ये 7 गलतियाँ कर देती है मनुष्य का जीवन बर्बाद, जानिए कौन सी है वो?

ये 7 गलतियाँ कर देती है मनुष्य का जीवन बर्बाद, जानिए कौन सी है वो? – This Seven Mistake Can Ruin Your Life in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का नॉलेज ग्रो मोटिवेशनल ब्लॉग पर स्वागत है। दोस्तों आज के इस आर्टिकल के जरिये में आपको उन 7 गलतियों के बारे में बताने वाला हु , जिन्हें गौतम बुद्ध अकसर अपने शिष्यों को और संसारी लोगों को कभी न करने की सलाह देतें थे।

दोस्तों अगर आपको अपने जीवन में खुश रहना है, तो ये ७ गलतियाँ करना आज से ही बंद कर दीजिये। तो बिना समय को गवाए चलिए जानते है उन ७ गलतियाँ के बारे में, जो कर देती है मनुष्य का जीवन बर्बाद।

This Seven Mistake Can Ruin Your Life in Hindi
This Seven Mistake Can Ruin Your Life in Hindi

1. किसी को जबरदस्ती सलाह देना।

दोस्तों सबसे पहले ये समझिये की हम सलाह क्यूँ देना चाहते है? हम सलाह इसलिए देना चाहते है, क्यूँकी हम सामने वालें के नज़रों में बुद्धिमान बनना चाहते है। लेकिन इसका होता बिलकुल उलटा है, यानि की हम उसकी नजरो में मुर्ख बन जाते है।

दोस्तों देखिये लोग 2 तरह के होते है 1 वे जो बड़ी बड़ी गाथाएं कहते है और कहानियां कहते है, लेकिन लोगो पर उसकी बातो का कोई असर नहीं होता है। और दुसरे वे लोग जो केवल एक शब्द कहते है और लोगो का हदय कांप उठता है।

इसलिए ऐसे इन्सान बनिए की आपके एक एक शब्द की कीमत हो। एक छोटी सी घटना से आपको समझाता हु। एक बार गौतम बुद्ध एक वन के रस्ते से गुजर रहे थे, तभी एक सन्यासी उन्हें देखता है और उनकी तरफ आकर्षित होता है।

दोस्तों बुद्ध की तरफ आकर्षित होना स्वाभाविक था और फिर वो व्यक्ति बुद्ध से पूछता है की मुनिवर क्या आप कोई देवता है? बुद्ध कहते है की नहीं। फिर वह सन्यासी पूछता है की फिर क्या आप साक्षात इश्वर है? बुद्ध कहते है की नहीं।

फिर बुद्ध कहते है की में तुम्हारी ही तरह एक मनुष्य हु, बस फर्क सिर्फ इतना है की में जाग गया हु और तुम अभी सोये हुए हो।फिर वो सन्यासी बुद्ध से कहता है की आपके चेहरे के तेज को देखकर ही लगता है की आप एक सिद्ध पुरुष है।

इसलिए में ये जानना चाहता हु की आपके गुरु कौन है और किसके मार्गदर्शन ने आपको एक सिद्ध पुरुष बनाया? बुद्ध कहते है की प्ररम्भिक स्थर पर मेरे कई गुरु थे लेंकिन आत्मज्ञान के इस मार्ग पर में अकेला ही चला और मैंने सैकड़ो गलतिया करी, उसके बाद मैंने खुद ने ही आत्मज्ञान प्राप्त करा।

इतना सुनते ही वो सन्यासी आग बबूला हो जाता है और वो सन्यासी बुद्ध से कहता है की अरे जाओ जाओ मैंने तुम जैसे पाखंडी मैंने बहुत देखे है, तुम तो अपने गुरु से ही उन श्रेय छीन रहे हो। बुद्ध का उत्तर एकदम सही था लेकिन उस व्यक्ति के भितर बुद्ध का उत्तर गलत था।

