वो उसे महंगे में ही बेचेगा। इसीलिए जहा स्टॉक मार्केट आपको मौका देता है किसी भी शेयर को सस्ता खरीद ने का वही पर IPOs में एक तरह से guaranty रेहता है की आप शेयर को मेहंगे में ही खरीदेंगे।

और वैसे भी 5000 कंपनिया पहले से ही लिस्टेड है, तो उस एक नए IPOs के पीछे क्यों भागना। जब की IPOs को खरीदने का प्रोसेस भी आसान नहीं है। और वही पर स्टॉक मार्केट से आप आसानी से किसी भी शेयर्स को आसानी से खरीद सकते है, इसीलिए IPOs को अवॉइड करें।

दोस्तो यह थी The Intelligent Investor Book Summary in Hindi में, यह बुक समरी आप सभी को कैसी लगी नीचे कॉमेंट करके हमे जरूर बताएं। और उसके साथ ही अगर आपको यह बुक समरी पसंद आई होगी और आपके लिए उपयोगी साबित हुई होंगी, तो अपने दोस्तो के साथ इसे अवश्य शेयर कीजिए।

The Intelligent Investor in Hindi PDF Free Download

दोस्तो अगर आप The Intelligent Investor in Hindi PDF Free Download करना चाहते हैं? तो आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप The Intelligent Investor Book in Hindi PDF Free Download कर सकते है।

हमारे अन्य आर्टिकल्स :

The Intelligent Investor Book in Hindi AudioBook Free Download

दोस्तो अगर आप The Intelligent Investor Book in hindi AudioBook Free Download करना चाहते हैं? तो आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके kuku Fm App को फ्री में डाऊनलोड कीजिए और उसके बाद आप The Intelligent Investor AudioBook in hindi में सुन सकते है।

दोस्तो आज के इस The Intelligent Investor Book Summary in Hindi आर्टिकल में सिर्फ इतना ही, दोस्तो हम आपसे फिर मिलेंगे ऐसे ही एक इंट्रेस्टिंग और यूजफुल आर्टिकल के साथ तब तक के लिए आप जहा भी रहिए खुश रहिए और खुशियां बांटते रहिए।

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से शुक्रिया 🙏🙏🙏

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Leave a Comment