इसके बाद बुद्ध अपना एक शब्द भी उस व्यक्ति को समझाने के लिए नहीं खर्च करते है। आगे चलकर उसे पता भी लग जाता है, लेकिन उस समय बुद्ध अपनी उर्जा और समय को बर्बाद नहीं करते। सूत्र यही है की सलाह या ज्ञान उसी को दो जिसे आवश्यकता है।

2. खुद को किसी वस्तु , व्यक्ति या स्थिति से बांध लेना।

दोस्तों ये जीवन दो रास्तो पर आधारित है: पहला या तो आप उन्नति करेंगे और फिर आप विनाश की और जायेंगे। तो एक बात निश्चित है की अगर आप इस समय उन्नति नहीं कर रहे है, तो आप विनाश कि और हर क्षण बढ़ रहे है। चाहे आपको ये बात पता हो या ना पता हो।

दोस्तों लोग नशे को इसीलिए नहीं छोडते क्यूँकी वे अभी ये नहीं जानते की वह भविष्य में कितना विनाशक हो सकता है। इसलिए जो चीजे आपके भविष्य में बाधक है, उन्हें धीरे धीरे करके ही सही लेकिन त्यागना तो आज से ही शुरू कर दें। फिर आपका जीवन धीरे धीरे करके बदलना शुरू हो जायेगा।

3. हर किसी की सलाह को गंभीरता से न लें

दोस्तों उसकी सलाह को गंभीरता से ना लें, जो सलाह देने के लायक नहीं है। कैसे ये जाने की कौन लायक है और कौन नहीं? ये बहुत आसान है, अगर कोई बुजुर्ग व्यक्ति है और उसका सब लोग आदर सन्मान करते है, सिर्फ इसलिए उसकी सलाह को गंभीरता से कभी मत लेना।

बुजुर्ग सही सलाह देते है, लेकिन हर बार ये बात सत्य हो ये सत्य नहीं है, दोस्तों अगर आप रस्योया (कुक) बनना चाहते है और सलाह लेते है किसी गायक से, तो हो सकता है की गायक आपको सलाह दे भी दे, लेकिन आपका खाना उस स्थर का नहीं बनेगा, जिस स्थर का आप बनाना चाहते है।

हर सलाह को अपने अनुभव की कसौटी पर खरा उतारें और बिना अनुभव करें किसी भी निष्कर्ष पर ना पहुचें। इसलिए दोस्तों हर किसी की सलाह को गंभीरता से न लें।

4. अपनी माँ का अपमान ना तो खुद करें और ना किसी से करने दें।

यदि इस पुरे संसार में तुम्हे कोई निस्वार्थ भाव से प्रेम करता है, तो वह है तुम्हारी अपनी माँ। दोस्तों गौतम बुद्ध की माँ जिनका नाम महामाया था, उन्होंने बुद्ध को जन्म देने के ७ दिन बाद ही अपना शरीर त्याग दिया था। उसके बाद बुद्ध की मौसी जिनका नाम रानी प्रजापति था, उन्होंने ही बुद्ध को पाला था।

गौतम बुद्ध ने अपनी शिक्षाओ में संसारियो को ये सलाह अक्सर दी है की वे अपनी माँ से प्रेम करे और उसका खयाल रखे और अपनी माँ का अपमान ना तो खुद करें और ना किसी से करने दें। पर मनुष्य का स्वभाव देखो कैसा है “वो उससे प्रेम करता है जो उससे प्रेम नहीं करता है।

दोस्तों जिन्हें लगता है की उनके पास जीवन में कुछ बड़ा करने की कोई बड़ी वजह नहीं है, तो आज में आपको एक बड़ी वजह दे देता हु। अपनी माँ के लिए कुछ बड़ा करो , उसे ऐसा जीवन दो जैसे की वह हकदार है।

5. दुसरे के बारे में सोचते रहना।

नोट: एक एक शब्द ध्यान से पढना…

दोस्तों अगर आप ध्यान से अवलोकन करे तो आप पाएंगे की आप पुरे दिन दूसरों के ही बारे में सोचते रहते है और फिर अंत में आपके हाथ में लगता है सिर्फ दुःख… इसलिए स्वार्थी बन जावो और खुद से प्रेम करो, लेंकिन एक बात याद रखना की खुद्द से प्रेम करने का अर्थ या स्वार्थी बनने का अर्थ ये नहीं होता की तुम किसी का अहित करो।

दोस्तों बुद्ध भी स्वार्थी बने थे तभी वे आत्मज्ञान को पा सकें। जब उन्हें खुद की आवश्यकता थी, तब उन्होंने अपने पिता पुत्र, पत्नी और राज्य किसी के बारे में भी नहीं सोचा और सिर्फ अपने बारे में ही सोचा और सबकुछ छोड़कर वन में चले गए। तो जीवन में स्वार्थी बनना भी आवश्यक है, लेकिन सही उदेश्य के लिए और जिससे किसी का बुरा भी न हो।

6. खुद को सबसे होशियार समझना और सीखना बंद करना।

दोस्तों हमारे समाज में बहुत से लोग ऐसे होते है, जो खुद को सबसे होशियार समझते है और हमेशा ये कहते रहते है की मुझे सब पता है। ऐसे लोग कभी भी कुछ भी नया सिखने की कोशिश नहीं करते है, जिसके कारन वे हमेशा पीछे रहते है।

दोस्तों जब हम ये बोलते है की मुझे सब पता है तो हम ज्ञान लेने के दरवाजे को खुद ही अपने हाथो से बंद कर देते है, जिसके कारन हम पीछे रहने लगते है। दोस्तों बिल गेट्स और वारेन बफेट जी अब भी दिन में ज्यादातर टाइम रीडिंग करते रहते है और कुछ ना कुछ नया सिखते रहते है।

दोस्तों इसलिए हमेशा कुछ न कुछ नया सिखते रहिये और तर्रकी करते रहिये। दोस्तों मैंने अपने एक आर्टिकल में आपके लिए ऐसी 10 किताबे पढने के लिए सुझाई हुई है, जो आपकी जिन्दगी बदल सकते है। आर्टिकल को पढने की लिंक निचे डी हुई है।

7. अपने समय को बर्बाद करना।

दोस्तों जो लोग हर दिन अपने समय को टाइम पास करके बर्बाद करते रहते है ना, उनको बाद में बहुत बड़ा पश्चाताप होता है। क्यूँकी दोस्तों एक बार समय हमारे हाथ से निकलकर चला गया ना, तो वो फिर से वापस कभी नहीं आता और ये हम सब को पता है।

दोस्तों हमारे पास कितना ही ज्यादा धन क्यों न हो , लेकिन हम उस धन से 1 second का भी समय खरीदकर वापिस नहीं ला सकते है। इसलिए हमारे पास अभी जितना भी समय बचा हुआ है, उसका हमें सदुपयोग करके कुछ ऐसा काम करना चाहिए, जिससे लोगो का और इस दुनिया का भला हो।

दोस्तों ये थी वो ७ गलतियाँ जो हमें हमारे जीवन में कभी भी नहीं करनी चाहिए और इन 7 गलतियों को अगर आप अपनी जिंदगी में कर रहे होंगे तो आपको इन ७ गलतियों को अभी से ही करना बंद कर देना चाहिए।

दोस्तों ये आर्टिकल आपको कैसा लगा? ये हमें निचे दिए गए कॉमेट बॉक्स में कमेंट करके जरुर बताइए। साथ ही अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया होंगा और आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होंगा, तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ अवश्य share कीजिये।

दोस्तों हम आपसे फिर मिलेंगे ऐसे ही एक सेल्फ हेल्प आर्टिकल के साथ, तब तक के लिए आप जहा भी रहिये खुश रहिये और खुशिया बाटते रहिये।

आपका बहुमूल्य समय हमें देने के लिए दिल से धन्यवाद…

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Leave a Comment